अप्रैल-जून तिमाही के लिए सरकार ने पीपीएफ, छोटी जमा बचत पर ब्याज दर घटाई

जनता जनार्दन संवाददाता , Mar 31, 2017, 17:27 pm IST
Keywords: सरकार   ब्याज दर में कटौती   छोटी जमा बचत   Small savings deposits   PPF   Interest rate   Government  
फ़ॉन्ट साइज :
अप्रैल-जून तिमाही के लिए सरकार ने पीपीएफ, छोटी जमा बचत पर ब्याज दर घटाई नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने शुक्रवार को छोटी जमा बचत पर ब्याज दरों में कटौती कर दी है। सरकार ने पीपीएफ समेत स्मॉल सेविंग्स डिपॉजिट्स की ब्याज दर 0.1 फीसदी घटा दी है। नई दरें एक अप्रैल से लागू होंगी।

सरकार ने किसान विकास पत्र पर ब्याज घटाकर 7.6% कर दिया वहीं वरिष्ठ नागरिकों की सेविंग्स पर दर 0.1% घटाकर 8.4% कर दिया। इसी तरह अप्रैल-जून तिमाही के लिए पीपीएफ पर ब्याज दर घटाकर 7.9% कर दी गई।

नैशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट पर दर घटने के बाद 7.9% और किसान विकास पत्र पर 7.6% की दर से ब्याज दिया जाएगा।

राष्ट्रीय बचत संस्थान के मुताबिक यह बीते 40 सालों के इतिहास में सबसे निचला स्तर है। आपको बता दें कि 31 मार्च तक पीपीएफ पर मिलने वाली ब्याज दर 8 फीसद थी।

छोटी बचत योजनाओं पर अब नई दर:

सुकन्या समृद्धि योजना: वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए सुकन्या समृद्धि योजना समेत तमाम लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 फीसद की कटौती करने का फैसला किया है। वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार बालिकाओं के लिए शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना पर ब्याज दर सालाना 8.4 फीसद होगी जो फिलहाल 8.5 फीसद है।

लोक भविष्य निधि (पीपीएफ): वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए सरकार ने लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) जैसी लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 प्रतिशत की कटौती की है। पिछले साल अप्रैल से लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में तिमाही आधार पर ब्याज दर में बदलाव किया जा रहा है। वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार पीपीएफ में निवेश पर अब सालाना 7.9 फीसद की दर से ब्याज मिलेगा। यह दर पहले आठ फीसद की थी।

वरिष्ठ नागरिक जमा बचत योजना: वरिष्ठ नागरिक बचत जमा योजना पर भी ब्याज दर फीसद होगी। वरिष्ठ नागरिक बचत जमा योजना पर ब्याज तिमाही आधार पर दिया जाता है।

किसान विकास पत्र: ब्याज दर में 0.1 फीसद की कमी के साथ किसान विकास पत्र (केवीपी) में निवेश पर 7.6 प्रतिशत ब्याज मिलेगा और यह 112 महीने में परिपक्व होगा।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack