पुलवामा इनकाउंटर खत्मः पुलिस लाइन में घुसे 3 फिदायीन मारे गए; 8 जवान शहीद

जनता जनार्दन डेस्क , Aug 27, 2017, 17:22 pm IST
Keywords: Terrorist attack   Terror attack Pulwama   Pulwama Police Lines   Pulwama encounter   Policeman martyred   Jammu & Kashmir   J&K   Dpl pulwama   जम्मू कश्मीर   पुलवामा   आतंकी हमला  
फ़ॉन्ट साइज :
पुलवामा इनकाउंटर खत्मः पुलिस लाइन में घुसे 3 फिदायीन मारे गए; 8 जवान शहीद श्रीनगरः दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा में शनिवार तड़के तीन आतंकियों ने पुलिस लाइन पर हमला कर दिया। अंदर घुसे आतंकियों को निकालने के लिए चले ऑपरेशन में 8 जवान शहीद हो गए, जबकि 5 घायल हैं। शहीदों में 4 सीआरपीएफ जवान, एक जम्मू-कश्मीर पुलिस का कांस्टेबल और तीन स्पेशल पुलिस ऑफिसर शामिल हैं। सीआरपीएफ के 2 जवान ऑपरेशन के बाद आईईडी निष्क्रिय करते वक्त शहीद हुए। करीब 15 घंटे चली मुठभेड़ में तीनों आतंकी भी मारे गए। दो के शव बरामद हो चुके हैं।

माना जा रहा है कि तीनों आतंकी विदेशी थे। हमले की जिम्मेदारी जैश ए मोहम्मद ने ली है। सीआरपीएफ के अनुसार तड़के पौने 4 बजे जिला पुलिस कॉम्प्लेक्स पर ग्रेनेड फेंकते हुए अातंकी अंदर घुस गए। वहां से ये लोग पुलिस लाइन के तीन ब्लाॅक्स में घुस गए।

वहीं छिपकर फायरिंग शुरू कर दी। यहां बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों के परिवार भी रहते हैं। इन्हें सुरक्षित तरीके से निकालते हुए सेना, पुलिस और सीआरपीएफ ने आतंकियों को निकालने का ज्वाइंट ऑपरेशन शुरू कर दिया। हमले में शहीद हुए दो एसपीओ एक घर में फंसे रह गए थे। सेना की 15वीं कोर के कमांडर ले. जनरल जेएस संधु ने कहा कि यह फिदायीन हमला था।

पुलिसवालों के परिवारों को बंधक बनाने की कोशिश थी
फिदायीन आतंकियों ने पुलिस लाइन परिसर में आग लगा दी। उनकी योजना वहां रह रहे परिवारों को बंधक बनाने की थी। लेकिन सुरक्षाबलों ने सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। एक घर में फंसे रहे दो एसपी– गोलीबारी की चपेट में आ गए। ले. जनरल जेएस संधू ने बताया कि पुलिस लाइन से सभी परिवारों को निकाल लिया गया था।
आतंकियों के समर्थन में सड़कों पर उतरे लोग

मुठभेड़ के दौरान पुलवामा की सड़कों पर बड़ी संख्या में लोग उतर आए और आतंकियों के समर्थन में नारे लगाए। भीड़ को खदेड़ने के लिए सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के गोले छोड़। भीड़ ने भी सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी की। हालांकि, किसी के घायल होने की सूचना नहीं है। पुलवामा के प्रमुख शहर और तहसील मुख्यालयों पर कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं। सुरक्षा के लिहाज से क्षेत्र में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं।
डीजीपी बोले- कोई मरने ही आया हो तो कैसे राेक सकते हैं

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद ने फिदायीन हमले के पीछे सुरक्षा में कोताही से इनकार किया है। उन्होंने कहा, "अगर कोई मरने के लिए तैयार होकर आया है तो आप उसे नहीं रोक सकते हैं।'' उन्होंने बताया कि आतंकी परिसर के फैमिली क्वार्टर कॉम्प्लेक्स में घुस गए थे। इन ब्लॉक्स में फंसे लोगों को सुरक्षित तरीके से निकाला गया।
बीएसएफ की फायरिंग में तीन पाक रेंजर मारे गए

अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की बिना उकसावे की गई फायरिंग का बीएसएफ ने शनिवार को मुंहतोड़ जवाब दिया। इसमें पाकिस्तान के तीन रेंजर मारे गए हैं। बीएसएफ की ओर से बताया गया कि आईबी पर सुंदरबनी सेक्टर में पाकिस्तान ने सुबह करीब आधा दर्जन मोर्टार दागे जो देवरा गांव में फटे। जवाबी कार्रवाई में तीन रेंजरों के मारे जाने की खबर है। इसके बाद पर्गवाल में रेंजरों ने फायरिंग की। बीएसएफ ने इसका भी पूरी ताकत से जवाब दिया। शुक्रवार को आरएस पोरा सेक्टर में पाक की ओर से हुई फायरिंग में बीएसएफ के जवान केके अप्पा राव जख्मी हो गए थे।उनको स्नाइपर ने निशाना बनाकर उस समय गोली मार जब वे पानी पी रहे थे। गोली उनके कान के नीचे लगी। ऑपरेशन के बाद उनकी हालत स्थिर बताई गई है।
अन्य सुरक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack