जयनगर विधानसभा सीट पर कांग्रेस की सौम्या रेड्डी का कब्जा, पार्टी की सीटों की संख्या हुई 80

जनता जनार्दन संवाददाता , Jun 13, 2018, 17:20 pm IST
Keywords: Congress   Jayanagar assembly seat   Sowmya Reddy   BJP   B N Prahlad   Karnataka Assembly elections   Jayanagar constituency   Sowmya Reddy wins   जयनगर विधानसभा सीट   सौम्या रेड्डी   निर्वाचन आयोग  
फ़ॉन्ट साइज :
जयनगर विधानसभा सीट पर  कांग्रेस की सौम्या रेड्डी  का कब्जा, पार्टी की सीटों की संख्या हुई  80 नई दिल्ली: कांग्रेस ने बेंगलुरू की जयनगर विधानसभा सीट पर बुधवार को जीत हासिल कर ली है. कांग्रेस की सौम्या रेड्डी ने बीजेपी के अपने प्रतिद्वंद्वी से 3775 मतों के कम अंतर से जीत हासिल की है. निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि सौम्या को कुल 54,045 जबकि भाजपा के बी.एन. प्रह्लाद को 50,270 वोट मिले. बीजेपी उम्मीदवार बी.एन विजय कुमार के निधन के बाद 12 मई को इस सीट पर चुनाव रद्द कर दिया गया था. उनका चार मई को निधन हो गया था.

इसके बाद इस सीट पर बीते सोमवार को चुनाव हुए. बीजेपी ने विजय कुमार के छोटे भाई बी.एन प्रह्लाद को इस सीट पर उम्मीदवार बनाया था. सौम्या कांग्रेस नेता व पूर्व गृह राज्य मंत्री रामालिंगा रेड्डी की बेटी हैं. इस जीत के बाद रामलिंगा रेड्डी के निवास पर जश्न मनाया गया. कार्यकर्ताओं ने पटाखे चलाकर अपनी खुशी जताई. सौम्या ने कहा कि यह जीत सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं की जीत है. 225 सदस्यीस कर्नाटक विधानसभा में कांग्रेस विधायकों की संख्या अब 80 हो गई है.

इस सीट पर 11 जून को मतदान हुआ था. चुनाव आयोग के मुताबिक, जयनगर के कुल 216 पोलिंग बूथों पर 55 फीसद मतदान दर्ज किया गया था.

बता दें, इस सीट से चुनाव लड़ रहे बीजेपी के नेता और मौजूदा विधायक बीएन विजय कुमार का मतदान से कुछ दिन पहले ही निधन हो गया था. इसकी वजह से चुनाव आयोग ने मतदान स्थगित कर दिया था. इसी बीच कर्नाटक में एमएलसी चुनाव का नतीजा भी आ गया है. इसमें बीजेपी को 3, जेडीएस को 2 और कांग्रेस को 1 सीट मिली है

जयनगर विधानसभा सीट से कांग्रेस ने सिद्धारमैया सरकार में गृह मंत्री रहे रामालिंगा रेड्डी की बेटी सौम्या रेड्डी को उतारा है. सौम्‍य के पक्ष में जेडीएस ने इस सीट पर अपना उम्‍मीदवार नहीं उतारा. वहीं, बीजेपी ने अपने दिवंगत विधायक बीएन विजयकुमार के भाई बी.एन प्रहलाद को टिकट दिया है. जयनगर सीट पर कुल 19 उम्‍मीदवार अपना भाग्‍य आजमा रहे हैं. हालांकि इस सीट पर कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही टक्‍कर है.

कर्नाटक में चुनाव से ठीक पहले 4 मई को बीजेपी उम्मीदवार बीएन विजय कुमार की चुनाव प्रचार के दौरान दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी. दरसअल हर दिन की तरह 3 मई को भी विजयकुमार अपने समर्थकों के साथ चुनाव प्रचार के लिए निकले थे. प्रचार के दौरान देर शाम 59 साल के विजयकुमार अचानक गिर गए, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया.

जयदेव इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी में कुछ घंटों तक डॉक्टरों ने उनका इलाज किया. लेकिन उन्हें बचाया न जा सका. 4 मई की सुबह करीब 1 बजे बीजेपी नेता ने आखिरी सांस ली. बीएन विजयकुमार जयानगर विधानसभा सीट से दो बार के विधायक रहे थे. एक बार फिर बीजेपी ने उनपर भरोसा जताया था और टिकट दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विजय कुमार की मौत पर दुख जाहिर किया है. उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार की मौत पर संवेदना व्यक्त की थी.

जेडीएस और कांग्रेस ने 12 मई के विधानसभा चुनाव के त्रिशंकु नतीजे आने के बाद राज्य में गठबंधन किया था. सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते राज्यपाल से मिले न्योते के बाद भाजपा ने सरकार बनाई थी, लेकिन विश्वास मत का सामना किए बगैर ही 19 मई को बीएस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद कुमारस्वामी ने कर्नाटक के सीएम के तौर पर 23 मई को शपथ ली थी.

जयनगर सीट से पहले कांग्रेस ने बेंगलुरु शहर में राजराजेश्वरी नगर विधानसभा सीट पर हुए चुनाव में 25 हजार से ज्यादा वोटों के साथ जीत हासिल की थी. गठबंधन के बाद भी कांग्रेस और जेडीएस ने इस सीट पर एक - दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रहे थे.

कांग्रेस के एन मुनिरत्ना को 1 लाख 8 हजार 64 वोट मिले थे . जबकि उनके सबसे नजदीकी प्रतिद्वंद्वी और बीजेपी उम्मीदवार तुलसीमुनि राजू गौड़ा को 82 हजार 572 वोट मिले थे. जबकि जेडीएस को 60 हजार 360 वोट प्राप्त हुए.

बीते 12 मई को कर्नाटक में विधानसभा चुनाव हुए थे लेकिन राजराजेश्वरी नगर सीट पर वोटर आईडी विवाद के चलते मतदान टाल दिए गए थे. इसके बाद 28 मई को वोटिंग हुई और 31 मई को आई नतीजे में कांग्रेस ने जीत हासिल करने में कामयाब रही
अन्य राज्य लेख
Niva Ply, Plywood for Generations
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack