Monday, 18 December 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

गुजरात चुनाव से राहुल गांधी नेता में तब्दील, थके मोदी ने माना उन्हें अपना प्रतिस्पर्धीः शिव सेना

जनता जनार्दन संवाददाता , Dec 06, 2017, 17:34 pm IST
Keywords: Saamana   Dopahar Ka Saamana   PM Narendra Modi   Congress President-elect   Rahul Gandhi   Modi competitor   Gujarat battle   Shiv Sena   Man to Watch   Bharatiya Janata Party   BJP   शिवसेना   गुजरात विधानसभा चुनाव   राहुल गांधी   सामना  
फ़ॉन्ट साइज :
गुजरात चुनाव से राहुल गांधी नेता में तब्दील, थके मोदी ने माना उन्हें अपना प्रतिस्पर्धीः शिव सेना मुंबई: शिवसेना ने आज कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को एक नेता में तब्दील कर दिया है और प्रधानमंत्री मोदी भी कहीं न कहीं मान रहे हैं कि मुकाबला राहुल गांधी से ही है. शिवसेना ने यह भी कहा है कि राहुल गांधी का मंदिरों में जाना 'हिंदुत्व के लिए जीत' है.

राहुल गांधी गुजरात में व्यापक स्तर पर चुनाव प्रचार कर रहे हैं. राज्य में नौ दिसंबर को पहले चरण का मतदान है. राहुल ने प्रचार अभियान के दौरान गुजरात में कई मंदिरों का दौरा किया है.

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे संपादकीय में कहा, ‘‘जिस चुनाव में भाजपा अपनी जीत सुनिश्चित मान रही है उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थके हुए दिखाई दे रहे हैं और इस चुनाव ने राहुल गांधी को एक नेता में बदल दिया है।’’

भाजपा की सहयोगी पार्टी ने कहा, ‘‘चुनाव ने साबित किया है कि राहुल गांधी अब पप्पू नहीं रहे. भाजपा को बड़े मन से यह स्वीकार करना चाहिए.’’ उसने कहा, ‘‘राहुल गांधी मंदिर गए और पूजा की, भाजपा इससे क्रोध में है. राहुल गांधी मंदिर गए तो इसका स्वागत होना चाहिए. उनका मंदिर जाना एक तरह से हिंदुत्ववाद की जीत है. जब राहुल कांग्रेस को दिखावटी धर्मनिरपेक्षता से नरम हिंदुत्व की तरफ ले जा रहे हैं तो संघ परिवार को इसका स्वागत करना चाहिए.’’

राहुल के कांग्रेस अध्यक्ष बनने की तैयारी को ‘औरंगजेब राज’ करार दिए जाने संबंधी प्रधानमंत्री मोदी के बयान को लेकर शिवसेना ने कटाक्ष किया और कहा कि ‘इस बयान का मतलब यह है कि मोदी मानते हैं कि राहुल उनके प्रतिस्पर्धी हैं और नेतृत्व करने में सक्षम हो गए हैं.’

नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए शिवसेना ने कहा, "यदि आप मुगलों के प्रति इतनी घृणा करते हैं, तो महाराष्ट्र सरकार को आपको राज्य में औरंगजेब और अफजल दोनों की कब्रों को नष्ट करने का आदेश देना चाहिए."

कांग्रेस के ढलते दौर में एक अध्यक्ष पद के तौर पर पार्टी के पुनरुत्थान के लिए राहुल के सामने एक बड़ी चुनौती होगी. अब यह देखना दिलचस्प होगा कि वे अपनी नई भूमिका में पार्टी के लिए कौन सी दिशा-दशा तय करते हैं.
अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
 
stack