'फन एंड लर्न' रखेगा इंटरनेट सेवी बच्चों पर नजर

जनता जनार्दन संवाददाता , Jul 22, 2011, 18:15 pm IST
Keywords: Fun and Learn   Computer software   Monitor   Students   Activity   Internet   फन एंड लर्न   सॉफ्टवेयर   कम्प्यूटर   नजर   बच्चों पर   इंटरनेट सेवी   
फ़ॉन्ट साइज :
'फन एंड लर्न' रखेगा इंटरनेट सेवी बच्चों पर नजर भोपाल: अगर आपका बच्चा इंटरनेट का ज्यादा इस्तेमाल करता है और आपको आशंका है कि वह गलत साइट देखता है, मगर आप कुछ कर पाने की स्थिति में नहीं हैं तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है जो आपको 'तीसरी नजर' देगा और इंटरनेट पर की जाने वाली बच्चे की हर हरकतों की जानकारी उपलब्ध कराएगा।

प्रौद्योगिक के क्षेत्र में हो रहे नित नए बदलाव या यूं कहें कि विकास, कई समस्याओं को साथ लेकर आ रहा है। वर्तमान दौर में विकास के परिचायक हैं कम्प्यूटर व इंटरनेट। लेकिन अब यही इंटरनेट नई पीढ़ी के एक वर्ग को भटकाव के रास्ते पर भी ले जा रहा है। इस बात को अभिभावक भी जानते हैं, मगर क्या करें क्योंकि उनके पास इसे पर लगाम लगाने का कोई तरीका नहीं है।

अभिभावक अपने बच्चे द्वारा इंटरनेट पर की गई हरकतों को जान सकें, इसके लिए भोपाल के शॉजी जॉन ने एक सॉफ्टवेयर तैयार किया है, जिसे नाम दिया है 'फन एंड लर्न'। इस सॉफ्टवेयर के सम्बंधित कम्प्यूटर पर अपलोड होने पर बच्चा निर्धारित समय 15 मिनट तक ही मनचाही साइट देख सकेगा या गेम खेल सकेगा। तय वक्त गुजर जाने के बाद वह साइट व गेम खुलेगा ही नहीं, अगर बच्चा उसे आगे जारी रखना चाहता है तो उसे आने वाले सवालों का जवाब देना होगा, ये सवाल उसके पाठ्यक्रम से सम्बंधित होंगे।

जॉन बताते हैं कि इस सॉफ्टवेयर के जरिए पहली से लेकर 12वीं तक के पाठयक्रम को भी कम्प्यूटर पर अपलोड किया जाता है। जब बच्चा साइट देखते या गेम को खेलते हुए निर्धारित समय को पार करने पर पूछे गए सवालों का जवाब दे देता है तो उसे डॉलर मिलते हैं। इन अर्जित किए गए डॉलर से भी वह आगे तय समय तक ही मनचाही साइट देख या गेम खेल सकता है।

इस तरह बच्चे को मनपसंद साइट को देखने के लिए परीक्षा पास करना होगी तभी तो उसे डॉलर मिलेंगे। इस तरह पढ़ाई करते जाइए और खेलते जाइए।

जॉन द्वारा बनाए गए इस सॉफ्टवेयर की एक और खूबी है। सम्बंधित कम्प्यूटर पर बच्चे ने इंटरनेट का कितना इस्तेमाल किया है इसकी जानकारी अभिभावक की मेल आईडी पर आ जाएगी। इसमें यह ब्योरा होगा कि बच्चे ने कितनी देर कौन-सी साइट देखी है। इस तरह अभिभावक का वह काम आसान हो जाएगा जो अभी उन्हें परेशान किए रहता है कि उनका बच्चा इंटरनेट पर क्या करता है।

जॉन बताते हैं कि यह सॉफ्टवेयर अभिभावकों के लिए एक शक्तिशाली शस्त्र है जिसके माध्यम से वे अपने बच्चे में शैक्षणिक श्रेष्ठता लाने के साथ अच्छे संस्कार व चरित्र निर्माण कर सकते हैं। इस सॉफ्टवेयर को बनाने में जॉन को लगभग सात वर्षो का समय लगा। अब यह सॉफ्टवेयर मूर्तरूप ले चुका है।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack