नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, सेना ने मारे 6 आतंकवादी ढेर, 1 जवान शहीद, 1 घायल

नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, सेना ने मारे 6 आतंकवादी ढेर, 1 जवान शहीद, 1 घायल  श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने रविवार को छह आतंकवादियों को मार गिराया है. ये सभी कुपवाड़ा के केरन सेक्टर के समीप भारतीय सीमा में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे थे. इसमें 1 जवान शहीद और 1 घायल बताया जा रहा है. 

कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर तैनात सैनिकों ने आतंकवादियों के एक समूह को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की ओर से भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास करते देखा. समर्पण के लिए ललकारे जाने पर आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी.

सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलायी. कर्नल कालिया ने बताया कि दोनों पक्षों के बीच मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गये. बाद में भागने के प्रयास में एक और आतंकवादी मारा गया. सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के दौरान बाद में दो और आतंकवादियों की मौत हो गयी. मुठभेड़ में अब तक छह आतंकवादी मारे गये हैं. उन्होंने बताया कि अंतिम रिपोर्ट मिलने तक मुठभेड़ जारी है. फिलहाल सुरक्षाबल इलाके में तलाशी अभियान चला रहे हैं.

इससे पहले भी सेना ने जम्मू कश्मीर के माछिल सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर तीन आतंकवादियों को मार गिराने के साथ ही घुसपैठ की कोशिश आज नाकाम कर दी. सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सैनिकों ने कुपवाड़ा जिले के माछिल सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संदिग्ध गतिविधि देखने के बाद घुसपैठियों को ललकारा. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए. इलाके में तलाशी अभियान चल रहा है.

मंगलवार को उत्तरी कश्मीर के बांदीपुरा जिले के हज्जन थाने के पास स्थित सेना के एक शिविर पर आतंकवादियों ने हथगोले फेंके. पुलिस ने कहा कि आतंकवादियों ने मंगलवार रात करीब साढे आठ बजे सेना की 30 राष्ट्रीय राइफल्स के शिविर पर अंडरबैरल ग्रेनेड लॉन्चर के जरिये हथगोले फेंके. आतंकवादियों ने दो तरफ से थाने से सटे शिविर पर हथगोले फेंके. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि हमले का ‘असरदार तरीके से ’ जवाब दिया गया. यह आत्मघाती हमला नहीं था. अधिकारी ने कहा कि क्षेत्र को घेर लिया गया और खोजी अभियान चलाया गया है.

इससे पहले बीते रविवार को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में सैन्य शिविर पर भी आतंकी हमला हुआ था. इस आंतकवादी हमले में सेना का एक जवान शहीद हो गया था.वहीं, एक नागरिक की भी मौत हो गई थी. घटना के बाद पुलिस ने बताया कि रमजान के पाक महीने में किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने की केन्द्र सरकार की घोषणा के बाद यह पहला आतंकवादी हमला था.

विदेश मंत्रालय ने बीते 7 जून को बताया था कि पाकिस्तान की ओर से इस वर्ष संघर्षविराम उल्लंघन की 1000 से अधिक घटनाएं हुई हैं और भारत उम्मीद करता है कि पाकिस्तान 2003 के संघर्षविराम समझौते का पालन करेगा.
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि पाकिस्तान की ओर से संघर्षविराम उल्लंघनों का इस्तेमाल आतंकवादियों की घुसपैठ में सहायता प्रदान करने के लिए किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि सीमा पर जब भी बिना उकसावे का कोई हमला होता है तो पाकिस्तानी पक्ष के साथ मामले को मजबूती से उठाया जाता है क्योंकि इसमें जानमाल का नुकसान जुड़ा होता है. उन्होंने एक सवाल के उत्तर में कहा, ‘‘अकेले 2018 में पाकिस्तान की ओर से संघर्षविराम उल्लंघन की 1000 से अधिक घटनाएं हुई हैं. हमारा यह कहना है कि पाकिस्तान की ओर से संघर्षविराम उल्लंघन का इस्तेमाल आतंकवादियों की हमारे क्षेत्र में घुसपैठ को कवर देने के लिए किया जाता है तथा हमने पूर्व में ऐसी घुसपैठों के परिणाम देखे हैं. हम उम्मीद करते हैं कि पाकिस्तान को इसका अहसास होगा कि वह क्या कर रहा है और वह 2003 के संघर्षविराम समझौते का पालन करेगा.’’
अन्य सुरक्षा लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack