Saturday, 19 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

केजरीवाल पर भ्रष्टाचार का आरोप: अन्ना का 'टूटा सपना', योगेंद्र, विश्वास अब भी साथ, तिवारी ने मांगा इस्तीफा

केजरीवाल पर भ्रष्टाचार का आरोप: अन्ना का 'टूटा सपना', योगेंद्र, विश्वास अब भी साथ, तिवारी ने मांगा इस्तीफा  नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्री सत्येंद्र जैन पर कैबिनेट से निकाले गए कपिल मिश्रा के आरोपों के बाद समाजसेवी अन्ना हजारे ने दुख जाहिर किया है. हालांकि कुमार विश्वास और योगेंद्र यादव ने केजरीवाल के पक्ष में बयान दिए हैं. पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने उनका इस्तीफा मांगा है.

भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के दौरान अरविंद के अगुआ रहे अन्ना हजारे ने कहा कि केजरीवाल कभी उनके साथ भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में शामिल थे और अब उन पर ही आरोप लग रहे हैं यह बहुत ही दुख की बात है.

अन्ना ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने उनका सपना पहले ही तोड़ दिया था. उधर, केजरीवाल की पूर्व सहयोगी और वर्तमान में पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने निष्पक्ष जांच की मांग की है.

केजरीवाल पर लगे गंभीर आरोपों को लेकर अन्ना ने चैनल टाइम्स नाउ से कहा,'मैं पूरे मामले की स्टडी करूंगा और फिर इस पर विस्तार से बात करूंगा. अभी मैं टीवी पर जो मैं देख रहा हूं, न्यूज देखकर मुझे बहुत दुख हुआ. हम भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते रहे.

" मैं तो 40 साल से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहा हूं. दिल्ली में जो भ्रष्टाचार के विरोध में लड़ाई हुई उसकी वजह से वह सीएम बने. लेकिन आज उन पर ऐसा आरोप लगना इतने दुख की बात है कि मैं कह नहीं सकता.

क्या केजरीवाल ने उनका सपना तोड़ दिया? इस सवाल के जवाब में अन्ना ने कहा, 'मेरा सपना तो तभी टूट गया था, जब कैबिनेट के 6 मंत्रियों में से 3 का इस्तीफा हो गया. कैबिनेट मंत्री आकर कहता है कि मैंने केजरीवाल को 2 करोड़ रुपये लेते देखा. यह बहुत दुख की बात है.'

कभी अरविंद केजरीवाल के साथ रहीं किरण बेदी ने ट्वीट किया, 'अपने मुख्यमंत्री के खिलाफ एक मंत्री भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहा है और चश्मदीद होने का दावा करता है. तुरंत निष्पक्ष जांच हो.'

सीएम आवास पर हुई बैठक के बाद कुमार विश्वास ने गाजियाबाद में अपने आवास पर मीडिया से बात की. उनका कहना था कि भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के लिए मिश्रा के आरोप बेहद दुखद हैं. कुमार के मुताबिक वो अरविंद केजरीवाल को पिछले 12 सालों से जानते हैं और वो कभी भ्रष्ट नहीं हो सकते.

कुमार विश्वास का मानना है कि केजरीवाल के दुश्मन भी उनपर ऐसा आरोप नहीं लगा सकते. उन्होंने इन आरोपों पर सबूतों की भी मांग की. विश्वास का कहना था कि अगर कपिल मिश्रा के पास वाकई ऐसी जानकारी थी तो उन्हें ये बात पार्टी के मंच पर सामने रखनी चाहिए थी.

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता योगेंद्र यादव ने कपिल मिश्रा पर ही सवाल उठाए हैं. योगेंद्र यादव ने साफ तौर पर कहा कि केजरीवाल कभी घूस नहीं ले सकते. उन्होंने कहा कि इतने गंभीर आरोप ऐसे हल्के ढंग से नहीं लगाने चाहिए. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि कपिल मिश्रा अब तक क्यों शांत बैठे थे.

वहीं दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने भी केजरीवाल के समर्थन में खड़े नजर आए. संजय ने अपने ट्वीट में लिखा, 'अरविंद केजरीवाल की ईमानदारी पर उनका दुश्मन भी शक नहीं करता, मंत्री पद जाने की बौखलाहट में दिया गया कपिल मिश्रा का बयान घटिया और ओछा है.'

केजरीवाल के पुराने साथी मयंक गांधी ने भी केजरीवाल पर लगे आरोपों पर हैरानी जताई और सीबीआई जांच की मांग की.

उन्होंने कहा, 'मैं उम्मीद करता हूं कि जो आरोप लगे वे सच ना हों, लेकिन इसकी तुरंत जांच होनी चाहिए. 67 सीट जीतने के बाद केजरीवाल बहुत बदल गए. अचानक उनका घमंड बहुत बढ़ गया. राजनीतिक जीत के लिए उन्होंने समझौते करने शुरू कर दिए. सीबीआई जैसी किसी एजेंसी से पूरे मामले की निश्चित समय में जांच होनी चाहिए.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लगाए गए आरोपों पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि आज का दिन दिल्ली के लिए काला दिन है. मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है. उन्हें नैतिक आधार पर तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए.'

मनोज तिवारी ने कपिल मिश्रा को उनके साहस के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि केजरीवाल के इस सच से सभी सीएम हैरान होंगे.

तिवारी ने कहा, 'केजरीवाल के खिलाफ ये आरोप नहीं बल्कि यह गवाही है.' उन्होंने कहा कि सच बोलने पर कपिल मिश्रा को हटाया जाता है, जबकि केजरीवाल अपने मंत्री से खुलेआम रिश्वत लेते हैं. एजेंसियों को केजरीवाल के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए.'

गौरतलब है कि शनिवार को अचानक मंत्री पद से हटाए गए कपिल मिश्रा ने आज सुबह दावा किया कि उन्होंने केजरीवाल को सत्येंद्र जैन से 2 करोड़ रुपये कैश लेते हुए अपनी आंखों से देखा.

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि खुद सत्येंद्र जैन ने उन्हें बताया था कि उन्होंने केजरीवाल के एक रिश्तेदार के लिए 50 करोड़ रुपये की लैंड डील कराई. वहीं, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मीडिया के सामने आकर कहा कि कपिल के आरोप बेबुनियाद हैं.
अन्य दिल्ली, मेरा दिल लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack