त्रिपुरा और नगालैंड में जीत से भाजपा के लिए भगवा होली

त्रिपुरा और नगालैंड में जीत से भाजपा के लिए भगवा होली नई दिल्ली: भाजपा के लिए कल भगवा होली थी. पूर्वोत्तर के राज्यों में उसका परचम लहरा रहा था. त्रिपुरा में उसने 25 साल पुराना लेफ्ट का किला ढहाया. 46 साल बाद पूर्वोत्तर के 7 राज्यों में से 4 से ज्यादा में किसी एक पार्टी (बीजेपी) की सरकार है. शनिवार को आए नतीजों से नॉर्थ-ईस्ट के तीन राज्यों त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड के नतीजों में बीजेपी ने इस बार बेहतर प्रदर्शन किया.

पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में शनिवार को विधानसभा चुनाव नतीजों के बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल पर चुटकी लेते हुए कहा कि उन्हें व्हाट्सएप पर मैसेज मिला है कि इटली में चुनाव है. राहुल अभी इटली में हैं.

त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड में बीजेपी को मिली बढ़त के बाद अमित शाह दिल्ली में प्रेस कांफ्रेस कर रहे थे, इसी दौरान किसी ने उनसे राहुल गांधी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, मुझे व्हाट्सएप पर मैसेज आया है कि इटली में चुनाव है.

गौरतलब है कि राहुल गांधी इस बार होली मनाने के लिए अपनी नानी के पास इटली गए हुए हैं, जिसकी जानकारी उन्होंने ट्वीट कर दी थी. राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, 'मेरी नानी 93 साल की हैं. वह दुनिया में सबसे दयालु महिला हैं. इस बार होली की छुट्टी उनके साथ बिताकर मैं उन्हें 'सरप्राइज' देना चाहता हूं. मैं उनका आशीर्वाद लेने के लिए अब इंतजार नहीं कर सकता.

त्रिपुरा में जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर सभी कार्यकर्ताओं को बधाई दी. उन्होंने लिखा कि त्रिपुरा में जो इस बार हुआ है, वह ऐतिहासिक है. हमारी पार्टी त्रिपुरा को आगे बढ़ाने की पूरी कोशिश करेगी. पीएम मोदी ने लिखा कि पार्टी ने त्रिपुरा में शून्य से शिखर तक का सफर तय किया है. उन्होंने लिखा कि हमारी सरकार राज्य में गुड गवर्नेंस देने का काम करेगी.

बीते 4 साल में मोदी ने उनसे ज्यादा चुनाव जीते. 25 साल पहले बीजेपी का नारा था आज 4 प्रदेश कल सारा देश लेकिन आज बीजेपी के पास पूरा देश है और कांग्रेस के पास सिर्फ 4 प्रदेश ही बचे हैं.

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री रहते 4 साल में 21 चुनाव हुए. इनमें से 14 राज्यों में बीजेपी ने जीत हासिल की है. इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री रहते 4 साल में 19 चुनाव हुए थे. इनमें से 13 राज्यों में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी. हालांकि तब राज्यों की गिनती कम केवल 19 ही थी.

27 साल में बीजेपी 15 राज्यों में अपने दम पर और 6 राज्यों में सहयोगियों से साथ सत्ता में आ चुकी है। देश के 77% इलाके पर बीजेपी का शासन है। अब 68% आबादी और 59% इकॉनोमी भी बीजेपी शासित है। बीजेपी के अब 7 गैरहिंदी भाषी राज्यों में मुख्यमंत्री हैं। बीजेपी से हिंदी बेल्ट की पार्टी होने का ठप्पा हटा. कांग्रेस पंजाब, कर्नाटक, मिजोरम, पुड्डुचेरी (केंद्र शासित प्रदेश) में ही बची है. आगे कर्नाटक और मिजोरम में चुनाव होने हैं.

बीजेपी ने कर्नाटक मिशन के लिए तैयारी शुरू कर दी है. यहां अगले दो महीने में चुनाव होने हैं. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह मार्च के आखिर से बेंगलुरु में रहेंगे. उन्होंने विधानसभा भवन से 200 मीटर दूर 6 कमरे का मकान चुना है. इसी साल कर्नाटक के बाद मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मिजोरम में भी विधानसभा चुनाव होने हैं.
अन्य राज्य लेख
वोट दें

क्या 2019 लोकसभा चुनाव में NDA पूर्ण बहुमत से सत्ता में आ सकती है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack