Friday, 24 November 2017  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

गूगल डूडलः ईवा एकेब्लाड का 293वां जन्मदिन, जिन्होंने आलू से बनाया आटा और शराब

जनता जनार्दन डेस्क , Jul 10, 2017, 7:39 am IST
Keywords: Eva Ekeblad   Swedish noble   Agronomist   Google Doodle   Potatoes alcohol   Potatoes flour   ईवा एकेब्लाड   गूगल डूडल   आलू से शराब  
फ़ॉन्ट साइज :
गूगल डूडलः ईवा एकेब्लाड का 293वां जन्मदिन, जिन्होंने आलू से बनाया आटा और शराब नई दिल्लीः स्वीडन की फेमस एग्रीकल्चर साइंटिस्ट ईवा एकेब्लाड का आज 293वें बर्थडे है. इस मौके पर सर्च इंजन गूगल ने की याद में खास तरह का डूडल बनाकर उनको याद किया है.

बेहतरीन तरीके से डिजाइन किए गए इस डूडल को खास तौर पर छिलकों के साथ आलू और आटा दिखाया गया है. फिर आलू से आटा और अल्कोहल की खोज दिखाई गयी है.

स्वीडिश कृषि विज्ञानी ईवा एकेब्लाड की सबसे बड़ी उपलब्धि आलू से आटा और एल्कोहल की खोज करना रही.

10 जुलाई 1724 को स्वीडन में ईवा एकेब्लाड का जन्म हुआ और 15 मई 1786 को निधन हो गया था. 16 साल की उम्र में ही ईवा एकेब्लाड की शादी राजनेता क्लेस क्लॉसन से हो गई थी, जिनसे उनके पांच बच्चे हुए.

आलू से आटा और एल्कोहल बनाने की खोज करने वालीं एकेब्लाड रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज में भर्ती होने वाली पहली महिला थीं.

आलू सबसे पहले स्वीडन में 1658 में  पहुंचा. एकलैंड की खोज से पहले, आलू को इनसानों नहीं बल्कि जानवरों का भोजन माना जाता था. उसके बाद एक सदी के लिए केवल ऊंचे लोगों के लिए यह उपलब्ध होता रहा.

ईवा एकलैंड ने प्रयोग के तौर पर खुद ही आलू का उत्पादन बढ़ाना शुरू कर दिया और इसके बाद जर्मनी में भी इसे शराब बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा.

1746 में ईवा एकेब्लाड ने पाया कि इस दुर्लभ सब्जी को सुखाकर आटा भी बनाया जा सकता है. उस दौरान जब भुखमरी के हालात पैदा हो गए थे, तब ईवा की यह खोज स्वीडिश लोगों को काफी पसंद आई.

ईवा की इस खोज से पहले गेहूं, राई और जौ से अल्कोहल बनाई जाती थी, जिसके चलते खाने के लिए आटा कम पड़ जाता था. हालांकि, इसकी खोज के बाद अनाज बचने लगा और लोगों की जरूरत के हिसाब से आटा मिलने लगा.

बता दें कि सर्च इंजन गूगल खास तरह का डूडल बनाकर देश-दुनिया की फेमस हस्तियों और मौकों को याद करता है. डूडल नियमित तौर पर बदलने वाला गूगल होम पेज का लोगो है.
अन्य आधी दुनिया लेख
वोट दें

दिल्ली प्रदूषण से बेहाल है, क्या इसके लिए केवल सरकार जिम्मेदार है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack