Friday, 24 November 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

जज घूसकांड मामला: सुप्रीम कोर्ट ने विशेष जांच दल की मांग ठुकराई, कहा यह 'तिरस्कारपूर्ण'

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 14, 2017, 16:36 pm IST
Keywords: Judges bribery scandal   Judges bribery case   Supreme Court   SIT probe   Prashant Bhushan   CJI   Kamini Jaiswal   जज घूसकांड मामला   सुप्रीम कोर्ट   विशेष जांच दल   
फ़ॉन्ट साइज :
जज घूसकांड मामला: सुप्रीम कोर्ट ने विशेष जांच दल की मांग ठुकराई, कहा यह 'तिरस्कारपूर्ण' नई दिल्‍ली: सुप्रीम कोर्ट ने न्यायाधीशों के नाम पर रिश्वत मांगने के मामले में एसआईटी जांच की मांग वाली याचिका मंगलवार को खारिज कर दी. अदालत ने कहा कि इस तरह की याचिका ने न्यायाधीशों की ईमानदारी पर अनावश्यक संदेह पैदा किया है.

सुप्रीम कोर्ट ने वकील कामिनी जायसवाल की तरफ से दाखिल याचिका को खारिज करते हुए उनके वकील प्रशांत भूषण से स्पष्ट कर दिया कि सीबीआई की प्राथमिकी किसी न्यायाधीश के खिलाफ नहीं है और किसी न्यायाधीश के खिलाफ इस तरह की शिकायत दर्ज करना भी संभव नहीं है. बहरहाल, इसने जायसवाल के खिलाफ मानहानि नोटिस जारी नहीं किया.

न्यायमूर्ति आरके अग्रवाल, न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा और न्यायमूर्ति एएम खानविलकर की पीठ ने मामले में एक न्यायाधीश को सुनवाई से हटाने के लिए प्रयास करने पर भी प्रतिकूल टिप्पणी की और कहा कि यह उचित नहीं है. जायसवाल ने वरिष्ठ वकील शांति भूषण और प्रशांत भूषण के माध्यम से मामले में न्यायमूर्ति खानविलकर के हटने की मांग की थी. खानविलकर ने खुद को मामले से हटाने से इनकार कर दिया था.

पीठ ने कहा, ''इस तरह की याचिका दायर कर संस्थान को नुकसान पहुंचाया गया है और इसकी ईमानदारी पर अनावश्यक संदेह पैदा किया गया है.'' याचिका में दावा किया गया था कि मेडिकल कॉलेजों से जुड़े मामलों के निपटारे के लिए कथित तौर पर रिश्वत लेने के आरोप लगाए गए थे. इसमें ओडिशा उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश इशरत मसरूर कुदुशी भी आरोपी हैं.
अन्य कानून लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack