Thursday, 21 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

गुजरात के कच्छ में भारतीय वायुसेना का 'जगुआर' विमान गिरा, पायलट एयर कमोडोर संजय चौहान शहीद

गुजरात के कच्छ में भारतीय वायुसेना का 'जगुआर' विमान गिरा, पायलट एयर कमोडोर संजय चौहान शहीद नई दिल्लीः गुजरात के कच्छ में रूटीन ट्रेनिंग के दौरान वायुसेना का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में पायलट संजय चौहान शहीद हो गए। संजय चौहान वायुसेना में एयर कमोडोर के पद पर थे। बताया जा रहा है कि जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट ने जामनगर से उड़ान भरी थी, तभी अचानक क्रैश हो गया।

एयर कमोडोर संजय चौहान एक कुशल पायलट थे. उनके असामयिक निधन पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गहरा दुख व्यक्त किया है. बताया जा रहा है कि रूटीन ट्रेनिंग मिशन के दौरान जगुआर एयरक्राफ्ट ने जामनगर से सुबह करीब 10.30 बजे उड़ान भरी थी। हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

कई किलोमीटर के दायरे में विमान का मलबा गिरा। गुजरात के एक अधिकारी ने बताया, ' रूटीन ट्रेनिंग के दौरान विमान बरेजा गांव के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया।' वहीं, स्थानीय लोगों ने बताया कि गांव के बाहरी इलाके में दूर तक विमान का मलबा गिरा पड़ा है। इस हादसे में जानवरों को भी नुकसान पहुंचा। विमान क्रैश की चपेट में आकर कई जानवर घायल हो गए।

अप्रैल में, उत्तराखंड के केदारनाथ में एक एम 17 हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया, लेकिन बोर्ड के सभी छह लोग बच गए। मार्च में, ओडिशा के मयूरभंज जिले में एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। पायलट विमान से बाहर निकलने में सक्षम था, लेकिन घायल हो गया था।और फरवरी में असम में एक माइक्रोलाइट हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें दो पायलट मारे गए थे।

जगुआर विमान खासियत

- जगुआर काफी खास किस्म का लड़ाकू विमान है।
- यह दुश्मन की सीमा में अंदर घुसकर दुश्मनों पर हमला कर सकता है।
- जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट की मदद से आसानी से दुश्मन के कैंप, एयरबेस और वॉरशिप्स को निशाना बनाया जा सकता है।
- भारत और फ्रांस के सहयोग से इसका निर्माण और रखरखाव मिलकर किया जा रहा था।
अन्य वायु सेना लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack