Friday, 24 November 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

हर घंटे बढ़ रही मौतः ईरान-इराक बॉर्डर पर भूकंप से अब तक 328 लोग मरे, 2500 घायल

हर घंटे बढ़ रही मौतः ईरान-इराक बॉर्डर पर भूकंप से अब तक 328 लोग मरे, 2500 घायल बगदादः ईरान-इराक सीमा के पास आए शक्तिशाली भूकंप से 328 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है और सैकड़ों लोग घायल हो गए हैं. स्थानीय मीडिया के अनुसार राहत और बचाव कार्य जारी है और मलबे में और कई लोगों के दबे होने की आशंका है.

ईरान के अधिकारियों ने बताया कि इस हादसे में 2500 से ज्यादा लोग घायल हैं. भूकंप रविवार रात 9.18 मिनट पर आया जिसकी गहराई 15 मील थी.

यूएस जियोलॉजिकल सर्वे का कहना है कि भूकंप का केंद्र इराक़ी कस्बे हलब्जा से दक्षिण-पश्चिम में 32 किलोमीटर दूर स्थित था. ईरानी टीवी मीडिया के मुताबिक, भूकंप से ईरान के कई स्थानों पर बिजली भी बाधित हुई है, जिससे राहत एवं बचाव कार्यों में दिक्कत आ रही है.

अमेरिका के भूगर्भ सर्वेक्षण यानी यूएसजीएस के मुताबिक भूकंप का केंद्र हलाब्जा से 20 मील दक्षिण-पश्चिम में था. तो वहीं कुर्दिश टीवी का कहना है कि इराकी कुर्दिस्तान में कई लोग भूकंप की वजह से अपने घरों को छोड़कर जान बचाकर भाग गए हैं.

हालांकि अभी वहां से  जानमाल के नुकसान की कोई ख़बर नहीं मिली है. पांच साल पहले भी ईरान-इराक में दो बड़े भयानक भूकंप आए थे जिसमें सैंकड़ों लोगों की जान गई थी. अगस्त 2012 में भी ईरान के उत्तर-पश्चिमी इलाके में दो जबर्दस्त भूकंपों में करीब 250 लोग मारे गए और 1300 से ज्यादा लोग घायल हुए थे.

भूकंप से जुड़ी तस्वीर
- भूकंप के बाद इराक और ईरान के बॉर्डर इलाकों से तबाही की तस्वीरें सामने आई हैं. सबसे ज्यादा नुकसान ईरान के शहरों में देखने को मिला है.
- ईरान सरकार की क्राइसिस यूनिट के डिप्टी हेड बेहनम सैदी के मुताबिक, भूकंप के चलते 164 लोगों की मौत हुई है, जबकि 1686 घायल हुए हैं.
- स्टेट टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, ईरान के सरपोल ए-जहाब कस्बे में अकेले करीब 100 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं. यहां का मुख्य हॉस्पिटल भी धराशायी हो गया है. ऐसे में घायलों के इलाज में दिक्कतें आ रही हैं.
- इराक में ऑफिशियल्स के मुताबिक, इस भूकंप के चलते 6 लोगों की मौत हुई है, जबकि 50 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं.
- लैंडस्लाइड के बाद कई हाईवे बंद हो चुके हैं. रेड क्रॉस की 30 टीमें रेस्क्यू में जुटी हैं. रात से ही मलबे में दबे लोगों को निकालने का काम जारी है.
- ईरान और इराक के कई शहरों में इलेक्ट्रिसिटी ठप है. दोनों देशों में करीब 10 हजार लोग ऑफ्टर शॉक के डर से ठंड में सड़कों पर रह रहे हैं.

 बढ़ रही गिनती
- इस भूकंप के चलते ईरान के कई प्रॉविन्स में नुकसान हुआ है. केरमन्शाह के डिप्टी गर्वनर मोजताबा निक्करडार ने मौत के आंकड़े बढ़ने की संभावना जताई है.
- मोजताबा ने बताया कि अब भी यहां बढ़ी संख्या में लोग मलबे में दबे हैं. हम उम्मीद करते हैं कि मौत और जख्मी लोगों के आंकड़े और न बढ़ें, लेकिन इसके बढ़ने की उम्मीद है.
- ईरान के इंटीरियर मिनिस्टर अब्दुलरेजा रहमानी फजली ने स्टेट टीवी को बताया कि भूकंप के चलते सड़कें कट गई हैं. वहीं, रात का वक्त होने के चलते हेलिकॉप्टर के जरिए प्रभावित इलाकों में रेस्क्यू मुश्किल हो गया था.

कहां था भूकंप का केंद्र?
- यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के मुताबिक, भूकंप का केंद्र कुर्दिस्तान के हलाब्जा से 30 किलोमीटर दूर सुलेमानियाह प्रॉविन्स के पेन्जविन में था. यहां से 300 किलोमीटर दूर बगदाद, कुवैत और कतर में इसका असर देखा गया.

हर तरफ दहशत
- भूकंप के बाद कुवैत और कतर में रह रहे राजस्थान के लोगों ने एक भारतीय अखबार दैनिक भास्कर को फोटो भेजकर वहां के हालात की जानकारी दी.
- कुवैत इस्तकलाल में रहने वाले बांसवाड़ा के अरुण पांचाल ने बताया- "भूकंप से कुवैत के इस्तकलाल, मालमिया और जलीब इलाके में रह रहे लोग सहम गए. अचानक तीन झटकों से लोग घरों से बाहर निकल आए. कई इमारतों में दरारें आई हैं. चारों तरफ दहशत का माहौल था."
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack