Friday, 24 November 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

आसियान शिखर सम्मेलन 2017: प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप से की मुलाकात

आसियान शिखर सम्मेलन 2017: प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप से की मुलाकात मनीलाः फिलीपींस में चल रहे आसियान शिखर सम्मेलन के दौरान अलग से आयोजित कूटनीतिक मुलाकातों के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की. 6 महीनों में दोनों नेताओं के बीच ये दूसरी मुलाकात थी.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका के संबंध लगातार मजबूत हो रहे हैं और ये रोजाना नयी ऊंचाईयों को छू रहे हैं.

मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दोनों देश एशिया और मानवता के हित में काम कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें खुशी है कि उन्हें अमेरिका के राष्ट्रपति से मिलने का मौका मिला है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्रंप के तारीफों के पुल बाधें. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप जहां भी गये हैं. अंतर्राष्ट्रीय मंच पर जहां भी उन्हें भारत के बारे में बात करने का मौका मिला है. वहां पर उन्होंने भारत की तारीफ की है.

प्रधानमंत्री मोदी के मुताबिक ट्रंप भारत को आशाभरी निगाहों से देखा है. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप को भारत की तारीफ करने के लिए शुक्रिया कहा. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका मिलकर दुनिया का भविष्य बदल सकते हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ बैठक में एशिया के भविष्य, सामरिक और कूटनीतिक मुद्दों पर चर्चा की. दोनों देशों के नेताओं ने दुनिया में शांति स्थापना के लिए जोर दिया. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप को भरोसा दिलाया कि भारत अमेरिकी अपेक्षाओं पर खरा उतरने की कोशिश करेगा.

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने 10 नवंबर को एपेक की बैठक से पहले भी भारत की आर्थिक नीतियों की पुरजोर सराहना की थी और कहा था कि भारत ने दुनिया के लिए अपने अर्थव्यवस्था के दरवाजे खोल कर अपने मध्य वर्ग के लिए अवसरों की एक नयी दुनिया तैयार की है. ट्रंप ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी भारत जैसे विशाल देश को एक सूत्र में लाने के लिए कामयाबी के साथ काम कर रहे हैं.

सामरिक महत्व के एशिया प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका भारत के लिये बड़ी भूमिका की वकालत कर रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा 'हिंद प्रशांत' शब्द के इस्तेमाल से इस आशंका को बल मिला कि इसका इस बात से लेना हो सकता है कि वाशिंगटन चीन को जवाब देने के लिये दरअसल अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया और भारत के तथा कथित चतुर्भुज सामरिक गठबंधन की भूमिका की तैयारी कर रहा है.

ट्रंप ने शनिवार को भारत की ‘‘अद्भुत’’ आर्थिक समृद्धि की तारीफ करने के साथ ही प्रधानमंत्री मोदी की भी प्रशंसा करते हुये कहा था कि वह इस विशाल देश और उसके लोगों को साथ लाने के लिये सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं. वियतनाम के दानांग शहर में एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) के वार्षिक शिखर सम्मेलन से इतर सीईओ के एक समूह को संबोधित करते हुये ट्रंप ने कहा था कि भारत एशिया प्रशांत के क्षेत्र में एक ऐसा देश है जो प्रगति कर रहा है.
अन्य अंतरराष्ट्रीय लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack