गुजरात का सपुतारा: एक नया हिल स्टेशन

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 02, 2011, 10:11 am IST
Keywords: Gujarat's Saputara   Getaway   Verdant hills   Tourist place   Road map   Natural beauty   गुजरात   पर्यटन   सपुतारा   हिल स्टेशन   पर्यटन स्थल   
फ़ॉन्ट साइज :
गुजरात का सपुतारा: एक नया हिल स्टेशन सपुतारा (गुजरात): गुजरात में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई कदम उठा रही है। उन्हीं में से एक है सपुतारा को हिल स्टेशन के रूप में विकसित करने का प्रयास, जहां बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित किया जा सके।

डांग जिले के सहयाद्रि पहाड़ी क्षेत्र में स्थित सपुतारा गुजरात का एकमात्र हिल स्टेशन है। यह समुद्र तल से 873 मीटर ऊपर है। यहां अधिकतर भील और जनजातीय समुदाय की आबादी है। यहां बनाई गई कृत्रिम झील पर्यटकों के बीच बड़े आकर्षण का केंद्र है, जहां लोग बोटिंग का खूब मजा लेते हैं।

सपुतारा हिल स्टेशन के रूप में विकसित करने के लिए सरकार ने 30 जुलाई को एक महीने तक चलने वाला मानसून उत्सव शुरू किया है। इस दौरान पैराग्लाइडिंग (पैराशूट से उड़ान भरना), ट्रैकिंग (पहाड़ की चढ़ाई) और जनजातीय समुदाय के साथ नृत्य आदि का मजा लिया जा सकेगा।

यह स्थान महाराष्ट्र की सीमा से केवल एक किलोमीटर दूर है। पर्यटन स्थल के रूप में इसके विकास के पीछे नासिक जाने वाले पर्यटकों और शिरडी में साईं बाबा के दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं को भी ध्यान में रखा गया है। सापुतारा से नासिक केवल 77 किलोमीटर दूर है तो शिरडी 140 किलोमीटर दूर है।

पर्यटन मंत्रालय के प्रधान सचिव विपुल मित्रा के अनुसार, "हम महाराष्ट्र की सीमा पर दो बड़े द्वार खड़े कर रहे हैं, जहां सापुतारा आने वालों का स्वागत होगा।"

वहीं, टूरिज्म कॉर्पोरेशन ऑफ गुजरात लिमिटेड के अध्यक्ष कमलेश पटेल ने कहा, "पर्यटकों को बहुत बार शिरडी में होटल नहीं मिल पाते। ऐसे में वे सापुतारा के होटलों में रात बिता सकते हैं और दिन में शिरडी जा सकते हैं।"

उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र से सापुतारा की राह में गुजरात सरकार 20 करोड़ रुपये की लागत से विश्राम गृह का निर्माण भी करा रही है, जहां पर्यटक रूक सकेंगे, स्नान आदि कर सकेंगे और थोड़ी देर के लिए सुस्ता भी सकेंगे। यहां बच्चों के खेलने की भी व्यवस्था होगी।

सापुतारा के जंगली इलाकों में सांप भी बड़ी संख्या में पाए जाते हैं, लेकिन अधिकारियों का कहना है होटलों और रिसॉर्ट में सांप नहीं होगा। जिला प्रभारी एस. के. नंदा के अनुसार, क्षेत्र के जनजातीय समुदाय के लोग सर्पदंश का आयुर्वेदिक तरीके से इलाज भी जानते हैं और इसलिए पर्यटकों को यहां किसी तरह की समस्या नहीं होगी।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack