Wednesday, 18 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

जयपुर बुकमार्क 2018: जहां किताबों का मतलब है कारोबार

जयपुर बुकमार्क 2018: जहां किताबों का मतलब है कारोबार जयपुरः भारतीय प्रकाशन उद्योग की ओर दुनिया भर का ध्यान केंद्रित है. नीलसन की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में भारतीय पुस्तक बाजार का आकार 4.6 अरब डॉलर का था, जिसके कारण भारत दुनिया में अंग्रेजी भाषा के पब्लिशिंग उद्योग का दूसरा सबसे बड़ा बाजार बन गया।

जयपुर बुकमार्क (जेबीएम) का पूरा ध्यान किताबों और अनुवाद के कारोबार की ओर केंद्रित है और यह ऐसे प्रमुख लोगों को एक साथ ले आता है जो इस उद्योग की वृद्धि के पीछे अहम कारण हैं। जयपुर बुकर्माक की शुरुआत 2014 में हुई थी। यह दुनिया भर के प्रकाशकों को एक साथ आने और कारोबार के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करने के लिए बी2बी प्लेटफार्म मुहैया कराता है। पिछले पांच वर्षों के दौरान जेबीएम एक महत्वपूर्ण फोरम के तौर पर उभरा है जो प्रकाशकों, साहित्यिक एजेंटों, लेखकों, अनुवादकों और पुस्तक विक्रेताओं को केंद्रित सत्रों और राउंडटेबल चर्चा के माध्यम से "कारोबार पर बात करने" के लिए एक साथ ले आता है।

जयपुर बुकमार्क का पांचवां संस्करण आपको पुस्तकों की एक यात्रा और बदलावों के माध्यम से- उभरते हुए लेखकों, साहित्यिक एजेंटों और प्रकाशकों से लेकर बुक कवर डिजाइनर, ग्राफिक आर्टिस्ट और ऑडियो एवं डिजिटल प्लेटफार्मप्रदाताओं के साथ चर्चा का एक अवसर मुहैया कराता है।

जयपुर बुकमार्क की शुरुआत 24 जनवरी को दिग्गी पैलेस के दरबार हॉल में होगी और इसका आयोजन दिग्गी पैलेस में 24 से 28 जनवरी के बीच किया जाएगा।

पहले दिन आपके लिए चार महत्वपूर्ण सत्रों का आयोजन किया जाएगा। अक्षय रतूड़ी, शताब्दी मिश्रा, तिलक शर्मा, निक्को ओडिसेओस, श्रुति शर्मा के साथ "फार द लव ऑफ बुक्स’’ में उन असामान्य पुस्तकविक्रेताओं और क्यूरेटर्स पर बात की जाएगी जो नवोन्मेशी प्रकाशन और एक ट्रेज़र हंट के तौर पर मेट्रो पर किताबों छोड़ने, बुक फेयर में जाने और तिब्बती बुद्ध परंपराओं जैसी दिलचस्प प्रक्रियाओं पर किताबें पेश करने जैसे पढ़ने के तरीकों के साथ किताबों को बढ़ावा देने और सुरक्षित करने की दिशा में काम करते हैं। इस सत्र का संचालन उर्वषी बुटालिया करेंगी।

जहां "बुक्स दैट स्पीकः द फ्यूचर ऑफ ऑडियो’’ ऑडियो बुक्स की संभावनाओं पर चर्चा करता है, ’’रिसर्जेंस ऑफ प्रिंट’’ में प्रिंटेड पेज पर ध्यान केंद्रित होगा और पूछा जाएगा कि क्या पाठक अब भी प्रिंट पढ़ना पसंद करते हैं। ’’इंग्लिश लैंग्वेज पब्लिशिंगः द इंडियन मार्केट’’ वैश्विक परिदृश्य में भारतीय प्रकाशन बाजार की स्थिति पर चर्चा करेगा।

दूसरे दिन (25 जनवरी) ’’पब्लिशिंग प्रोसेस एंड पॉलिसी प्रासपेक्टिव्स’’ पर राउंडटेबल चर्चा होगी जिसमें अनंत पद्मनाभन, मानस साइकिया, रॉबर्ट वाटकिंस, उर्वषी बुटालिया, रेनू कौल, इयान डे टोफोली, बिजल वच्छारजनी, रीता चौधरी, के. श्रीनिवास राव और रत्नेश झा जैसे जाने-माने प्रकाशक आतिया जैदी से चर्चा करेंगे।

"बेस्टसेलिंगः द इंडियन वे’’ में भारतीय बेस्टसेलर्स के बनने और उनके कारणों पर बात होगी; ’’एजुकेशनल पब्लिशिंगः टूवर्डस एन एक्सपैंडिंग नॉलेज बेस’’ में अकादमिक प्रकाशन के क्षेत्र में बढ़ती चिंताओं पर चर्चा होगी और "इनहैंसिंग द बुक’’ में डिजिटल जमाने में किताब के नए और नवोन्मेशी पहलुओं को पेश किया जाएगा। यह दिन बुक कवर के बारे में चर्चा करते हुए आयोजित सत्र के साथ खत्म होगा।

तीसरे दिन (26 जनवरी) ’’वितरणः डिस्ट्रिब्यूशन एंड आउटरीच इन इंडियन पब्लिशिंग’’ में भारतीय भाषाओं में पुस्तकों के वितरण और प्रभावों के बारे में चर्चा की जाएगी। लंच के बाद इस दिन ’’रोल ऑफ आर्ट इन बुक इंडस्ट्री’’ पर एक आकर्षक सत्र आयोजित किया जाएगा। "डिजिटल नैरेटिव्स’’ पर आयोजित एक सत्र में अनुराग कश्यप, करण अंशुमान, अनीष चांडी, पंकज दुबे, गौरव सोलंकी, अर्पिता दास, अनु सिंह चौधरी, कैथी रिच्स, अक्षय राठी, शैलेष भारतवासी और समीर नायर जैसी जानी-मानी हस्तियां वाणी त्रिपाठी टिक्कू से बात करेंगे और इसका आयोजन चौथे दिन (27 जनवरी) को होगा। यह पैनल डिजिटल मीडिया के नवीनतम रुझानों और महान कहानियों की शक्ति का इस्तेमाल करने के लिए नए जमाने में वेब स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म की क्षमता के बारे में चर्चा करेगा।

अंतिम दिन, पांचवें दिन (28 जनवरी) में अनुज बाहरी के साथ बातचीत में मीता कपूर, प्रीति गिल, केली फाल्कनर, पियरे एस्टियर, हैंस पीटर बेकेटिग एक एजेंट ओपेन हाउस में हिस्सा लेंगे। "माइंड इन योर बिज़नेसः डिवाइन टेक्स्ट्स एंड द मॉर्टल आर्ट ऑफ बुकसेलिंग’’ धार्मिक लेखों के प्रकाशन और बिक्री के बारे में जानकारी दी जाएगी। एजेंट्स और कुछ चुनिंदा प्रकाशक द फर्स्ट बुक न्यू राइटर्स मेंटरशिप प्रोग्राम के अंतर्गत युवा पहली बार के लेखकों के समूहों का मार्गदर्शन भी करेगा। 20-25 चयनित प्रतिभागियों को पांचवे दिन फेस्टिवल में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया जाएगा और प्रकाशकों, साहित्यिक एजेंटों, लेखकों एवं अनुवादकों के विशेषज्ञ पैनल द्वारा सभी को अलग-अलग फीडबैक दिए जाएंगे और संभवतः उन्हें एक किताब के लिए करार करने का भी मौका मिल जाए!

प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए जेबीएम की सह-निदेशक एवं प्रकाशक नीता गुप्ता ने कहा, ’’हम इस वर्ष जयपुर बुकमार्क के पांचवे संस्करण के प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए बेहद खु्श हैं। किताबों के कारोबार और अनुवाद के बारे में चर्चाओं की श्रृंखला के माध्यम से हमें दक्षिण एशियाई लेखकों में अधिक दिलचस्पी पैदा करने की उम्मीद है।’’

जयपुर बुकमार्क चौथे दिन (27 जनवरी) दुनिया के 20 सफलतम फेस्टिवल डायरेक्टर्स को एकत्रित करने के लिए अत्यधिक सफल फेस्टिवल डायरेक्टर्स राउंडटेबल का आयोजन भी करेगा जिसमें कई चुनौतियों पर चर्चा होगी, उद्योग के तीन प्रमुख पुरस्कारों- वाणी फाउंडेशन डिस्टिंग्विंस्ड ट्रांसलेटर्स अवॉर्ड, द रोमेन रोलैंड प्राइज फॉर ट्रांसलेशंस फ्रॉम फ्रेच टू इंडियन लैंग्वेज और द ऑक्सफोर्ड बुक कवर प्राइज की घोषणा होगी।

जेबीएम 2018 के बारे में ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल की सह-निदेशक, नमिता गोखले ने कहा, ’’ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के पब्लिशिंग सेगमेंट जयपुर बुकमार्क को पिछले पांच वर्षों में बेहतर से बेहतर होते देखना बहुत ही सुखद है। यह भारतीय और अंतरराष्ट्रीय पब्लिशिंग कम्युनिटी के लिए उभरता हुआ केंद्र बन गया और भारतीय भाषाओं से और उनमें किए जाने वाले अनुवाद के लिए एक महत्वपूर्ण उत्प्रेरक बन गया है।’’

फेस्टिवल प्रोड्यूसर संजय रॉय ने कहा, "जयपुर बुकमार्क ने अनुवाद और प्रकाशकों, एजेंट और डिजिटल कारोबार के लिए एक साथ आने, चर्चा करने और वृद्धि करते उद्योग की जरूरतों पर चर्चा करने के लिए एक बहुप्रतीक्षित प्लेटफॉर्म तैयार किया है।’’
अन्य किताबें लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack