Saturday, 16 December 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

करवा चौथ और 'महत्व' भूलकर भी ना करें ये गलतियां

कृष्णा तिवारी , Oct 08, 2017, 10:36 am IST
Keywords: Karwa chauth   Dhram   festivals   Karwa Festivals   Chauth   करवा चौथ   महत्व   त्यौहार   करवा चौथ का त्यौहार   
फ़ॉन्ट साइज :
 करवा चौथ और 'महत्व' भूलकर भी ना करें ये गलतियां

करवाचौथ हिंदू पंचाग के अनुसार कार्तिक माह के चौथे दिन होता है,पंरपराओं के अनुसार इस दिन शादीशुदा महिलाएं या जिनकी शादी होने वाली हैं वो अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत करती हैं। ये व्रत सुबह सूरज उगने से पहले से लेकर और रात्रि में चंद्रमा निकलने तक रहता है। ये एकदिवसीय त्योहार अधिकतर उत्तरी भारत के राज्यों में मनाया जाता है। हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश, पंजाब, राज्यस्थान और उत्तर प्रदेश में धूमधाम से मनाया जाता है.

इस दिन सिर्फ पति की लंबी आयु की ही नहीं उसके काम-धंधे,धन आदि इच्छाओं की पूर्ति की प्रार्थना करती हैं। करवाचौथ की शुरुआत किसी एक कथा के कारण नहीं हुई थी इसलिए इस त्योहार की बहुत अधिक महत्वता है,इस दिन के लिए कई सारी कथाओं का प्रचलन है.

बहुत समय पहले की बात हैं वीरवती नाम की एक राजकुमारी थी,जब वह बड़ी हुई तो उसकी शादी एक राजा से हुई। शादी के बाद वह करवा चौथ का व्रत करने के लिए मां के घर आई। वीरवती ने भोर होने के साथ ही करवा चौथ का व्रत शुरू कर दिया। वीरवती बहुत ही कोमल व नाजुक थी। वह व्रत की कठोरता सहन नहीं कर सकी। शाम होते होते उसे बहुत कमजोरी महसूस होने लगी और वह बेहोश सी हो गई। उसके सात भाई थे और उसका बहुत ध्यान रखते थे।

उन्होंने उसका व्रत तुड़वा देना ठीक समझा। उन्होंने पहाड़ी पर आग लगाई और उसे चांद निकलना बता कर वीरवती का व्रत तुड़वाकर भोजन करवा दिया। जैसे ही वीरवती ने खाना खाया उसे अपने पति की मृत्यु का समाचार मिला। उसे बड़ा दुःख हुआ और वह पति के घर जाने के लिए रवाना हुई। रास्ते में उसे शिवजी और माता पार्वती मिले। माता ने उसे बताया कि उसने झूठा चांद देखकर चौथ का व्रत तोड़ा है।

इसी वजह से उसके पति की मृत्यु हुई है। वीरवती अपनी गलती के लिए क्षमा मांगने लगी। तब माता ने वरदान दिया कि उसका पति जीवित तो हो जायेगा लेकिन पूरी तरह स्वस्थ नहीं होगा।

केवल सुहागिनें या जिनका रिश्ता तय हो गया है, ऐसी महिलाएं ही ये व्रत रख सकती हैं.

यह व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक रखा जाएगा, निर्जल या केवल जल पर ही व्रत रखें.

- व्रत रखने वाली कोई भी महिला काला या सफेद वस्त्र न पहने.

- लाल वस्त्र सबसे अच्छा है, पीला भी पहना जा सकता है.

- आज के दिन पूर्ण श्रृंगार और पूर्ण भोजन जरूर करना चाहिए.

- अगर कोई महिला अस्वस्थ है तो उसके स्थान पर उसके पति यह व्रत कर सकते हैं.

(कृष्णा तिवारी का यह लेख, यह मोरानहाट (असम) से आती है,बिहार के रोहतास की निवासी मूल रूप से जिन्होंने करवाचौथ पर अपना लेख जनता जनार्दन हिंदी न्यूज़ वेबसाइट को भेजा है)

अन्य धर्म-अध्यात्म लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack