प्रधानमंत्री मोदी ने 105वें इंडियन साइंस कांग्रेस का मणिपुर में किया उद्घाटन, स्टीफन हॉकिंग को किया याद

प्रधानमंत्री मोदी ने 105वें इंडियन साइंस कांग्रेस का मणिपुर में किया उद्घाटन, स्टीफन हॉकिंग को किया याद इंफाल: भारतीय विज्ञान सम्मेलन (इंडियन साइंस कांग्रेस) कार्यक्रम में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिकों से कहा कि वे आम लोगों के फायदे के लिए अनुसंधान करें.

उन्होंने कहा कि रिसर्च एंड डेवलपमेंट को राष्ट्र के विकास के लिए अनुसंधान के रूप में परिभाषित करने का यह श्रेष्ठ समय है. आगे उन्होंने कहा कि भारत की समृद्ध परंपरा रही है जिसमें इन्वेन्शन और साइंस एंड टेक्नोलॉजी का लंबा इतिहास रहा है.

उन्होंने देश के वैज्ञानिकों से अपने अनुसंधान का विस्तार करने का अनुरोध किया और कहा, 'इस क्षेत्र में अग्रणी देशों के बीच अपने सही स्थान का फिर से दावा करने का यह सही समय है.'

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्र की समृद्धि और विकास के लिए अहम टेक्नोलॉजी को भविष्य में लागू करने के लिए देश को तैयार रहना चाहिए.

उन्होंने कहा, ''टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शिक्षा, स्वास्थ्य और बैंकिंग जैसी सेवाओं को पहुंचाया जा सकता है. आज इस बात की जरूरत है कि वैज्ञानिक अपनी उपलब्धियों को समाज तक पहुंचाएं. इससे युवाओं का वैज्ञानिक मिजाज बनेगा'.

प्रधानमंत्री ने कहा, 'हमें अपने संस्थान और प्रयोगशालाएं अपने बच्चों के लिए खोलने होंगे. मैं वैज्ञानिकों से अनुरोध करता हूं कि स्कूली बच्चों के साथ संवाद कायम करने के लिए वह कोई तंत्र विकसित करें.'

युवाओं में वैज्ञानिक चिंतन विकसित करने के लिए प्रधानमंत्री ने वैज्ञानिकों से व्यक्तिगत अनुरोध किया कि वह कक्षा नौंवी से बारहवी कक्षा के 100 छात्रों के साथ सालाना 100 घंटे बिताएं और उनके साथ विज्ञान और प्रोद्यौगिकी पर चर्चा करें.

पीएम ने 2022 तक मणिपुर में 100 गीगावॉट की क्षमता की स्थापित सौर ऊर्जा का लक्ष्य तय किया है. पीएम मोदी ने कहा, 'बाजार में फिलहाल उपलब्ध सोलर मॉड्यूल की क्षमता करीब 17-18 फीसदी है. क्या हमारे वैज्ञानिक और किफायती सोलर मॉड्यूल विकसित करने की चुनौती स्वीकार करेंगे, जिसे समान लागत पर भारत में ही बनाया जा सके?'

पीएम मोदी ने कहा कि हमने 'प्रधानमंत्री रिसर्च फेलो' स्कीम की शुरुआत की है. इस स्कीम के तहत देश के जितने बेहतरीन संस्थान हैं, वहां के छात्रों को Ph.D करने के लिए सीधे IIT और IIS जाने की सुविधा होगी. इससे हमारे देश के प्रतिभावना छात्र पढ़ाई के लिए विदेश नहीं जाएंगे. उन्होंने कहा कि देश के विकास और भविष्य के लिए यह जरूरी है कि टेक्नोलॉजी का विस्तार तेजी से हो. टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शिक्षा, स्वास्थ्य और बैंकिंग जैसी सेवाओं को पहुंचाया जा सकता है.

मणिपुर विश्वविद्यालय के वाइसचांसलर प्रो. आद्य प्रसाद पांडे ने कहा कि इस कार्यक्रम में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित प्रो. मोहम्मद युनूस, प्रों हीरोशी अमानो और दलाई लामा भी शरीक होंगे. पीएम की यात्रा के मद्देनजर पूरे मणिपुर में सुरक्षा व्यवस्था सख्त कर दी गई है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पिछले आठ दिनों से विभिन्न जगहों पर रोजाना तलाशी अभियान चलाया जा रहा है. केंद्रीय और राज्य बलों की मदद से चौबीसों घंटे सतर्कता बरती जा रही है.
अन्य विज्ञान-तकनीक लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack