इराक में आतंक का किला ढहा, आईएस से आजाद हुआ मोसुल

जनता जनार्दन डेस्क , Jul 10, 2017, 13:33 pm IST
Keywords: मोसुल   इराक में आतंक का किला   आतंकी संगठन   आईएस   Iraq Prime Minister   Hails Forces   Securing Mosul Victory   ISIS group   Mosul   ISIS group   Jihadi  
फ़ॉन्ट साइज :
इराक में आतंक का किला ढहा, आईएस से आजाद हुआ मोसुल मोसुल: इराक में आतंक का किला ढह गया है। आतंकी संगठन आईएस अपनी राजधानी मोसुल को हार गया है। उसके आतंकी अब मोसुल छोड़कर भाग रहे हैं या जान बचाने के लिए छिप रहे हैं। इनमें से कुछ तो टिगरिस नदी में कूद कर जान बचाने की कोशिश कर रहे थे, इनमें से 30 आतंकियों को इराकी सेना ने मार गिराया और कुछ को पानी से निकालकर बंदी बना लिया।

इराक के प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी भी मोसुल पहुंच गए हैं और उन्होंने मोसुल फतह के लिए सेना और सभी सहयोगी बलों को मुबारकबाद दी है। सरकार ने मोसुल में जीत की घोषणा कर दी है। करीब नौ महीने चली लड़ाई में अंततः इस्लामिक स्टेट (आईएस) के पांव उखड़ गए और इराक में उसे अपनी राजधानी मोसुल गंवानी पड़ी। मोसुल को 2014 में आईएस ने अपनी राजधानी बनाया था।

इराकी सेना के कमांडो दस्ते अब पुराने मोसुल शहर में घुस गए हैं और वे आतंकियों की तलाश में घर-घर जा रहे हैं। अंदेशा है कि आतंकी जान बचाने या घात लगाकर हमला करने के लिए कहीं छिपे हो सकते हैं। हालात पर नजर रखने के लिए लड़ाकू विमान लगातार शहर के ऊपर चक्कर लगा रहे हैं। जहां भी अंदेशा होता है, वहां वे बम गिराने से नहीं चूक रहे। आइएस सरगना अबू बकर अल-बगदादी लापता है।

रूस के दावे पर भरोसा किया जाए तो उसे सीरिया में आइएस की राजधानी रक्का में मार गिराया गया है, लेकिन उसकी लाश अभी तक बरामद नहीं हुई है। मोसुल की लड़ाई में हजारों शहरवासियों को अपनी जान गंवानी पड़ी है और करीब दस लाख लोगों को अपना ठिकाना छोड़कर शिविरों में या अन्यत्र रहना पड़ रहा है। बड़ी संख्या में इराकी सेना के जवान भी शहीद हुए हैं।

हजारों आतंकियों के मारे जाने की खबर है। इराकी सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल याह्या रसूल के अनुसार रविवार को टिगरिस नदी में तैरकर फरार होने की कोशिश कर रहे 30 आतंकी मारे गए हैं। इराकिया न्यूज चैनल ने बताया है कि सेना ने मोसुल शहर में नदी के किनारे इराकी झंडा फहरा दिया है। आइएस की मजबूत पकड़ वाला इलाका अब आजाद हो गया है। शनिवार को आइएस ने मोसुल में लड़ते हुए मरने का नारा दिया था।
अन्य मध्य-पूर्व लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack