Wednesday, 24 October 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

अखिलेश ने बंगले में किया दस लाख का नुकसान रिपोर्ट-होगी रिकवरी

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 02, 2018, 10:11 am IST
Keywords: Akhilesh Yadav Ex Cm   SP President Akhilesh Yadav   Loss Ten Lacs   Bungalow Loss   Lucknow Bungalow  
फ़ॉन्ट साइज :
अखिलेश ने बंगले में किया दस लाख का नुकसान रिपोर्ट-होगी रिकवरी

लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर चार विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी बंगले को खाली करते समय तोडफ़ोड़ में करीब दस लाख रुपये का नुकसान होने का आंकलन किया गया है। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आवंटित इस बंगले में हुए नुकसान की नियमानुसार रिकवरी होगी।

बुधवार को राज्य संपत्ति अधिकारी को सौंपी 266 पेज वाली जांच रिपोर्ट मेंं अधिकतर नुकसान टाइल्स टूटने व टोटी और पाइप आदि गायब होने का दर्शाया गया है। नुकसान का आंकलन करने के लिए लोक निर्माण विभाग की पांच सदस्यीय टीम लगायी गयी थी। तोडफ़ोड़ के आरोपों की जांच कराने व सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों द्वारा खाली किए बंगलों की वीडियोग्राफी करने के निर्देश राज्यपाल रामनाईक ने दिए थे।

उन्होंने राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारियों को तलब कर पूरे मामले की जानकारी ली थी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखे पत्र में उचित कार्रवाई करने को भी कहा था। पत्र के बाद एक्शन में आए राज्य संपत्ति विभाग ने पीडब्लूडी से नुकसान का आंकलन करने के लिए कहा था।

गत 19 जून को पीडब्ल्यूडी ने तोडफ़ोड़ व नुकसान की जांच के लिए पांच सदस्यीय कमिटी गठित की थी। चीफ इंजीनियर (भवन) सुधांशु कुमार को इसका अध्यक्ष बनाया गया जबकि निर्माण निगम के एमडी, चीफ आर्किटेक्ट और भवन एवं इलेक्ट्रिकल विभाग के एक-एक इंजीनियर को भी शामिल किया गया था।

जांच रिपोर्ट को लेकर राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारी अधिक बोलने से कतरा रहे है। बुधवार को जांच रिपोर्ट मिलने के बाद राज्य संपत्ति अधिकारी योगेश कुमार शुक्ला ने बताया कि रिपोर्ट और साथ में मिली वीडियोग्राफी वाली सीडी का अध्ययन कराया जा रहा है।

विभागीय रिपोर्ट से मिलान करने के बाद असल नुकसान का पता चल सकेगा। उनका कहना था कि नुकसान पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। उल्लेखनीय है कि राज्य संपत्ति विभाग के भवनों में होने वाले नुकसान की रिकवरी आवंटी से की जाती है।

अन्य राजनीति लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack