Wednesday, 18 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

12वीं में लड़कियों का जलवा, रक्षा बनीं टॉपर

जनता जनार्दन संवाददाता , May 28, 2017, 13:59 pm IST
Keywords: सीबीएसई   बोर्ड रिजल्ट   12वीं क्लास   CBSE Board Class 12th Topper   Cbse 12th class result 2017   Cbse   Board result   12th class  
फ़ॉन्ट साइज :
12वीं में लड़कियों का जलवा, रक्षा बनीं टॉपर नई दिल्ली: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) ने रविवार को 12वीं के नतीजों का ऐलान कर दिया। एक बार फिर लड़कियों ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। इस साल टॉप 1 और 2 पोजिशन पर लड़कियां हैं। नोएडा के एमिटी इंटरनैशनल स्कूल की रक्षा गोपाल 12वीं की ऑल इंडिया टॉपर हैं।

आर्ट्स स्ट्रीम की छात्रा रक्षा को 99. 6 फीसदी अंक प्राप्त हुए हैं। रक्षा को तीन विषयों इंग्लिश, पॉलिटिकल साइंस और इकनॉमिक्स में 100-100 नंबर मिले हैं, जबकि इतिहास और साइकॉलजी में 99-99 नंबर मिले हैं। दूसरे नंबर पर साइंस स्ट्रीम की भूमि सावंत हैं। तीसरे नंबर पर दो छात्र आदित्य जैन और मन्नत लूथरा हैं। ये दोनों कॉमर्स के छात्र हैं और दोनों को 99.2-99.2 फीसदी मार्क्स आए हैं। आदित्य और मन्नत दोनों चंडीगढ़ के हैं।

बोर्ड ने 12वीं क्लास के बाद छात्रों की मनोवैज्ञानिक काउंसिलिंग के लिए एक हेल्पलाइन भी जारी किया है जिसका नंबर 18000118004 है। सीबीएसई के अधिकारी ने बताया, 'हेल्पलाइन नंबर पर सुबह 8 बजे से 10 बजे रात के बीच 65 कांउंसिलर्स छात्रों और अभिभावकों से बात करेंगे।' केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने टॉपरों से बातचती की और उनको उनके प्रदर्शन के लिए बधाई दी।

इस साल 95-100 फीसदी नंबर लाने वाले स्टूडेंट्स की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। पिछले साल 9351 स्टूडेंट्स ने 95-100 फीसदी नंबर हासिल किए थे, जबकि इस साल 10091 स्टूडेंट्स ने। जहां इस बार 95-100 फीसदी नंबर हासिल करने वाले स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ी है, वहीं दिल्ली का पास पर्सेंटेज इस बार कम हुआ है। पिछले साल दिल्ली का पास पर्सेंटेज 87.01 फीसदी था जबकि इस साल 86.45 है।

सीबीएसई के एक अधिकारी के मुताबिक ऑल इंडिया पास पर्सेंटेज में भी इस साल गिरावट आई है। पिछले साल ऑल इंडिया पास पर्सेंटेज 83.05 फीसदी था जो इस साल घटकर 82 फीसदी हो गया है इस साल 9 मार्च से 29 अप्रैल तक आयोजित बोर्ड परीक्षा में 10,98,891 स्टूडेंट्स बैठे थे। सीबीएसई के दिल्ली रीजन में सबसे ज्यादा 2,58,321 स्टूडेंट्स थे। इसके बाद पंचकुला और अजमेर का नंबर था। इस साल 2 हजार 497 ऐसे छात्रों ने भी परीक्षा दी थी जो शारीरिक रूप से अक्षम हैं।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack