Monday, 19 November 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

साक्षात्कार व कहानीः अभिनेता धर्मेंद्र कुमार यादव की

साक्षात्कार व कहानीः अभिनेता धर्मेंद्र कुमार यादव की
वाराणसी: कहते है इंसान जो मुकाम हासिल करना चाहता है वह  सपने में भी सोचता है और अगर निरन्तर प्रयास किया जाये तो सफलता जरूर मिलती है. आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसे छोटे कलाकार से जो सपना तो देखा अभिनेता बनने का/ नायक बनने का लेकिन उसके पीछे कई संघर्षो से गुजरा स्वागत है.

ड्रीम प्रेस कंसल्टेंट्स लिमिटेड के सबसे बड़ी सबसे तेज पढ़ी जाने वाली डिजिटल दुनिया की बेहतरीन हिंदी न्यूज़ वेबसाइट के प्लेट फॉर्म पर धर्मेंद्र कुमार यादव का साक्षात्कार लिया है हमारे पूर्वांचल संवाददाता अमिय पांडेय ने. धर्मेंद्र, मैं शुरुआत करूँगा आपके जीवन से. हर वह संघर्ष ,सफलता और प्यार हमारे पाठकों को बताये जो इस वक़्त हमारी वेबसाइट पढ़ रहे और हमसे जुड़े हैं.
 
धर्मेंद्र जी आपका स्वागत है.
 
जी बहुत बहुत धन्यवाद 

धर्मेंद्र कुमार यादव जी आप अपने बारे में कुछ बताये?

जी सर मैं सबसे पहले जनता जनार्दन मीडिया का शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ जिंन्होंने मुझे दर्शकों तक बात पहुंचने का मौका दिया. जैसा की दोस्तों, मुझे आप लोगों, रंगकला फिल्म प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के बैनर्स तले मुझे मिली मूवी में देखा है, आप सब का प्यार मिला उसके लिए आप सभी का धन्यवाद।
 
दोस्तों, मैं धर्मेंद्र कुमार यादव इन्दर भदोई जिले के बहुत छोटे से गावँ धनऊपुर का रहने वाला हूँ, और मेरी प्राथमिक शिक्षा भी वही हुई. मैंने स्नांतक की शिक्षा कानपुर से लिया है और परास्नातक इलाहाबाद से कर रहा हूँ.
 
धर्मेंद्र जी यह तो रहा शिक्षा, शिक्षा के बाद सपने और संघर्ष की कहानी हमारे पाठकों को बताये?

सर पढाई करने के दौरान ही मैं लगभग 13 वर्ष की उम्र से जॉब स्टार्ट किया,मैं जॉब की तलाश में दिल्ली चला आया पहले मैं सब्जी बेचा दिल्ली में आकर ,६ महीने करीब मैंने सब्जी बेचा है,उसके बाद मोबाइल की दूकान पर काम करता था फिर जब मेरी उम्र 18 वर्ष की हुयी मैंने मोबाइल कम्पनी वीवो में प्रमोटर ज्वाइन किया और फिर ओप्पो मोबाइल में काम किया।
 
धर्मेंद्र जी जॉब तो मिल गयी थी आपको फिर मोबाइल कम्पनी में ही क्यों नहीं मन लगा?

जी सर बचपन से मेरा सपना था अभिनेता बनने का नौकरी के दौरान मै दर दर भटकता रहा कभी दिल्ली में तो कभी पटना तो कभी अन्य शहरों में ऑडिसन दिए लेकिन कही भी सफलता हासिल नहीं हुयी।
 
आपने बताया की कई जगह ऑडिसन दिए लेकिन सफलता नहीं मिली फिर यह लत मूवी आपकी कैसे बनी?

जी सर कहते है न की सपना जब तक पूरा न हो प्रयाश मन से किया जाना चाहिए तो मैंने जो अभिनेता बनने का सपना देखा था वह कैसे न पूरा हो भला. मैंने फेसबुक के मदद से वाराणसी में रंगकला फिल्म लिमिटेड के निदेशक मनोज सर से बात किया की सर मुझे मौका दे मनोज सर ने ऑडिसन के लिए वाराणसी बुला लिया. मैंने ऑडिसन दिया और मैं शुक्रगुजार हूँ की मुझे मेरी पहली फिल्म लत में बतौर अभिनेता बनने का सपना पूरा हुआ.
 
धर्मेंद्र जी लत मूवी को दर्शक अगर देखना चाहे तो कैसे देखे और आपकी दूसरी मूवी कब तक बनेगी।
 
जी सर मैं दर्शको से बतलाना चाहता हूँ की वह youtube के चॅनेल से हमारी मूवी को देख सकते हैं, जहां रंगकला फिल्म लिमिटेड का चैनल बना है. वहां से भी सर्च कर फिल्म लत लिखकर देख सकते है. और जल्द ही सर मेरी दूसरी मूवी the Blame Aanch शूटिंग शुरू होने वाली है जिसमे मुख्य अभिनेता है समर सिंह जी.
 
बहुत बहुत धन्यवाद 
 
तो यह रहा धर्मेंद्र यादव की कहानी आगे ऐसे ही साक्षात्कार आपको पढ़ने को मिलेगा आप जुड़े रहे www.jantajanardan.com मीडिया के साथ 
अन्य दो टूक बात लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack