Monday, 16 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

पाकिस्तान का दावा, हाफिज सईद की रिहाई जायज, भारत ने की निंदा, अमेरिका ने कहा- फिर पकड़ो

पाकिस्तान का दावा, हाफिज सईद की रिहाई जायज, भारत ने की निंदा, अमेरिका ने कहा- फिर पकड़ो नई दिल्ली: अमेरिका ने पाकिस्तान से प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा प्रमुख और मुंबई हमले के गुनहगार आतंकी हाफिज सईद को गिरफ्तार करने को कहा है. परसों यानी 21 नवंबर को हाफिज सईद की नजरबंदी को वहां की अदालत ने खत्म कर दिया था और वह कल रिहा हो गया.

अमेरिका ने कहा है कि पाकिस्तान हाफिज सईद को गिरफ्तार करके उसपर केस चलाए. वहीं अमेरिका ने यह भी कहा है कि वह हाफिज सईद को नजरबंदी से रिहा करने की निंदा करता है.

इस दौरान गलत काम को सही ठहराने का राग एक बार फिर पाकिस्तान ने अलापा है. जमात उद दावा प्रमुख एवं मुंबई आतंकी हमले के सरगना हाफिज सईद की रिहाई को सही ठहराते हुए उसने दावा किया है कि इस्लामाबाद आतंकियों पर यूएनएससी प्रतिबंध लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है.

जमात उद दावा (जेयूडी) के प्रमुख लश्कर ए तैयबा के संस्थापक सईद पर अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है. उसे पाकिस्तान ने कल ही रिहा किया है. संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका ने उसे आतंकी घोषित कर रखा है.

भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा कि सईद की रिहाई ने एक बार फिर साबित कर दिया कि आतंकवाद फैलाने वाले लोग और समूह जिन्हें संयुक्त राष्ट्र ने आतंकी का दर्जा दे रखा है, उनको न्याय के कटघरे में लाने में पाकिस्तान की सरकार बिलकुल भी गंभीर नहीं है.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बहस्पतिवार को दिल्ली में कहा, ऐसा लगता है कि यह प्रतिबंधित आतंकियों को मुख्यधारा में लाने का पाकिस्तान की व्यवस्था का प्रयास है. पाकिस्तान ने राज्येतर तत्वों को बचाने और बढ़ावा देने की अपनी नीति बदली नहीं है और उसका असली चेहरा अब सबके सामने आ गया है.

भारत के विदेश मंत्रालय की टिप्पणी के जवाब में पाकिस्तान के विदेश कायार्लय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कल रात बयान में कहा कि पाकिस्तान सुरक्षा परिषद का प्रतिबंध कानून 1267 लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है और इस सिलसिले में कई कदम भी उठाए गए हैं.

फैसल ने कहा कि पाकिस्तान में अदालतें अपने संवैधानिक कर्तव्य को निभा रही हैं और वह पाकिस्तान के सभी नागरिकों के लिए कानून का शासन कायम करने और उचित प्रक्रियाओं का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

उन्होंने कहा कि कानून के शासन में कानूनी प्रक्रिया को अपनाया गया, ना कि राजनीतिक फरमान या दिखावे को तवज्जो दी गयी. फैसल ने कहा, यह सभी राष्ट्रों के हित में है कि इस तरह बोला और किया जाए जो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कानून के शासन के अनुकूल हो.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का आतंकवादियों, आतंकी हिंसा और इसके खिलाफ लड़ाई में संकल्प, उसकी कारवाई और सफलता दुनिया भर में बेमिसाल है. उन्होंने कहा, पाकिस्तान किसी भी व्यक्ति या समूह द्वारा आतंकवाद के सभी प्रारूपों का विरोध और निंदा करता है.

बहरहाल, विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कश्मीर में मानवाधिकारों के कथित उल्लंन और कश्मीरी नेताओं की गिरफ्तारी पर गहरी नाराजगी प्रकट करते हुए कहा कि घेराबंदी और तलाशी अभियान तेज करना कश्मीरी सम्मान और उनके परिवारों की पवित्रता के खिलाफ है.

हाफिज को बाहर निकलने के पीछे पाकिस्तान का मकसद कश्मीर में आतंक को बढ़ाना था, क्योंकि आतंकी बागी हो गये थे.

इतना ही नहीं भारतीय खुफिया सूत्रों के हवाले से यह ख़बर भी मिली है कि हाफिज सईद रिहाई के तुरंत बाद 26/11की बरसी पर पीओके जाएगा. बता जा रहा है कि आईएसआई और पाकिस्तान आर्मी के निर्देश पर हाफीज़ सईद ये दौरा करेगा.

आतंकी हाफिज सईद पीओके में लाईन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर बने आतंकी ट्रेनिंग कैम्प और लॉन्चिंग पैड का भी दौरा करेगा. सईद को मुंबई हमले की नौवीं बरसी से पहले रिहा किया गया है. गौरतलब है कि मुंबई हमले में 166 लोग मारे गए थे.

रिहाई के बाद हाफिज सईद ने एक वीडियो संदेश में कहा है कि मेरी रिहाई से भारत की किरकिरी हुई है. भारत मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकता, कश्मीर आजाद होकर रहेगा.

बता दें कि अमेरिका ने आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्तता के कारण आतंकी हाफिज सईद पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है. हाफिज हाफिज 30 जनवरी से लाहौर के अपने घर में नजरबंद था.
अन्य अंतरराष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack