Thursday, 20 September 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

पत्रकारों की सुरक्षा विषय पर परिचर्चा की तैयारी जोरों पर, कार्यक्रम विवरण

पत्रकारों की सुरक्षा विषय पर परिचर्चा की तैयारी जोरों पर, कार्यक्रम विवरण
औरंगाबाद: इंडियन मीडिया वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन, नई दिल्ली के तत्वावधान में आगामी 15 जुलाई 2018 को बिहार के औरंगाबाद जिला मुख्यालय स्थित बंधन रिसोर्ट में पत्रकारों की सुरक्षा विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया है, जिसमें देश के सभी राज्यों के पत्रकार सहित पड़ोसी देश श्रीलंका सहित अन्य देशों के पत्रकार के साथ साथ केन्द्र एवं राज्य सरकार के मंत्री भी शामिल हो रहे हैं.
 
राष्ट्रीय सचिव सह बिहार प्रभारी सूरज कुमार पाण्डेय ने बताया कि संगठन के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक भी होगी, जिसमें राष्ट्रीय कार्यकारिणी का चुनाव भी करया जायेगा। पाण्डेय ने कहा कि 15 जुलाई 2०18 रविवार को 11 बजे दिन सेे दोपहर 2 बजे तक खुला अधिवेशन होगा, जिसमें पत्रकारों की सुरक्षा किस प्रकार हो सकती है, इस पर चर्चा की जायेगी तथा समाधान की दिशा में पहल की जायेगी।

इसके बाद राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होगी जिसमें अगले सत्र के लिए राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पदाधिकारियों का चुनाव होगा। चुनाव के बाद सभी राज्यों के प्रभारी भी मनोनित किए जाएंगे। पाण्डेय ने बताया कि इससे पहले बिहार राज्य के कार्यकारिणी का भी गठन किया जायेगा.
 
वहीं 16 जुलाई को विश्व प्रख्यात सतबहिनी देवी, भगवान भास्कर नगरी देव स्थित सूर्यमंदिर, राजा-रानी का तालाब एवं बोधगया स्थित बोधगया का भ्रमण बाहर से आये पत्रकारों को कराया जायेगा। पाण्डेय ने कहा कि यह कार्यक्रम ऐतिहासिक होगा तथा बाहर से आये हुए पत्रकार औरंगाबाद को यादगार बना कर जायेंगे, इसकी सभी तैयारी पुरी हो चुकी है.

पाण्डेय ने बताया कि जिला संयोजक डा अमीत मिश्र को कार्यक्रम का संयोजक तथा पथ प्रदर्शक स्वयंसेवी संस्था के सचिव बमेन्द्र कुमार सिंह को स्वागताध्यक्ष बनाया गया है। कार्यक्रम में आने वाले पत्रकार प्रतिनिधियों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो, इसके लिए स्थानीय पत्रकारों का भरपूर सहयोग मिल रहा है। इसके लिए सभी स्थानीय पत्रकार कार्यक्रम की तैयारी की जायजा ले रहे हैं तथा अपना सुझाव भी दे रहे हैं.
 
पाण्डेय ने बताया कि इस अवसर पर वरिष्ठ कवि नीलांशु रंजन एव अन्य कवियों द्वारा हास्य कवि समेलन भी होगा, वहीं सरोज तिवारी के गीतों का भी आनंद उठाया जाएगा।
अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack