सोशल मीडिया सही मंच नहीं, शिकायत पेटी का इस्तेमाल करें: सेना प्रमुख बिपिन रावत

जनता जनार्दन रक्षा संवाददाता , Jan 13, 2017, 19:42 pm IST
Keywords: Indian Army   Army Day 2017   Army Chief   Gen Bipin Rawat   Buddy system   Chief of Army Staff   Social media   Buddy controversy   सेना प्रमुख   जनरल बिपिन रावत   लांस नायक   यज्ञ प्रताप   प्रेस कॉन्फ्रेंस   सेना दिवस  
फ़ॉन्ट साइज :
सोशल मीडिया सही मंच नहीं, शिकायत पेटी का इस्तेमाल करें: सेना प्रमुख बिपिन रावत नई दिल्ली: पिछले कुछ दिनों से सीमा पर तैनात जवानों के शिकायती वीडियो सामने आ रहे हैं. शुक्रवार को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने इस मुद्दे पर बात करते हुए कहा है कि जवानों को ऐसे मुद्दे सेना के भीतर ही उठाने चाहिए.

सेना प्रमुख ने अपनी पहली कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि 'जिस किसी को भी शिकायत है, वह मुझसे सीधे बात कर सकता है.'

गौरतलब है कि बीएसएफ जवान के एक वीडियो के सामने आने के बाद कुछ और जवानों ने भी तनख्वाह, खाने और पोस्टिंग के दौरान खराब प्रबंध के बारे में वीडियो पोस्ट किए हैं.

सेना प्रमुख ने कहा कि सेना मुख्यालयों पर शिकायत और सुझाव पेटी होती है और जवानों से निवेदन है कि वह उसका इस्तेमाल करें. उन्होंने यह भी कहा कि सोशल मीडिया ऐसे मुद्दों के निराकरण के लिए सही मंच नहीं हैं.

बता दें कि बड़े अफसरों की मनमानी और खराब सुविधाओं को लेकर पिछले कुछ दिनों में बीएसएफ और सीआरपीएफ के जवानों की शिकायत के बाद सेना का एक जवान भी सामने आया है.

हाल ही में एक और वीडियो आया जिसमें लांस नायक यज्ञ प्रताप ने अपने बड़े अफसरों पर खुद को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है.

सेना प्रमुख से पूछा गया कि कहीं ऐसा तो नहीं कि शिकायत करने की कड़ी में ही दिक्कत है इसलिए जवानों की समस्याएं ठीक से पहुंच नहीं पा रहीं और उन्होंने दूसरे मंच का सहारा लिया.

इस पर जनरल बिपिन रावत ने कहा कि सेना में हर बात संचार के जरिए ही जाती है. छुट्टी के बारे में भी सूचित किया जाता है. हो सकता है कि जवान ने अपनी समस्या के बारे में भी बताया हो लेकिन उनके ओहदेदार निराकरण न कर पाएं हों. ऐसे में जरूरी है कि जवान ऊंचे स्तर पर शिकायत करे. जब तक संचार की कड़ी खुली रहेगी, इस मामले पर कार्यवाही चलती रहेगी.

यह प्रेस कॉन्फ्रेंस, सेना दिवस के ठीक एक दिन पहले आयोजित की गई और इस मौके पर जनरल बिपिन रावत ने कहा कि 'मैं हर एक जवान को बताना चाहता हूं कि आप किसी भी ओहदे या आर्म्ड सर्विस के क्यों न हो, एक-एक जवान हमारे लिए अहमयित रखता है.'
अन्य थल सेना लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack