रूस भारत को मिग-35 लड़ाकू विमान बेचने का इच्छुक

रूस भारत को मिग-35 लड़ाकू विमान बेचने का इच्छुक झुकोवस्की: रूस पांचवी पीढ़ी का मिग-35 लड़ाकू विमान भारतीय वायुसेना को बेचने का इच्छुक है, भारत रुचि दिखाए तो सौदा पक्का हो सकता है. यह बात मिग कॉरपोरेशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) इल्या तारासेंको ने कही है.

इसी साल जनवरी में लांच हुआ यह अत्याधुनिक विमान अमेरिकी विमान एफ-35 से कई मायनों में बेहतर माना जा रहा है. इसके सिस्टम कुछ वैसे ही हैं जैसे कि मिग-29 के हैं जिनका इस्तेमाल भारतीय वायुसेना कर रही है.

रूस के झुकोवस्की शहर में चल रहे माक्स 2017 एयर शो के दौरान बातचीत में सीईओ तारासेंको ने कहा, उनकी कंपनी भारतीय वायुसेना की जरूरतों के मुताबिक उसके खरीद आदेश को प्राप्त करने की पूरी कोशिश कर रही है. दोनों पक्ष अभी तकनीक मामलों पर बातचीत की प्रक्रिया में हैं.

मिग कंपनी प्रमुख ने कहा, भारत उनके विमानों का पिछले 50 साल से इस्तेमाल कर रहा है. उनकी इच्छा है कि वह कंपनी का अत्याधुनिक उत्पाद भी खरीदे और उसका इस्तेमाल करे.

विमान के मूल्य के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, बिक्री के बाद सेवा देने के पक्ष को शामिल कर लिया जाए तो यह सस्ता पड़ेगा. हम बिक्री के साथ ही इसकी 40 साल तक सर्विस का समझौता भी कर रहे हैं. इस लिहाज से यह दुनिया के समकक्ष विमानों की तुलना में 20 से 25 प्रतिशत सस्ता पड़ रहा है.

सीईओ के अनुसार मिग-35 रडार की पकड़ में न आने वाला स्टील्थ विमान है. इसकी खासियतें इसे पांचवीं पीढ़ी के नजदीक ले जाती हैं. इसमें तीन तरह के मिसाइल सिस्टम लगे हैं. जो हवा, जमीन और पानी में मार कर सकते हैं. इसका डिफेंस सिस्टम भी काफी मजबूत है.

रूस के ऑफर की खास बातें
-एमआईजी कॉरपोरेशन के सीईओ इल्या टारेशेंको ने कहा- हमने इसी साल जनवरी में एमआईजी-35 को भारत की जरूरतों के मद्देनजर तैयार किया है.
- टारेशेंको ने आगे कहा- हम भारत और दूसरे देशों में इस फाइटर जेट को प्रमोट करना चाहते हैं. भारत को नए फाइटर जेट्स की जरूरत है और उनकी एयरफोर्स से इस बारे में लगातार बात कर रहे हैं.
-हम चाहते हैं कि इन एयरक्राफ्ट्स का टेंडर एमआईजी को ही मिले. दोनों देशों के बीच बेहतरीन डिफेंस रिलेशन रहे हैं.
- बता दें कि रूस के इन एमआईजी-35 को दुनिया के सबसे बेहतरीन फाइटर जेट्स में से माना जाता है.

भारत ने भी रुचि दिखाई
- इतना ही नहीं न्यू जेनरेशन में भी इन्हें रूस और दुनिया के सबसे एडवांस्ड फाइटर जेट्स में गिना जाता है. इसी सीरीज में दो और एयरक्राफ्ट्स रूस ने तैयार किए हैं.
- टारेशेंको से जब ये पूछा गया कि क्या भारत ने भी एमआईजी-35 को लेकर कोई इंटरेस्ट दिखाया है? उन्होंने कहा- बिल्कुल.
-भारत एमआईजी के एयरक्राफ्ट्स को 50 साल से इस्तेमाल करता आया है. अब जबकि हमने अपना सबसे बेहतरीन फाइटर जेट तैयार किया है तो भारत हमारे लिए सबसे अहम खरीदार हो सकता है.
- उन्होंने कहा- भारत से हमारी बातचीत चल रही है. हम उनकी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए कुछ टेक्निकल स्पेसिफिकेशन जेट्स में डाल सकते हैं.
- ये बिल्कुल नए फाइटर जेट्स हैं, लिहाजा भारत को क्या जरूरत है, इसे समझने और फिर उन्हें पूरा करने के लिए कुछ वक्त तो जरूर लगेगा.
- टारेंशेंको ने कहा- आफ्टर सेल सर्विस के हिसाब से ये बहुत किफायती जेट है.

ट्रेनिंग भी देंगे
- टारेशेंको ने कहा- हम सिर्फ एयरक्राफ्ट ही नहीं देंगे. बल्कि इसके सही इस्तेमाल के लिए ट्रेनिंग और लंबे वक्त तक सर्विस देने की भी गांरटी देते हैं.
- उन्होंने कहा कि एमआईजी-35 अपने दौर के बाकी एयरक्राफ्ट्स की तुलना में 25 फीसदी तक सस्ता है. जबकि इसके फीचर सबसे शानदार हैं.
- इस फाटर जेट के लीड टेस्ट पायलट बेलेव्यू मिखाइल ने कहा- ये एयर टू एयर, एयर टू सी और एयर टू ग्राउंड एक जैसी ताकत के साथ ऑपरेट कर सकता है. इसका कॉकपिट इस तरीके से बनाया गया ताकि रात में भी कोई दिक्कत ना आए.
अन्य वायु सेना लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack