Tuesday, 23 January 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

कश्मीर में बारूदी सुरंग में धमाका कर 4 पुलिसकर्मियों को मारा, जैश-ए-मोहम्मद ने ली ज़िम्मेदारी

कश्मीर में बारूदी सुरंग में धमाका कर 4 पुलिसकर्मियों को मारा, जैश-ए-मोहम्मद ने ली ज़िम्मेदारी जम्मूः जम्मू-कश्मीर में हुए एक आतंकी हमले में चार पुलिसकर्मियों के शहीद होने की खबर है. यह हमला बारामूला जिले के सोपोर कस्बे में हुआ. एक अधिकारी ने बताया कि आतंकियों ने एक दुकान के पास आईईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) लगाया था.

हुर्रियत के बंद के आह्वान के मद्देनजर इलाके में पुलिस दल गश्त पर था कि तभी आईईडी में धमाका हो गया. बताया जा रहा है कि हमले में कुछ लोग घायल भी हुए हैं जिनमें दो पुलिसकर्मी शामिल हैं.

हादसे के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के अतिरिक्त महानिदेशक मुनीर अहमद खान और सेना के तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे. सेना, सीआरपीएफ और एसओजी के जवान पूरे इलाके में तलाशी अभियान चला रहे हैं.

उत्तरी कश्मीर के डीआईजी बी के बद्री ने बताया, ''यहां सोपोर के छोटा बाज़ार में एक दुकान के कोने में बारुदी सुरंग बिछाई गई थी, जब पुलिस की गाड़ी वहां से गुजरी तो उसमें धमाका हो गया, विस्फोट की वजह से चार पुलिसकर्मी मारे गए वहीं कुछ दुकानों को भी नुकसान पहुंचा है.''

धमाका होने के बाद भारी संख्या में पुलिस और सुरक्षाबलों का दस्ता घटनास्थल पर पहुंच गया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी.

मारे गए पुलिसकर्मियों की पहचान डोडा निवासी असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर इरशाद अहमद, कुपवाड़ा के मोहम्मद अमीन, सोपोर के गुलाब नबी और कुपवाड़ा निवासी परवेज़ अहमद के रूप में हुई है.

इस हमले की ज़िम्मेदारी चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है.

हाल ही में जैश के चरमपंथियों ने ही पुलवामा के लेथपोरा में सीआरपीएफ़ कैम्प पर फिदायीन हमला किय़ा था, जिसमें पांच जवानों की मौत हो गई थी.

इस घटना के बाद बताया जाता है कि इन्हीं में से एक फिदायीन का वीडियो भी सामने आया था, जिसमें उसने कश्मीर में सुरक्षा बलों पर हमले जारी रहने की बात कही थी.

साल 1993 में आज ही के दिन सोपोर में ही सुरक्षा बलों की फायरिंग में करीब 53 आम लोगों की मौत हो गई थी. यहां अलगाववादियों ने बंद भी बुलाया था जिसके चलते कस्बे की सभी दुकाने बंद थीं.

उधर, जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने हमले की निंदा की है और पुलिसकर्मियों की मौत पर दुख जताया है. हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के चेयरमैन मीरवाइज उमर फारूक ने भी हमले की निंदा की है.

उन्होंने इस संबंध में ट्विटर पर लिखा, '' यह सुनकर बहुत तकलीफ़ हुई कि सोपोर में आईईडी धमाके में चार पुलिसकर्मियों की मौत हुई है, मेरी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों के साथ हैं.''

वहीं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अबदुल्ला ने भी इस संबंध में ट्वीट किया और चार जवानों की मौत पर शोक व्यक्त किया.
अन्य आतंकवाद लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack