Sunday, 15 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का निधन, पीएम मोदी ने कहा मेरी निजी क्षति

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का निधन, पीएम मोदी ने कहा मेरी निजी क्षति नई दिल्ली: केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है. खबरों के मुताबिक- वह काफी लंबे समय से बीमार चल रहे थे. पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर उनके निधन पर शोक जताया है.

नर्मदा नदी को बचाने के लिए अनिल माधव ने बहुत काम किया है. उन्होंने पर्यावरण को बचाने के लिए कई किताबें भी लिखी हैं. पर्यावरण मंत्री के तौर पर उनके कार्यकाल को अभी 1 साल भी पूरा नहीं हुआ था.

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने लिखा है कि बहुत दुखी और चौंकाने वाला, अपूरणीय हानि. उन्होंने समाज के लिए वर्षों तक काम किया.

केंद्रीय गृहराज्यमंत्री किरेन रिजीजू ने लिखा है कि अनिल माधव दवे जी सज्जन पुरुष की एक दम सटीक परिभाषा थे. वह बहुत अच्छे इंसान थे. मैं उनके मुस्कुराते व्यक्तित्व को हमेशा याद रखूंगा. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे.

अनिल माधव दवे 5 जुलाई 2016 को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री बने. वह मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद थे. वह ग्लोबल वॉर्मिंग, क्लाइमेट चेंज पर पार्लियामेंट्री फ़ोरम के सदस्य रहने के साथ ही जल संसाधन समेत कई समितियों के सदस्य रहे. वह नर्मदा बचाओ अभियान से तो जुड़े ही थे, साथ ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े रहे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा, मैं कल शाम को अनिल दवे जी के साथ था, उनके साथ नीतिगत मुद्दों पर चर्चा कर रहा था. उनका निधन मेरा निजी नुकसान है.

उन्हें लोग जुझारू लोक सेवक के तौर पर याद रखेंगे. पर्यावरण संरक्षण की दिशा में वह काफी जुझारू थे. अनिल दवे का जन्म उज्जैन में हुआ था.

अनिल आरएसएस से जुड़े थे.  लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने शिवाजी पर किताब लिखी थी. अनिल दवे नर्मदा प्रेमी थे. एक बार खुद हवाई जहाज उड़ाकर और एक बार नाव चला कर नर्मदा की पूरी परिक्रमा की थी.  

केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने भी ट्वीट कर शोक जताया है. मेरे साथी पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे की अचानक हुई मौत से हैरान और बहुत दुखी हूं. मेरी गहरी संवेदना.
अन्य खास लोग लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack