Monday, 18 December 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

आसमान जैसे रो पड़ाः शशि कपूर के निधन पर बॉलीवुड की अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

आसमान जैसे रो पड़ाः शशि कपूर के निधन पर बॉलीवुड की अश्रुपूरित श्रद्धांजलि मुंबईः बॉलीवुड और थिएटर के दिग्गज एक्टर शशि कपूर के निधन पर जैसे आसमान रो पड़ा हो. उनके अंतिम संस्कार में समूचा फिल्म जगत उमड़ पड़ा. शशि कपूर का सोमवार को लंबी बीमारी के बाद मुंबई में निधन हो गया. मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में उन्होंने 79 साल की उम्र अंतिम सांस ली.

शशि कपूर के निधन की खबर मिलते ही सेलेब्स ने ट्विटर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. मंगलवार सुबह 10.30 बजे कोकिला बेन अस्पताल से उनकी अंतिम यात्रा निकली. इस दौरान रिश्तेदार, दोस्त, फिल्म जगत की तमाम हस्तियां और परिवार के लोग मौजूद थे.

शशि कपूर का राजकीय सम्मान से अंतिम संस्कार किया गया. उनके शरीर को तिरंगे में लपेटा गया. अंतिम संस्कार के वक्त बॉलीवुड समेत राजनीतिक जगत की हस्तियां भी मौजूद रहीं. केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले और महाराष्ट्र सरकार के कुछ मंत्री भी मौजूद हैं. मुंबई पुलिस की एक टुकड़ी ने शशि कपूर को आख़िरी सलामी दी.

शशि कपूर के निधन की खबर सुनते हैं बीते रोज अमिताभ बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन, काजोल, रानी मुखर्जी समेत कपूर खानदान के कई सितारों उनके घर पहुंचे. वहीं, मंगलवार को तेज बारिश के बीच शशि कपूर का पार्थिव शरीर उनके मुंबई स्थित घर से सातांक्रूज हिंदू शमशानघाट ले जाया गया.  इससे पहले उनका पार्थिव शरीर अस्पताल से सीधे 'जानकी कुटीर' ले जाया गया.

पिता के अंतिम संस्कार के लिए शशि कपूर के बेटे करण कपूर और बेटी संजना यूएस से मुंबई आ चुके हैं. अमिताभ बच्चन, शाहरुख खान, अभिषेक बच्चन, सैफ अली खान, संजय दत्त, अनिल कपूर, नसीरुद्दीन शाह, रतना पाठक शाह समेत कई सेलेब्स शशि कपूर की अंतिम यात्रा में शामिल हुए.

बता दें, 18 मार्च 1938 को पृथ्वी राज कपूर के घर में जन्मे शशि कपूर ने बतौर बाल कलाकार काम शुरू किया था. 1961 में वह फ़िल्म 'धर्म पुत्र' से बतौर हीरो बड़े पर्दे पर आए थे. फ़िल्म 'चोरी मेरा काम', 'फांसी', 'शंकर दादा', 'दीवार', 'त्रिशूल', 'मुकद्दर', 'पाखंडी', 'कभी-कभी' और 'जब जब फूल खिले' जैसी करीब 116 फिल्मों में अभिनय किया था. जिसमें 61 फिल्मों में शशि कपूर बतौर हीरो पर्दे पर आए और करीब 55 मल्टीस्टारर फिल्मों के हिस्सा बने थे. 'दीवार' फिल्‍म में उनका डायलॉग 'मेरे पास मां है' आज भी लोगों की जुबान पर रहता है.

सैफ अली खान, रणबीर कपूर, अनिल कपूर, नसीरुद्दीन शाह, रत्ना पाठक, ऋषि कपूर, अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, राकेश ओम प्रकाश मेहरा, संजय दत्त जैसी बॉलीवुड हस्तियां शशि के अंतिम संस्कार के वक्त मौजूद रही.

राज कपूर के पोते आधार जैन भी जानकी कुटीर पहुंचे. शशि के भतीजे ऋषि कपूर सोमवार की रात ही शूटिंग कैंसल कर अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए मुंबई पहुंचे थे.

मुंबई पुलिस ने अस्पताल के बाहर सुरक्षा का अच्छा इंतजाम किया था. ट्रैफिक पुलिस को भी ब्रीफिंग दी गई थी कि जब अस्पताल से पार्थिव शरीर को ले जाया जाए तब मुंबई की सड़कों पर ट्रैफिक स्मूथ रखा जाए.

जानकारी के मुताबिक़ शांताक्रूज के श्मशान घाट में दोपहर 12 बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. शशि कपूर के निधन से अमिताभ बच्चन बेहद दुखी हैं. उन्होंने एक लंबा ब्लॉग लिख कर उन्हें याद किया. अमिताभ ने लिखा.

शशि कपूर की बेटी संजना और बेटा करण सोमवार रात को ही मुंबई पहुंच गए थे. शशि कपूर के निधन की खबर सुनकर ऋषि कपूर भी दिल्ली में चल रही अपनी फिल्म की शूटिंग कैंसिल कर मुंबई पहुंच गए. वह दिल्ली में फिल्म 'राजमा चावल' की शूटिंग कर रहे थे. अस्पताल में शशि कपूर को देखने रणधीर कपूर, रणबीर कपूर, कृष्णा राज कपूर और कपूर फैमिली के और भी मेंबर पहुंचे थे.

उनके निधन की खबर सुनते ही पूरा बॉलीवुड शोक की लहर में डूबा हुआ है. अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, सैफ अली खान, रानी मुखर्जी, बोनी कपूर समेत तमाम सितारे उनके घर पहुंचे.

मुंबई में हल्की बारिश के बीच भी अस्पताल के बाहर काफी भीड़ लगी थी. अब उनके अंतिम संस्कार के लिए 12 बजे  का समय तय किया गया था. उनके आखिरी दर्शनों के लिए अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, नसीरुद्दीन शाह, अनिल कपूर, संजय दत्त और तमाम सितारे पहुंचे हुए थे.


शशि कपूर के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पीएम नरेंद्र मोदी समेत कई राजनीतिक और बॉलीवुड की हस्तियों ने शोक जताया है.

शशि ने हिन्दी सिनेमा की 160 फिल्मों (148 हिंदी और 12 अंग्रेजी) में काम किया. उनका जन्म 18 मार्च 1938 को कोलकाता में हुआ था. 60 और 70 के दशक में उन्होंने जब-जब फूल खिले, कन्यादान, शर्मीली, आ गले लग जा, रोटी कपड़ा और मकान, चोर मचाए शोर, दीवार कभी-कभी और फकीरा जैसी कई हिट फिल्में दी.

1984 में पत्नी जेनिफर की कैंसर से मौत के बाद शशि कपूर काफी अकेले रहने लगे थे और उनकी तबीयत भी बिगड़ती गई. बीमारी की वजह से शशि कपूर ने फिल्मों से दूरी बना ली. साल 2011 में शशि कपूर को भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था. 2015 में उन्हें दादा साहेब पुरस्कार भी मिल चुका था. कपूर खानदान के वो ऐसे तीसरे शख्स थे जिन्हें ये सम्मान हासिल हुआ था.

शशि कपूर की निधन की खबर सुनकर ऋषि कपूर दिल्ली में चल रही अपनी फिल्म की शूटिंग कैंसिल कर मुंबई रवाना हो गए. वह दिल्ली में फिल्म 'राजमा चावल' की शूटिंग कर रहे थे. अस्पताल में शशि कपूर को देखने रणधीर कपूर, रणबीर कपूर, कृष्णा राज कपूर भी पहुंचे.

आकर्षक व्यक्तित्व वाले शशि कपूर के बचपन का नाम बलबीर राज कपूर था. बचपन से ही एक्टिंग के शौकीन शशि स्कूल में नाटकों में हिस्सा लेना चाहते थे. उनकी यह इच्छा वहां तो कभी पूरी नहीं हुई, लेकिन उन्हें यह मौका अपने पिता के 'पृथ्वी थियेटर्स' में मिला.

शशि कपूर का निधन सिर्फ भारतीय ही नहीं बल्क‍ि अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर भी कवर किया जा रहा है. यूएस के न्यूज नेटवर्क सीएनएन ने शशि कपूर की डेथ पर पूरा फोकस करते हुए उनके बारे में सारी जानकारी चलाई है.

वहीं यूके के दो बड़े अखबारों द गार्जियन और बीबीसी ने भी कपूर के निधन की खबर को पब्लिश किया है. दुनिया की कई न्यूज एजेंसियों के अलावा कतार के अल जजीरा ने भी शशि कपूर के निधन पर शोक व्यक्त किया है.

अल जजीरा ने उन्हें बॉलीवुड का चार्मिंग, रोमांटिक और बेहतरीन कलाकार बताया है तो बीबीसी ने उनके करियर के बेस्ट अवॉर्ड को लेकर याद किया. बीबीसी ने कहा कि स्क्रीन पर अमिताभ बच्चन के भाई का सबसे बेस्ट रोल शशि कपूर ने प्ले किया और उनका डायलॉग मेरे पास मां है हमेशा याद किया जाएगा.

1984 में पत्नी जेनिफर की कैंसर से मौत के बाद शशि कपूर काफी अकेले रहने लगे थे और उनकी तबीयत भी बिगड़ती गई. बीमारी की वजह से शशि कपूर ने फिल्मों से दूरी बना ली. साल 2011 में शशि कपूर को भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था. 2015 में उन्हें दादा साहेब पुरस्कार भी मिल चुका था. कपूर खानदान के वो ऐसे तीसरे शख्स थे जिन्हें ये सम्मान हासिल हुआ था.
अन्य खास लोग लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
 
stack