सनातन गौरव दिवस के रूप में मनाया जाएगा शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती का जन्मदिन

सनातन गौरव दिवस के रूप में मनाया जाएगा शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती का जन्मदिन पटना: बिहार की राजधानी में प्रबुद्ध और आध्यात्मिक रुझान वाले लोगों ने जगतगुरु शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती जी महराज के जन्मदिवस को सनातन गौरव दिवस के रूप में देश भर में मनाने का फैसला लिया है. इस दिन तय हुआ है कि हर घर में दीपक जलाकर नकारात्मक ऊर्जा को रोका जाएगी.

पीठ के प्रचार मंत्री एवं गौरव दिवस के संयोजक शैलेश तिवारी ने विशेष बातचीत में बताया कि आषाढ़ कृष्ण त्रियोदशी तारीख 11 जुलाई 2018 को जगद्गुरु शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती जी के जन्म दिवस को सनातन गौरव दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया गया है. उस दिन लोग एक जगह इकट्ठा होकर उत्सव मनाएंगे. बिहार की धरती पर जन्में पुरी पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती जी के जन्म दिवस पर इस कार्यक्रम के आयोजन का फैसला विश्व भर में फैले सनातन समुदाय के लोगों से व्यापक विचार विमर्श के बाद लिया गया है.

तय हुआ है कि उत्सव के इस क्रम में प्राथमिक और धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजन के साथ ही 11 जुलाई को सभी घरों में दीपक जलाकर नकारात्मक ऊर्जा को रोका जाएगा. एवं वृक्षारोपण का भी कार्यक्रम किया जाएगा. गौरतलब हो कि महाराज श्री के पुरी पीठ पर आसीन हुए इस साल न केवल 25 वर्ष पूरा हो रहा है बल्कि महाराज श्री का 75वां जन्म महोत्सव भी इसी वर्ष मनाया जाएगा.

घरों में दीप जलाकर नकारात्मकता को दूर किये जाने के साथ ही वृक्षारोपण के द्वारा पर्यावरण की रक्षा का भी संकल्प लिया गया. विश्व भर के कोने-कोने में फैले सनातन समुदाय के लोग इस दिन खुशियां मनाएंगे. लोग अपने-अपने इलाकों में एक जगह इकट्ठा होकर उत्सव मनाएंगे. साथ में  एक बड़ा कार्यक्रम महराज जी के गांव (वर्तमान में मधुबनी के हरिपुर बकतीटोला) में भी होगा जिसमें पीठ से जुड़े लोग विशेष कर बिहार के लोग उनके पैतृक गांव में जुट कर 1 लाख 75 दीप जलाएंगे, साथ में 75 आम के वृक्षों का वृक्षारोपण भी करेंगे.

इस कार्यक्रम के बाद प्रसाद रूपी सार्वजनिक भोज भी आयोजित किया गया है. तिवारी ने आगे बताया कि बिहारवासियों के लिए यह बड़े ही गर्व की बात है कि पूरी पीठाधीश्वर महराज निश्चलानंद सरस्वती जी बिहार से आते हैं और उनके सम्मान एवं सनातन धर्म के लिए ऐसा करना गौरव की बात होगी. इस कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ इंदिरा झा के नेतृत्व में आयोजित कार्यक्रम को संचालित करने के लिए एक विशेष टीम बनाई गई है, जिसमें विवेक विकास, विनोद राय, डॉ नरेश झा, डॉ मनोज ठाकुर एवं जयप्रकाश महंत प्रमुख हैं.
अन्य खास लोग लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack