डीएम चंदौली की अधिकारियों को दो-टूक,पेयजल की समस्या उत्पन्न न होनें पाए

डीएम चंदौली की अधिकारियों को दो-टूक,पेयजल की समस्या उत्पन्न  न होनें पाए चन्दौली: जिलाधिकारी श्री हेमन्त कुमारने ग्रीष्म ऋतु के आगमन पर समस्त खण्ड विकास अधिकारी को पेयजल की शिकायत समस्या उत्पन्न न होने की हिदायत दी। समस्त खण्ड विकास अधिकारी को निर्देश दिया कि कन्ट्रोल रूम की स्थापना कर आने वाली शिकायतों को त्वरित निराकरण किया जाय। 

आगामी 07 दिवस के अन्दर ऐसे सभी हैण्डपम्पों को चिन्हित कराकर रिबोर की कार्यवाही सुनिश्चित कराये, ताकि पेयजल की समस्या उत्पन्न न होने पाये। इस दौरान बताया कि ग्रीष्म ऋतु का आगमन हो चुका है जनपद के अधिकांश भागों में विशेषकर पठारी क्षेत्रों में गर्मी के मौसम में पेयजल की समस्या उत्पन्न हो जाती है। निरन्तर भूमि का जल स्तर कम होने के कारण कई हैण्डपम्प पानी छोड़ देते है। 

भूमि में जल स्तर नीचे जाने पर जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से हैण्डपम्पों के खराब होने, पानी न देने एवं दूषित पानी आने की अधिकांश शिकायतें प्राप्त होती है। शासन के विभिन्न आदेशों के द्वारा वित्त आयोग की धनराशी से ग्राम पंचायतों द्वारा हैण्ड पम्पों पर व्यय करने हेतु अधिकृत किया गया है।
 
डीएम ने पत्र के माध्यम से सभी विकास खण्ड अधिकारी को निर्देशित किया है कि विकास खण्ड स्तर पर कन्ट्रोल रूम स्थापित करायें। किसी एडीओ/अवर अभियन्ता स्तर एवं लिपिक स्तर कर्मचारी को नामित कर विकास खण्ड स्तर पर बनाये गये कन्ट्रोल में प्राप्त शिकायतों को रजिस्टर बनवाकर उसमें प्रतिदिन अंकन करायंेगे तथा प्राप्त शिकायतों की नियमित समीक्षा कर उसे निस्तारित भी करायेगें।

रिबोर हैण्डपम्पों के सम्बन्ध में प्राप्त सूचना 
को प्रतिदिन खण्ड विकास अधिकारी अंकलित कराकर ई-मेल के माध्यम से जिला पंचायत राज अधिकारी एवं अधिशासी अभियन्ता, उ0प्र0 जल निगम को प्रेषित
करेगें। 

अधिशासी अभियन्ता, उ0प्र0 जल निगम का यह दायित्व होगा कि विकास खण्ड स्तर से प्राप्त रिबोर योग्य हैण्डपम्पों का प्राक्कलन धनराशी आरटीजीएस के माध्यम से अधिशासी अभियन्ता, उ0प्र0 जल निगम को उपलब्ध करायेगे तथा इसकी सूचना ई-मेल के माध्यम से जिला पंचायत राज अधिकारी एवं
अधिशासी अभियन्ता, उ0प्र0 जल निगम को प्रेषित करेगें।

श्री कुमार ने कहा कि आगामी 07 दिवस के अन्दर ऐसे सभी हैण्डपम्पों को चिन्हित कराकर हैण्डपम्पों को रिबोर कराने की कार्यवाही सुनिश्चित कराये ताकि गर्मी के मौसम में पेयजल की समस्या उत्पन्न न होने पायें। यदि कही भी पेयजल की समस्या उत्पन्न होती है तो उसके लिए उत्तरदायित्व निर्धारित किया जायेगा। कहा कि यदि किसी विकास खण्ड कार्यालय स्तर से किसी व्यक्ति को परेशान किये जाने की शिकायत मिली तो सम्बन्धित अधिकारी बख्शे नही जायेगे।
अन्य प्रांत लेख
Niva Ply, Plywood for Generations
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack