Tuesday, 21 August 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

साइबेरिया का ओइमयाकनः दुनिया के सबसे सर्द प्रदेश में लोगों की पलकें तक जम गईं

साइबेरिया का ओइमयाकनः दुनिया के सबसे सर्द प्रदेश में लोगों की पलकें तक जम गईं ओइमयाकनः दिल्ली की सर्दी जो लोग हड्डियां गला देने वाली सर्दी कहते हैं और अगर देश में कई जगहों पर माइनस में तापमान चला जाता है, तो लोग हायतौबा मचाने लगते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया में कई जगहों पर माइनस 50 डिग्री से भी कम तापमान पहुंच जाता है.

रूस के एक गांव में इस साल -67 तक तापमान पहुंच गया. गांव का नाम ओइमयाकन है जो रूस के साइबेरिया क्षेत्र में है. ओइमयाकन गांव रूस से 5300 किलोमीटर दूर पूर्व में बसा हुआ है.

इस क्षेत्र को दुनिया का सबसे सर्द प्रदेश भी कहा जाता है. यहां पर ठंड का अंदाजा यूं लगाया जा सकता है कि तापमान नापने वाला थर्मामीटर भी टूट गया. जनवरी के महीने में आमतौर पर यहां -50 तक तापमान पहुंच जाता है.

इस बार के सर्द मौसम में यहां की हालत और बुरी है. इतनी ठंड में लोगों के सर के बाल और पलकें तक जम गई हैं. यहां -40 तापमान में भी बच्चे स्कूल जाते हैं. मीडिया रिपोर्ट्स कि मानें तो अभी भी गांव के सभी जगह बर्फ से ढके हुए हैं. साल 1933 में इस गांव का तापमान -68 डिग्री रिकॉर्ड किया गया था. वैसे इतिहास में इस गांव का तापमान -71 डिग्री तक पहुंच चुका है.

हाल में ही एक चीन के बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी जिसमें स्कूल जाने वाला एक छोटा सा बच्चा बर्फ से लदा हुआ स्कूल पहुंचा था. स्कूल में परीक्षा चल रही थी इसलिए तीसरे क्लास के इस बच्चे को स्कूल जाना पड़ा था.
अन्य प्रकृति लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack