प्रधानमंत्री मोदी ने दिया 4 साल का रिपोर्ट कार्ड, अमित शाह का दावा 2019 में भाजपा ही लौटेगी

प्रधानमंत्री मोदी ने दिया 4 साल का रिपोर्ट कार्ड, अमित शाह का दावा 2019 में भाजपा ही लौटेगी नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ने शनिवार को अपना चार साल पूरा कर लिया है. इसी दिन मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लिया था. उनका दावा है कि उन्होंने देश को बदल दिया, और जनता चाहे तो उनके काम का आंकलन कर सकती है.

मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर जहां सत्ता पक्ष के लोग इसे उपलब्धियों से भरा बता रहे हैं वहीं विपक्ष मोदी सरकार को हर मोर्चे पर विफल बता रही है. बहरहाल नरेंद्र मोदी ने चार साल के कार्यकाल पूरा करने पर एक वीडियो ट्वीट किया है. 5 मिनट और 15 सेकंड के इस वीडिया में मोदी ने अपना रिपोर्ट कार्ड दे दिया है. उन्‍होंने सरकार की चौथी वर्षगांठ पर अपनी उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा कि पिछले चार सालों में विकास एक जन आंदोलन बन गया है.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा,  2014 में आज ही के दिन हमने भारत के बदलाव की दिशा में काम करने की अपनी यात्रा शुरू की थी. उन्होंने कहा, पिछले चार वर्षों में, विकास एक जीवंत जन आंदोलन बन गया है, देश का हरेक नागरिक भारत के विकास पथ से अपने को जुड़ा हुआ महसूस कर रहा है. 125 करोड़ भारतीय भारत को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का काम कर रहे हैं.

साफ नीयत, सही विकास हैशटैग के साथ मोदी ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को रेखांकित करने वाली कई चार्टों, ग्राफिक्स और वीडियो की एक लंबी सूची भी पोस्ट किया. उन्होंने कहा, मैं अपने देशवासियों का हमारी सरकार में उनके अविश्वसनीय भरोसा के लिए आभार व्यक्त करता हूं. यह समर्थन और स्नेह पूरी सरकार के लिए प्रेरणा और ताकत का सबसे बड़ा श्रोत है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार इसी जोश और समर्पण के साथ लोगों की सेवा करती रहेगी. उन्होंने लिखा, हमारे लिए, हमेशा ‘पहले भारत' है. मोदी ने कहा कि पूरी सत्यनिष्ठा और साफ नीयत के साथ उनकी सरकार ने भविष्योन्मुख और लोगों के अनुकूल फैसले लिए हैं, जो एक नए भारत की नीव रखने का काम कर रहा है.

वर्ष 2014 में भाजपा के चुनावी अभियान का प्रमुख नारा 'अच्छे दिन' था. भाजपा की जीत में इस नारे की अहम भूमिका मानी जा रही थी. हालांकि बाद में विपक्ष इस नारे को लेकर ही सरकार को घेरता रहा और बार-बार सवाल खड़े किये कि क्या 4 साल पहले सरकार ने जिस 'अच्छे दिन' का वादा किया था वे आ गए? अब अगले साल फिर आम चुनाव की तैयारी में लगी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से यही सवाल पूछा गया.

भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के 4 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित प्रेस वार्ता में इस सवाल के जवाब में अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार के चार साल के कार्यकाल में कल्याणकारी योजनाओं से 22 करोड़ गरीब परिवारों को फायदा मिला है और इसने एक उदाहरण पेश किया है कि कैसे एक जनहितैषी सरकार चलाई जाती है. कोई भी इसका सत्यापन कर सकता है.

मौजूदा सरकार ने देश के आत्म-गौरव को सबसे ऊंचे स्तर तक बढ़ाया है. हर क्षेत्र में ठोस कदम उठाए हैं. इसने दिखाया है कि सरकार किसान हितैषी भी हो सकती है और उद्योगों की भी मदद कर सकती है और एक साथ ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों को विकसित कर सकती है.

अमित शाह ने कहा कि हमनें देश की सरहदों को सुरक्षित रखा और महिलाओं की स्थिति सुधारने की दिशा में कार्य किया. सरकार ने बीते 4 वर्षों में अपने वादों को पूरा करने के लिए काफी पहल की है. अभी 1 वर्ष और बचे हैं और इन 1 वर्षों में तमाम गावों को सभी समस्याओं से 100 फीसद छुटकारा दिलाने की कोशिश होगी. इस दौरान रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक प्रस्तुति दी जिसका मूल वाक्य ‘‘बदलते भारत के 48 महीने’’ था.

सीतारमण ने कहा कि सरकार के चार साल के कार्यकाल में देश में स्वच्छता कवरेज 2014 में 38 फीसदी से बढ़कर 2018 में 83 फीसदी हो गया जिसमें 7.25 करोड़ से ज्यादा शौचालयों का निर्माण किया गया. उन्होंने कहा कि 3.6 लाख गांवों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया गया.

सीतारमण ने कहा कि 31.52 करोड़ से ज्यादा जन धन खाते खोले गए और 5.22 करोड़ परिवारों को 330 रुपए के वार्षिक प्रीमियम पर दिए गए जीवन बीमा कवर से फायदा हुआ.

उन्होंने कहा कि 2013-2017 के बीच वर्तमान मूल्यों में भारत के जीडीपी में 31 फीसदी बढ़ोतरी हुई जबकि इसी अवधि में वैश्विक बढ़ोतरी चार फीसदी रही. उन्होंने किसानों की आय दोगुना करने और महिला सुरक्षा के लिए सरकार की ओर से उठाए गए कदमों का भी जिक्र किया.

इस मौके पर केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी और सुषमा स्वराज सहित कई अन्य भाजपा नेता भी मौजूद थे.
अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack