गोवा का प्राकृतिक सौन्दर्य अद्भुतः गोवा में नागरिक अभिनंदन समारोह में राष्ट्रपति कोविन्द

गोवा का प्राकृतिक सौन्दर्य अद्भुतः गोवा में नागरिक अभिनंदन समारोह में राष्ट्रपति कोविन्द गोवा: भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द गोवा के दौरे पर पहुंचे, जहां उनका नागरिक अभिनंदन किया गया. राष्ट्रपति ने इस अवसर पर गोवा के नैसर्गिक प्राकृतिक सौंदर्य को अद्भुत बताया.

प्रस्तुत है अपने अभिनंदन समारोह में राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द का मूल सम्बोधन
 
1.    भारत का राष्ट्रपति बनने के बाद गोवा की यह मेरी पहली यात्रा है। इस अवसर पर आपके उत्साह भरे स्वागत के लिए मैं आप सभी गोवा के निवासियों को धन्यवाद देता हूँ।

2.    गोवा की राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा जी की प्रभावशाली साहित्यिक पृष्ठभूमि है। सार्वजनिक जीवन में उनका लंबा अनुभव है। उन्हे ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के एम्बेसडर के रूप में भी मनोनीत किया गया है। गोवा के यशस्वी मुख्यमंत्री, यहाँ के son-of-the-soil, श्री मनोहर पर्रिकर जी ने, देश के रक्षामंत्री और राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में अपनी कुशलता, व्यक्तित्व की सरलता और प्रामाणिकता के बल पर, भारत में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व फलक पर, गोवा का गौरव बढ़ाया है। यह सुखद संयोग है कि पर्रिकर जी, राज्यसभा में, उत्तर प्रदेश से निर्वाचित होकर आए थे, जहां मेरा जन्म-स्थान है। मेरी शुभकामना है कि वे पूर्णतया स्वस्थ रहते हुए, गोवा को अपना सक्षम और कुशल नेतृत्व प्रदान करते रहें।

3.    गोवा का प्राकृतिक सौन्दर्य अद्भुत है। इस प्राकृतिक सौन्दर्य, पर्यावरण और समुद्री संपर्क के कारण सदियों से गोवा पूरी दुनियाँ के लोगों को आकर्षित करता रहा है। यह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का एक प्रमुख केंद्र रहा है। पूर्व में जापान से लेकर दक्षिण में अफ्रीका और पश्चिम में यूरोप तक गोवा में अनेक देशों के लोगों का आवागमन होता रहा है। दुनियाँ से व्यापक संपर्क के जरिए विकसित आप सभी गोवा-वासियों की सोच आपको सही मायने में ग्लोबल सिटीजन बनाती है। हाल ही में, सेशेल्स के राष्ट्रपति अपनी भारत यात्रा के दौरान अपनी आण्टी से मिलने गोवा आए थे, जिसका जिक्र उन्होने मेरे साथ हुई भेंट वार्ता में साझा किया।   

4.    मुझे ऐसा लगता है कि गोवा में आना खुशी मनाने का पर्याय माना जाता है। नए साल का स्वागत करने के लिए देश-विदेश से लोग गोवा आते हैं। मेरे खयाल से क्रिसमस और नए साल के बीच गोवा में शायद ही कोई जगह खाली रहती होगी। मॉनसून के दौरान भी गोवा आने के लिए पर्यटकों में विशेष उत्साह रहता है। संयोग से मेरी यह गोवा यात्रा भी मॉनसून के दौरान ही हो रही है। पर्यटन केंद्र के रूप में गोवा की इस लोकप्रियता के पीछे समुद्र तट और जलवायु का आकर्षण तो है ही, गोवा-वासियों का अतिथि सत्कार भी एक मुख्य कारण है। इसके लिए आप सब की जितनी सराहना की जाए वह कम है।

5.    मुझे बताया गया है कि इस अभिनंदन समारोह में गोवा के मुक्ति-संग्राम में भाग लेने वाले सेनानी भी उपस्थित हैं। उन्हे मेरा विशेष नमस्कार! गोवा में आजादी की अलख जगाने वालों में टी. बी. कुन्हा का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। उन्होने एक विशाल जनसभा को संबोधित करने के लिए डॉक्टर राम मनोहर लोहिया को आमंत्रित किया था। 18 जून, 1946 को आयोजित उस जनसभा में डॉक्टर लोहिया ने गोवा के लोगों को तत्कालीन शासन के दमन और शोषण के खिलाफ आवाज उठाने के लिए प्रेरित किया। उस ऐतिहासिक जनसभा की स्मृति में आप सभी हर साल 18 जून को ‘क्रान्ति-दिवस’ मनाते हैं। अंततोगत्वा, 19 दिसंबर 1961 को, स्वतन्त्रता सेनानियों का, गोवा की आज़ादी का सपना, पूरा हुआ।

6.    गोवा के निवासियों का उल्लास और आनंद यहाँ के संगीत, नृत्य, खान-पान और पहनावे में भी देखा जाता है। गोवा में Cosmopolitan Culture का उदाहरण दिखाई देता है। प्रसिद्ध कार्टूनिस्ट मारियो मिरांडा ने गोवा की संस्कृति और जीवन के रोचक चित्रों से सबका परिचय कराया था। जैसा कि हम सब जानते हैं कि देश की सुर साम्राज्ञी, भारत रत्न से अलंकृत लता मंगेशकर के पूर्वज गोवा के मंगेश नामक गाँव के रहने वाले थे। यहाँ के ‘मंगेशी मंदिर’ और ओल्ड गोवा में स्थित ‘बॉम जीसस’ के बैसिलिका में अनेकों श्रद्धालु और पर्यटक जाया करते है। मुझे भी कल वहाँ जाने का अवसर प्राप्त हो रहा है।

7.    रूस में चल रहे वर्ल्ड कप सॉकर टूर्नामेंट के कारण आजकल फुटबाल का माहौल है। गोवा में सन 2017 में Under 17 FIFA World Cup के मैच आयोजित किए गए थे। फुटबाल, गोवा में लोकप्रिय है और यहाँ के फुटबाल क्लब बहुत मशहूर रहे हैं। ब्रह्मानन्द संखवालकर जैसे खिलाड़ियों ने फुटबाल जगत में गोवा का नाम रौशन किया है।

8.    गोवा महत्वपूर्ण राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय आयोजनों का प्रमुख केंद्र बन गया है। यहाँ प्रतिवर्ष ‘इन्टरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया’ का आयोजन होता है जिसमे पूरी दुनिया से हजारों सिनेमा प्रेमी आते है। सन 2016 में आठवें BRICS Summit का आयोजन भी यहीं हुआ था जहां प्रसिद्ध Goa Declaration को adopt किया गया था।  

9.    प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रति-व्यक्ति आय की दृष्टि से, गोवा देश में दूसरे नंबर पर है और यहाँ की प्रति-व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत से लगभग ढाई गुना अधिक है। साथ ही स्वास्थ्य और शिक्षा के मानकों पर भी गोवा देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है। गोवा का औसत जीवन-स्तर अपेक्षाकृत बेहतर है। इन उपलब्धियों के लिए मैं गोवा के आप सभी निवासियों को बधाई देता हूँ।  

10.    मुझे यह जानकर खुशी हुई है कि शिक्षा, स्वास्थ्य, समाज-कल्याण और इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी के क्षेत्रों में राज्य ने प्रभावी कदम उठाए हैं। मोपा में इन्टरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण किया जा रहा है। मुझे बताया गया है कि मांडोवी और ज़ुआरी नदियों पर नए पुल बनाए जा रहे हैं जिनसे आवा-गमन में बहुत सुविधा होगी। राजधानी पणजी को ‘स्मार्ट सिटी मिशन’ तथा Atal Mission For Rejuvenation and Urban Transformation (AMRUT) में शामिल किया गया है। इन्फ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं में निरंतर विकास करने से गोवा में नागरिकों को सहूलियत होगी तथा पर्यटन को और अधिक बढ़ावा मिलेगा।  

11.    समुद्र से गोवा का गहरा रिश्ता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओशेनोग्राफी गोवा में ही स्थित है। यहाँ भारतीय नौसेना की महत्वपूर्ण उपस्थिति है। नेवल एयर स्टेशन INS Hansa, तथा Logistics and Maintenance support के लिए INS Gomantak गोवा समुद्र तट पर हैं। एक मिशन के तहत, आठ महीनों में पृथ्वी की परिक्रमा करके, छ: महिला नाविकों की एक टीम पणजी बन्दरगाह पर, इसी साल मई के महीने में लौटी। उनकी शिप INSV Tarini का निर्माण गोवा में ही हुआ था। उन बहादुर बेटियों से राष्ट्रपति भवन में मेरी मुलाक़ात हुई थी। उन्हे भारत सरकार द्वारा नारी-शक्ति पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है।  

12.    मुझे यह जानकर विशेष प्रसन्नता हुई है कि गोवा में राज्य सरकार द्वारा महिलाओं के सशक्तीकरण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है और ‘लाड़ली लक्ष्मी योजना’ तथा ‘गृह आधार योजना’ को कार्यरूप दिया जा रहा है। गोवा में एक ‘कॉमन सिविल कोड’ है जिसके तहत सभी गोवा निवासी महिलाओं और पुरुषों को समान अधिकार प्राप्त हैं। यह ‘कोड’ हमारे संविधान में दिये गए समता के आदर्श को दर्शाता है और पूरे देश के लिए एक अच्छा उदाहरण प्रस्तुत करता है। मैं आशा करता हूँ कि गोवा के आप सभी निवासी अपने राज्य की समृद्धि और देश के विकास में अपना निरंतर योगदान देते रहेंगे।

13.    हमारे लोकतन्त्र का प्रतीक और देश की धरोहर ‘राष्ट्रपति भवन’ आप सब का भी भवन है। मैं आप सब को ‘राष्ट्रपति भवन’ में आने और उसे देखने का आमंत्रण देता हूं। आप जब भी दिल्ली की यात्रा करें, राष्ट्रपति भवन में आप सभी का स्वागत है।

14.    आज आप सबने मेरा जो अभिनंदन किया है उसके लिए मैं पुनः आप सबको धन्यवाद देता हूँ, और आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूं।
अन्य देश लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack