Wednesday, 20 June 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

फोर्ब्स 2018 अरबपतियों की सूचीः जेफ बेजोस सबसे अमीर, बिल गेट्स नंबर 2, मुकेश अंबानी 11वें साल भी भारत के सबसे धनी

फोर्ब्स 2018 अरबपतियों की सूचीः जेफ बेजोस सबसे अमीर, बिल गेट्स नंबर 2, मुकेश अंबानी 11वें साल भी भारत के सबसे धनी नई दिल्ली: फोर्ब्स की सालाना अरबपतियों की सूची में इस साल 2018 में ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन संस्थापक जेफ बेजोस ने माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स से दुनिया के सबसे बड़े धनकुबेर का रुतबा छीन लिया है.

फोर्ब्स लिस्ट में 112 अरब डॉलर (करीब 7.5 लाख करोड़ रुपए) मूल्य की संपत्ति के साथ जेफ बेजोस दुनिया के सबसे बड़े अमीर इनसान बन गये हैं. केवल इतना ही नहीं इतनी संपत्ति के साथ ही जेफ 100 अरब डॉलर से ज्यादा संपत्ति वाले विश्व के पहले अरबपति भी बन गये हैं. बिल गेट्स उनके ठीक पीछे हैं. इस लिस्ट में मुकेश अंबानी 19वें नंबर पर हैं, फिर भी वह भारत के सबसे अमीर व्यक्ति हैं.

माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक और सामाजिक कार्यों के मशहूर बिल गेट्स को वर्षों बाद पहली बार दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ा है. फोर्ब्स की नवीनतम सूची में गेट्स की कुल संपत्ति 90 अरब डॉलर आंकी गयी है. वहीं, भारत के सबसे बड़े धनकुबेर और रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी 40.1 अरब डॉलर (करीब 2.61 लाख करोड़ रुपये) संपत्ति के साथ सूची में एक पायदान चढ़कर 19वें स्थान पर रहे हैं. पिछले वर्ष वे 20वें स्थान पर थे और उनकी संपत्ति में करीब आठ अरब डॉलर का इजाफा हुआ है.

उनकी कुल संपत्ति 40.1 अरब करोड़ डॉलर (2.61 लाख करोड़ रुपए) है. पिछले साल मुकेश अंबानी 20वें स्थान पर थे. वो एक पायदान पर चढ़ने में सफल रहे. उनकी दौलत में करीब 80 लाख डॉलर का इजाफा हुआ है. यानी करीब 52 हजार करोड़ रुपए. बता दें, इस लिस्ट में दुनियाभर के 2,208 अरबपतियों को शामिल किया गया है. जिसमें 585 अमेरिकी, 373 चीन और 102 भारतीय अरबपतियों को शामिल किया गया है.

फोर्ब्स के मुताबिक इस साल इन्वेस्टमेंट गुरु वारेन बफेट (84 अरब डॉलर) तीसरे, बर्नार्ड अर्नाल्ट (72 अरब डॉलर) चौथे और फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग (71 अरब डॉलर) पांचवें स्थान पर रहे. दुनिया के शीर्ष 100 धनकुबेरों की सूची में देश के अन्य दिग्गजों में हिंदुजा परिवार, अजीम प्रेमजी (विप्रो), लक्ष्मी निवास मित्तल (आर्सेलरमित्तल), शिव नाडर (एचसीएल), दिलीप सांघवी (सन फार्मा), उदय कोटक (कोटक महिंद्रा बैंक), राधाकिशन दमानी, सायरस पूनावाला (सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया), सुनील मित्तल और परिवार (भारती एयरटेल) और आचार्य बालकृष्ण (पतंजलि) शामिल हैं. फोर्ब्स की सूची में शीर्ष 10 में कोई महिला नहीं है. अमेरिकी रिटेल चेन वालमार्ट की उत्तराधिकारी एलिस वाल्टन 16वें स्थान के साथ पहली महिला हैं.

अरबपतियों की कुल संख्या के मामले में भारत पहली बार दुनिया में तीसरे नंबर पर आ गया है. फोर्ब्स की बिलेनियर्स की लिस्ट में इस बार भारत ने जर्मनी को पछाड़ दिया. सबसे ज्यादा अरबपति अमेरिका में हैं. उसके बाद चीन का नंबर आता है. इस लिस्ट के मुताबिक, भारत में इस साल 19 नए अरबपति जुड़े हैं और कुल अरबपतियों की संख्या 121 हो गई है जो पिछले साल 102 थी.

फोर्ब्स की लिस्ट में सबसे अमीर भारतीय महिला जिंदल स्टील ऐंड पावर की सावित्री जिंदल हैं. ग्लोबल लिस्ट में वह 8.8 बिलियन डॉलर के साथ 176वें नंबर पर हैं. पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा 1.7 बिलियन डॉलर के साथ ग्लोबल लिस्ट में जगह बनानेवाले सबसे कम उम्र के भारतीय हैं.

अरबपतियों की टॉप-10 लिस्ट
1. जेफ बेजोफ, अमेजन के फाउंडर (संपत्ति- 112 बिलियन डॉलर)
2. बिल गेट्स, माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर (संपत्ति- 90 बिलियन डॉलर)
3. वॉरेन बफे, बर्कशायर हाथवे के चेयरमैन (संपत्ति- 84 बिलियन डॉलर)
4. बर्नार्ड अर्नाल्ट, LVMH के सीईओ (संपत्ति- 72 बिलियन डॉलर)
5. मार्क जुकरबर्ग, फेसबुक के सीईओ (संपत्ति- 71 बिलियन डॉलर)
6. अमेंसियो ऑर्टेगा, फैशन ब्रांड ज़ारा के चेयरमैन (संपत्ति- 70 बिलियन डॉलर)
7. कारलोस स्लिम हेलू, अमेरिका मोविल के मालिक (संपत्ति- 67.1 बिलियन डॉलर)
8. चार्ल्स कोच, कोच इंडस्ट्री के सीईओ (संपत्ति- 60 बिलियन डॉलर)
9. डेविड कोच, कोच इंडस्ट्री के कंट्रोलर (संपत्ति- 60 बिलियन डॉलर)
10. लैरी एलीसन, ऑरेकल सॉफ्टवेयर के को-फाउंडर (संपत्ति-58.5 बिलियन डॉलर)

टॉप 5 भारतीय
1. मुकेश अंबानी, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटिड के मालिक (संपत्ति-40.1 अरब डॉलर)
2. अजीम प्रेमजी, विप्रो लिमिटिड के मालिक (संपत्ति- 18.8 अरब डॉलर)
3. लक्ष्मी निवास मित्तल, एरकेरोल मित्तल के चेयरमैन और सीईओ (संपत्ति- 18.5 अरब डॉलर)
4. शिव नडार, एचसीएल के चेयरमैन (संपत्ति- 14.6 अरब डॉलर)
5. दिलीप सांघवी, सन फार्मास्युटिकल्स के फाउंडर (संपत्ति- 12.8 अरब डॉलर)
अन्य व्यापार लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack