Wednesday, 20 November 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2018 में साहित्य, थिएटर, नृत्य और कविताओें की प्रस्तुति

ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2018 में साहित्य, थिएटर, नृत्य और कविताओें की प्रस्तुति नई दिल्लीः ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2018 साहित्य और प्रदर्शन कलाओं के संबंधों की संभावनाएं तलाशने के लिए पूरी तरह से तैयार है, जिसके विभिन्न सत्र थिएटर, संगीत, नृत्य और प्रदर्शन कविताओं के स्वाद से समृद्ध होंगे। भारत की स्वतंत्रता के 70 वर्षों और यूके भारत संस्कृति वर्ष के उत्सवों के अंतर्गत अपने विश्वस्तरीय प्रीमियर के मौके पर भारतीय नृत्य के यूके के प्रमुख निर्माता एकेडमी द्वारा पेश किया जाने वाला द ट्राथ 1915 की लघु कथा चंद्रधर शर्मा गुलेरी की उसने कहा था पर आधारित है।

द ट्राथ मित्र देशों के युद्ध के प्रयासों में भारतीय सैनिकों द्वारा निभाई गई एकीकरण की भूमिका को एक साथ समेटते हुए बेल्जियम के डर के बीच सरदार लेहना सिंह के त्याग और एकतरफा प्रेम की कहानी बताता है। पुरस्कृत कोरियोग्राफर गैरी क्लार्क समकालीन नृत्य, याद ताजा कर देने वाले संगीत और संभाल कर रखी जाने वाली फिल्म के माध्यम से मार्मिक परिदृश्य को सामने लाते हैं। एक गंभीर मूक फिल्म के अनुभव के साथ दर्शक 1800 के आखिर में ग्रामीण पंजाब की शांति से संघर्शरत रक्तरंजित बेल्जियन इलाकों तक पहुंच जाते हैं।

यह आर्ट काउंसिल आफ इंग्लैंड और द ब्रिटिश काउंसिल के समर्थन से चलने वाले रिइमैजिन इंडिया प्रोग्राम का हिस्सा है। द ट्राथ में यूके के सबसे आकर्षक और विविधतापूर्ण युवा नर्तक देखने को मिलेंगे।

द रियज थिंग में सर टाम स्टापर्ड जानी-मानी थिएटर हस्ती संजना कपूर से बातचीत करते हुए दिखते हैं। स्टेज, टीवी और फिल्म के लिए लिखने वाले और महानतम जीवित कथाकारों में से एक स्टापर्ड राजेनक्रांट्स एंड गिल्डेनस्टर्न आर डेड, ट्रैवेस्टिज़, एवरी गुड ब्वाय डिजर्वस ए फेवर, एरकेडिया, जंपर्स, द रियल थिंग और द इंवेंशन आफ लव जैसी शानदार चीजों के लेखक हैं। वह शेक्सपियर इन लव और द रशिया हाउस के आस्कर पुरस्कृत स्क्रीनराइटर भी हैं और उन्हें चार टोनी अवार्डस भी मिल चुके हैं। एक पत्रकार और एक ड्रामा आलोचक के तौर पर अपना करियर शुरू करने वाले स्टापर्ड रायल नेशनल थिएटर के प्रमुख लेखक और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सर्वाधिक प्रस्तुतियां देने वाले अपनी पीढ़ी के कलाकारों में से एक है।  

नृत्य की कलात्मक गंभीरता और आकर्षक उत्कृष्टता फेस्टिवल के सत्र द डांसर एंड द डांस में जीवंत हो गई जहां नृत्य की कला में दक्ष सोनल मानसिंह और जीवनी लेखक सुजाता प्रसाद बातचीत करती हैं। अ लाइफ लाइक नो अदर में मानसिंह ने तीन नृत्य प्रकारों-भरतनाट्यम, ओडिसी और छाउ के साथ ही आजादी के बाद के भारत में शास्त्रीय कला के विकास के बारे में और अपनी लगातार बदलती जिंदगी के बारे में बात की जिसे उन्होंने उत्सुकता और बेजोड़ रचनात्मकता के साथ जीना जारी रखा।

आन पेज, आन स्टेज एंड आन स्क्रीन में बच्चों की बेस्टसेलिंग किताब द ग्रुफालो की लेखक जुलिया डोनाल्डसन, अभिनेता डेरिल शुट और जुलिया के पति एवं बाल रोग विषेशज्ञ मैलकम डोनाल्डसन ने नुपूर पाइवा के साथ द ग्रुफालो द्वारा युवा पाठकों के लिए रची गई उज्ज्वल और अजीब दुनिया के बारे में बात की।

कहानी कहने, प्रस्तुतियों, कवितावाचन के मजेदार सत्र में डोनाल्डसन ने बच्चों के लिए लिखने, अपने काम में मजबूत प्रस्तुतिकरण के तत्व और मैजिक लाइट पिक्चर्स द्वारा द ग्रुफालो और अन्य किताबों के फिल्म के रूप में परिवर्तन की प्रक्रिया के बारे में बात की।

फेस्टिवल प्रोग्राम मंच के ड्रामा और नाटकों की विरासत के प्रति भी अपना सम्मान प्रकट करता है। ग्लोब टू ग्लोबः वाई शेक्सपियर वर्क्स इन एवरी कंट्री आफ द वर्ल्ड अत्यंत आकर्षक सत्र है जहां ऐतिहासिक ग्लोब थिएटर के कला निदेशक डोमिनिक ड्रूमगूले ने अविश्वसनीय सफर के बारे में बताया। शेक्सपियर के जन्म की 450वीं वर्षगांठ के लिए लंदन में द ग्लोब थिएटर ने पूरी दुनिया के साथ हेमलेट को साझा करने का बेजोड़ सफर शुरू किया। ड्रूमगूले के दिमाग की उपज ’’हेमलेट ग्लोब टू ग्लोब’’ एक यात्रा और एक अद्भूत अनुभव है जिसने दो वर्षों में 197 देशों में 1,90,000 मील से अधिक का सफर तय किया है। तपते रेगिस्तान, राजधानियों और दूरदराज के शहरों, भीड़भाड़ भरे बाजारों और पैसिफिक आईलैंड पर, मैक्सिको में फूड प्वाइजनिंग के बावजूद, नुकसान के डर के बीच सोमालीलैंड, पश्चिमी अफ्रीका में इबोला महामारी और यूक्रेन में राजनीतिक बवाल के बावजूद ग्लोब के कलाकार लगातार कोशिश करते रहे, अपने प्राप्स, उपकरण और परिधान लेकर चलते रहे और दो घंटों से भी कम समय पूरा सेट तैयार करते थे। फेस्टिवल में ड्रूमगूले अपने मेहनतकश और प्रभावी कलाकारों का परिचय कराएंगे, अपनी यात्रा के दौरान आए उतार-चढ़ावों के बारे में बात करेंगे और अपनी महान थिएरिटकल यात्रा के चश्में से चर्चा करेंगे कि क्यों हेमलेट और साधारण तौर पर शेक्सपियर लौकिक और भौगोलिक सीमाओं के पास वैश्विक अपील रखते हैं। इसके अलावा वह शेक्सपियर के महान कार्यों, नाटकों के इतिहास पर गौर करेंगे, इसके अर्थों और इसके आनंद के बारे में बात करेंगे और आधुनिक मंच पर शेक्सपियर की मौजूदगी की नाटकीय और हृदयस्पर्शी असर को प्रदर्शित करेंगे।

गर्ल्स बार कमिंग आउट आफ द वुड्स के साथ परफार्मिंग पोएट्री यानी प्रस्तुति कविताएं फेस्टिवल के केंद्र में है जो एक शानदार शो होने का वादा करता है- हाफ डांस, हाफ रीडिंग- जिसमें देश के जाने-माने और प्रतिभाशाली युवा कवि हिस्सा लेंगे।

मिल्क एंड हनी आकर्षक सत्र में आशुकवि और इंटरनेट पीढ़ी की प्रतिनिधि रुपी कौर ने दर्शकों के लिए प्रस्तुति देती हैं और उन चीजों का प्रदर्शन करती हैं जिन्होंने एक बेजोड़ परिदृश्य बनाया है। इसके बाद जान फ्रीमैन द्वारा प्रदर्शित किए गए जेनिस पैरिएट, जीत थाइल, जोवान मेज़, मेलीजारानी टी. सेल्वा और नैथालाइ हंडल प्रस्तुतियां देंगे जहां सबसे शानदार प्रस्तुति देने वाले कवि चारबाग मंच पर मौजूद होंगे। ऐसे में आतिशबाजियां तो बनती हैं! ऐसे में अपनी सीटबेल्ट बांध लें और सर्वश्रेष्ठ कहानियों का अनुभव लेने के लिए तैयार हो जाएं!
अन्य साहित्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack