Saturday, 04 April 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

गुगल डूडल बना कर मना रहा सैमुएल जॉनसन का 308वां जन्मदिन

जनता जनार्दन संवाददाता , Sep 18, 2017, 8:19 am IST
Keywords: Samuel Johnson   Samuel Johnson's Birthday   Google Doodle   Samuel Johnson Doodle   Today Google Doodle   गूगल डूडल   सैमुएल जॉनसन  
फ़ॉन्ट साइज :
गुगल डूडल बना कर मना रहा सैमुएल जॉनसन का 308वां जन्मदिन नई दिल्लीः सर्च इंजन गूगल ने आज किताबों वाला एक डूडल बनाया है, वह भी एक अंग्रेजी लेखक के नाम पर. आज से 308 वर्ष पूर्व एक महान हस्‍ती ने जन्‍म लिया था जिसका नाम था सैमुएल जॉनसन. इनकी वजह से ही न केवल अंग्रेज बल्कि दुनिया भर के अंग्रेजी भाषी लोग अंग्रजी को बोल व समझ पाते है. दरअसल इन्‍होंने विश्‍व को अंग्रेजी के शब्‍दकोष दिए जिसके वजह से हम देश विदेश में आसानी से सुचनाओं का आदान-प्रदान कर पाते है.
 
इनका जन्‍म 18 सितम्‍बर 1709 में हुआ था. सैमुएल अंग्रजी लेखक, आलोचक के अलावा 18 वीं शताब्‍दी के प्रसिद्ध साहित्‍यकार के रूप में उभरे थे. इनकी प्रारंभिक शिक्षा लीचफील्‍ड ग्रामर स्‍कूल में हुई और उच्‍च शिक्षा के लिए इनके पैरेंट्स ने ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी में नाम लिखाया, हालांकि उन्‍होंने वहां अच्‍छा समय बिताया लेकिन आगे कि पढ़ाई को पैसों की वजह से रोकना पड़ा. इनके पिताजी की एकमात्र पुस्‍तक की दुकान हुआ करती थी.  
 
शिक्षा पूरी तो हुई नहीं लेकिन इन्‍होंने लेखन में अपना कैरियर बनाना शुरू कर दिया. 1735 में एक 20 वर्ष क‍ी विधवा एलिजाबेथ पोर्टर से उन्‍होंने शादी कर लिया.
 
1737 में वे लंदन चले गए जहां उन्‍होंने विशाल विविधता पर लिखा और अपनी साहित्यिक प्रतिष्‍ठा बनाने में लग गए.  1747 में प्रिंटर के एक सिंडिकेट ने उन्‍हें 'अंग्रेजी भाषा का शब्‍दकोश' संकलित करने के लिए कमिशन दिया. इस काम में उन्‍हे करीब आठ साल लग गए.
1752 में जॉनसन की पत्नि की मृत्‍यु हो गई लेकिन इन्‍होंने अपना काम नहीं छोड़ा.
 
उनकी मेहनत का फल उनको पहली बार 15 अप्रैल 1755 में मिला जब उनकी पहली शब्‍दकोश प्रकाशित हुई. हालांकि यह उस समय की पहली शब्‍दकोश नहीं थी लेकिन जॉनसन का आत्‍मसम्‍मान इससे काफी बढ़ा और उन्‍होंने कुल छ: शब्‍दकोश प्रकाशित किये. छठा शब्‍दकोश ऐसे समय पर प्रकाशित हुआ जब वह मृत्‍यु के कगार पर थे.  आखिरकार उनकी निधन 13 दिसंबर 1784 में हुआ उनके पवित्र शरीर को वेस्‍टमिंस्‍टर एब्‍बे में दफनाया गया.
अन्य चर्चित लेखक लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack