Thursday, 20 September 2018  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

ठंड से जम रही धरतीः 'साइक्लोन बम' से तबाही, पूर्वी अमेरिका बर्फ से ढंका

जनता जनार्दन संवाददाता , Jan 06, 2018, 10:23 am IST
Keywords: Cyclone bomb   US temperature   US Winter   Cold wave   Bomb cyclone   अमेरिका में बर्फबारी   बर्फ की चादर   बर्फबारी   बॉम्ब साइक्लोन  
फ़ॉन्ट साइज :
ठंड से जम रही धरतीः 'साइक्लोन बम' से तबाही, पूर्वी अमेरिका बर्फ से ढंका वॉशिंगटन: धरती जमती जा रही है. ठंडी हवाओं से हालत खराब है. अमेरिका में भारी बर्फबारी हो रही है. कई शहरों को बर्फ की चादर ने ढक लिया है. बॉम्ब साइक्लोन ने अमेरिका की हालत खराब कर दी है. बिगड़ते हुए हालातों को देखकर इमरजेंसी घोषित कर दी गई है. बर्फबारी का सबसे ज्यादा असर उड़ानों पर पड़ा है. कल से अबतक करीब 4500 उड़ाने रद्द कर दी गई हैं.

न्यूयॉर्क और मैसाचुसेट्स के बोस्टन में भारी बर्फबारी के कारण लोग त्राहिमाम-त्राहिमाम करने लगे हैं. बोस्टन में तेज हवाओं के साथ जोरदार बर्बबारी हो रही है. यहां तापमान इस वक्त माइनस 30 डिग्री तक लुढ़क गया है.

यहां करीब एक फुट तक बर्फ जम गई है. सड़कों से बर्फ हटाने के लिए जेसीबी मशीनों लगाई गई हैं, छोटी मशीनों से भी बर्फ हटाने का काम चल रहा है.

बर्फबारी के बाद तूफान साथ में बाढ़ भी आई गई. घरों में पानी घुस गया है. कई इलाकों में लोगों को रस्सी के सहारे रेस्क्यू किया जा रहा है. बाढ़ और बर्फबारी ने बोस्टन की बत्ती गुल कर दी है.

अमेरिका का सबसे बड़े शहर न्यूयॉर्क की भी रफ्तार बॉम्ब तूफान ने रोक दी है. जिन सड़कों पर सैकड़ों लोग नजर आते थे वहां सिर्फ चंद लोग ही हैं.  बर्फीली हवावों ने लोगों को घरों में कैद कर दिया है.

बॉम्ब तूफान का कहर अमेरिका के पूर्वी राज्यों फ्लोरिडा, जॉर्जिया, साउथ कैरोलिना, नॉर्थ कैरोलिना, वर्जीनिया, मेरीलैंड, न्यूजर्सी, न्यू यॉर्क, मैसेचुएट्स, न्यू हैंपशायर और मेन में है. दक्षिणपूर्वी राज्यों नॉर्थ और साउथ कैरोलिना में चार लोगों की जान चली गई है.

बर्फबारी की सबसे ज्यादा मार हवाई जहाज की उड़ानों पर पड़ी है, फ्लाइटें खड़ी हो गई है. रनवे को बर्फ ने पूरी तरह से अपनी आगोश में ले लिया है.कल से करीब 4500 उड़ाने रद्द हो चुकी हैं, यात्री एयरपोर्ट पर फंसे हैं.

अमेरिका से शुरू होकर ये साइक्लोन बम और तेज गति से यूरोपीय देशों जार्जिया, साउथ कैरोलिना होते हुए नार्थ इंग्लैंड पहुंचने वाला है, जहां इसका रौद्र रुप देखने को मिलेगा. नार्थ इंग्लैंड के शहर बोस्टन में प्रशासन अभी से इस साइक्लोन बम से निपटने की तैयारियों में जुट गया है.

बता दें कि ‘बॉम्ब साइक्लोन’ या ‘बॉम्बोजेनेसिस’ तब आता है, जब किसी तूफान का बायोमीट्रिक प्रेशर 24 घंटे के भीतर 24 मिलीबार्स से कम हो जाता है. कहते हैं इससे तूफान काफी ताकतवर हो जाता है. बायोमीट्रिक प्रेशर वातावरण का दबाव होता है और मिलीबार इसे मापने की इकाई है. मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट्स ऑफ टेक्नोलॉजी के विजिटिंस साइंटिस्ट जूडा कोहेन ने कहा यह साइक्लोन काफी अनोखा है. इसका प्रेशर बड़ी ही तेजी से कम हो जाता है. ये दबाव कैटेगिरी वन या कैटेगिरी 2 के चक्रवात को टक्कर दे सकता है. यानी अमेरिका योरोप के लिए मुसीबतें और भी हैं.
अन्य प्रकृति लेख
वोट दें

क्या बलात्कार जैसे घृणित अपराध का धार्मिक, जातीय वर्गीकरण होना चाहिए?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack