प्रशासन को सद्बुद्धि आए, इसलिए 'कुबुद्धि स्वाहा मंत्र' के साथ दी गई आहुति

प्रशासन को सद्बुद्धि आए, इसलिए 'कुबुद्धि स्वाहा मंत्र' के साथ दी गई आहुति औरंगाबाद: प्रशासन को पटरी पर लाने के लिए औरंगाबाद जिले के लोगों ने बजाय विरोध प्रदर्शन करने के हवन कर भगवान से मदद मांगी है. यहां के  नावाडीह के काली मंदिर तथा ब्लॉक कॉलोनी के शिव मंदिर पर कार्यकर्ताओं व प्रशासन के सद्बुद्धि निमित्त लोक जागरण मंच के द्वारा हवन यज्ञ का आयोजन किया गया, जिसमें शहर की महिलाओं ने बढ़-चढ़ के भाग लिया. मंच के संयोजक विरेन्द्र कुमार ने बताया की यज्ञ में हजारो की संख्या में महिलाएँ व पुरुष ने आहुति दी तथा भगवान से प्रार्थना की कि वह प्रशासन को सद्बुद्धि दे जो निर्दोष लोगों को जेल में बंद कर प्रताड़ित कर रहा है.

ऐसे भी परिवार के मुखिया हैं, जो ठेला, रिक्शा चला कर तथा सब्जी बेच कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे थे, पर उन्हें भी जेल में जबरन बंद कर दिया गया है। उनके परिवार में चूल्हा तक नहीं जल रहा है उन्हें छोड़ा जाए। प्रो सिद्देश्वर प्रसाद सिंह सेवा निवृत्त प्राध्यापक जो अपने मोहल्ले में घूम रहे थे उन्हें भी गिरफ्तार कर जेल के सिकंजों में बंद कर दिया गया है. विद्यार्थी परिषद, भाजपा, हिन्दू युवा व पूजा समिति के सदस्य जो प्रशासन को हर संभव सहायता के लिए अग्रिम भूमिका में कार्य करते हैं और कर रहे थे उन्हें भी उठाकर जबरन बंद कर दिया गया या फिर सभी को फरार घोषित कर गिरफ़्तारी की योजना है।

यज्ञ में उपस्थित सभी लोगों ने कहा कि यदि प्रशासन निर्दोषों को जेल से नहीं छोड़ता है तो लोक जागरण मंच की महिला बिग्रेड उग्र आंदोलन के लिए मजबूर हो जाएगी। जिला प्रशासन के पदाधिकारी जनसंवेदनाओं को समझें तथा आम भावनाओं का सम्मान करें। प्रशासन को सद्धबुद्धि दें, जेल में बंद निर्दोष लोगों को शक्ति दें। प्रशासन की कुबुद्धि स्वाहा मंत्र का उच्चारण करते हुए उपस्थित सभी लोगों ने आहुति दी। इस आहुति कार्यक्रम में मंच के सदस्य रंजय कुमार, सौरभ कुमार, आशिका सिंह, प्रियम् कुमारी, शारदा देवी, पुरषोतम सिंह, सुरेश जी, सचिन सिन्हा, मनोज सिन्हा, पंकज पटेल, टुनटुन सिन्हा, मंजीत सिंह, पंकज कुमार, रवि रंजन, चद्रकांत, प्रकाश सोलंकी, सोनल मान सिंह, चंचल कुमारी, रूबी, आरती कुमारी, पूजा कुमारी, श्यामा सिन्हा, दीपिका कुमारी रिया कुमारी, सौरभ सिन्हा सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे। सबने जिला प्रशासन से अपील करते हुए आग्रह किया है कि यथाशीघ्र निर्दोषों को छोड़े.
अन्य शहर लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack