Sunday, 17 December 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

बक्सर के डीएम का गाजियाबाद रेल ट्रैक पर मिला शव, की आत्महत्या

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 11, 2017, 7:36 am IST
Keywords: Mukesh Pandey   DM Buxar   Mukesh Pandey IAS   Mukesh Pandey suicide   IAS Mukesh Pandey   IAS Mukesh Pandey suicide   बक्सर के डीएम   मुकेश पांडे   आत्महत्या   सुसाइड नोट  
फ़ॉन्ट साइज :
बक्सर के डीएम का गाजियाबाद रेल ट्रैक पर मिला शव, की आत्महत्या गाजियाबादः गाजियाबाद में बक्सर के डीएम मुकेश पांडे ने बृहस्पतिवार की रात गाजियाबाद में कोटगांव के पास रेलवे लाइन पर ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। उनके पास से पुलिस ने दो सुसाइड नोट बरामद किए हैं। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।  

बृहस्पतिवार से वह लापता थे और उनके ससुर ने दिल्ली के सरोजिनी नगर थाने में शाम को उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। गाजियाबाद में जीआरपी एसआई ने शव पड़ा देखा और सूचना अधिकारियों को दी।  फिलहाल इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है कि उन्होंने ट्रेन से कूदकर सुसाइड किया या किसी ने उन्हें जबरन धक्का दे दिया.

पुलिस के मुताबिक मुकेश पांडे बिहार कैडर के 2012 बैच के आईएएस थे। एक अगस्त को ही उन्होंने बतौर डीएम बक्सर जिले का चार्ज संभाला था। पुलिस के मुताबिक वह दिल्ली आए थे। बृहस्पतिवार की शाम को उनके ससुर ने दिल्ली के सरोजिनी नगर थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक परिजनों और मित्रों की ओर से उनके आत्महत्या करने जाने का शक भी जताया गया था। रात करीब 9 बजे गश्त के दौरान जीआरपी एसआई ने उनका शव पड़ा देखा। उनकी गर्दन कट चुकी थी। उनकी तलाशी लेने पर सुसाइड नोट बरामद हुआ, जिससे उनकी शिनाख्त हो सकी।

डीएम गाजियाबाद मिनिस्ती एस, एसएसपी एचएन सिंह और एसपी सिटी आकाश तोमर भी मौके पर पहुंचे। डीएम ने बताया कि रात 8:40 बजे पद्मावत एक्सप्रेस गुजरी थी, संभावना है कि उसी ट्रेन से कूदकर या उसके आगे आकर आत्महत्या की है। पुलिस की सूचना पर उनके सास, ससुर और पत्नी मौके पर पहुंचे थे।

डीएम ने मरने से पहले अपनी मौत की वजह एक वाट्सएप मैसेज के जरिए बताई। उन्होंने मैसेज में उन सब बातों का जिक्र किया जिसकी वजह से उन्हें ये दुनिया छोड़कर जानी पड़ी। दरअसल, अपनी मौत से पहले वाट्सएप करने वाले डीएम ने लिखा कि  

'मैं जीवन से निराश हूं और मानवता से विश्वास उठ गया है। मेरा सुसाइड नोट दिल्ली के होटल लीला पैलेस में नाईक के बैग में रूम नंबर 742 में रखा है। उन्होंने आगे लिखा कि मैं आप सबसे प्यार करता हूं, कृपया मुझे माफ कर दें।'
अन्य अपराध लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
 
stack