हनीट्रैप जाल में फंसा एयरफोर्स का ग्रुप कैप्टन, पाकिस्तान को सीक्रेट डॉक्‍यूमेंट देने के आरोप में गिरफ्तार

हनीट्रैप जाल में फंसा एयरफोर्स का ग्रुप कैप्टन, पाकिस्तान को सीक्रेट डॉक्‍यूमेंट देने के आरोप में गिरफ्तार नई दिल्ली: दिल्‍ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करने और उसको गोपनीय दस्तावेज मुहैया कराने के आरोप में दिल्ली एयरफोर्स के ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह (51) को दिल्ली से गिरफ्तार किया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कुछ महीने पहले आईएसआई के एक एजेंट ने लड़की बनकर मारवाह से संपर्क किया था. इसके बाद दोनों में फोन पर लगातार चैटिंग होने लगी.

जानकारी के अनुसार, इस दौरान दोनों ने एक दूसरे को मैसेज भेजे. लड़की बनकर कैप्टन अरुण मारवाह को पूरी तरह अपने जाल में फंसाने के बाद आइएसआइ एजेंट ने उनसे कई गोपनीय दस्तावेजों की मांग की. दोनों एक दूसरे को अश्लील मैसेज भेजते थे. लड़की के रूप में पूरी तरह अपने जाल में फंसाने के बाद आइएसआइ एजेंट ने उनसे कई गोपनीय दस्तावेज की डिमांड की. सूत्रों का कहना है कि कैप्टन अरुण मारवाह ने कुछ गोपनीय दस्तावेज उस एजेंट को उपलब्ध करा दिए.

कुछ हफ्ते पहले एयरफोर्स के वरिष्ठ अधिकारी को इस मामले की जानकारी मिली और उन्होंने कैप्टन अरुण मारवाह पर आंतरिक जांच बैठा दी. जांच के दौरान मारवाह की जासूसी में संलिप्तता पाई गई. इसके बाद एयरफोर्स के वरिष्ठ अधिकारी ने दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से इसकी शिकायत की.

पटनायक ने मामले की गंभीरता को समझते हुए स्पेशल सेल को इसकी जांच सौंपी. स्पेशल सेल ने गुरुवार सुबह मुकदमा दर्ज कर अरुण मारवाह को गिरफ्तार किया. साथ ही दोपहर बाद पटियाला हाउस कोर्ट स्थित मुख्य महानगर दंडाधिकारी दीपक सहरावत की अदालत में पेश कर उन्हें पांच दिन की रिमांड पर लिया.

स्पेशल सेल ने आरोपी मारवाह का मोबाइल फोन जब्त कर लिया है. स्पेशल सेल की टीम यह जानकारी जुटाने में लगी है कि मारवाह से लड़की बनकर मुलाकात करने वाला आइएसआइ एजेंट कौन है और उन्होंने कौन-कौन से गोपनीय दस्तावेज उसे उपलब्ध कराये हैं. बताया जा रहा है कि अधिकारी वायुसेना मुख्यालय में तैनात था.
अन्य वायु सेना लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack