Saturday, 28 March 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

अशोक नवरत्न बने 'अखबार बचाओ मंच' के अध्यक्ष, दिल्ली में स्वागत

जनता जनार्दन संवाददाता , Nov 05, 2016, 20:58 pm IST
Keywords: Ashok Navratan   DAVP   Akhbar Bachao Manch   Save newspaper forum   DAVP advertising policy   अखबार बचाओ मंच   अशोक नवरत्न   डीएवीपी   विज्ञापन नीति  
फ़ॉन्ट साइज :
अशोक नवरत्न बने 'अखबार बचाओ मंच' के अध्यक्ष, दिल्ली में स्वागत नई दिल्लीः केंद्र सरकार के सूचना विभाग के भ्रष्ट अफसरों के उकसावे पर छोटे अखबारों और भारतीय वेबसाइटों को खत्म करने वाली नीतियों के विरोध को गति देने के लिए बने 'अखबार बचाओ मंच' ने मथुरा और अलीगढ़ के प्रकाशक, संपादक अशोक नवरत्न को अपना अध्यक्ष चुना है.

नवनियुक्त अध्यक्ष अशोक नवरत्न का दिल्ली आगमन पर जोरदार स्वागत किया गया तथा अखबारों के हितों की इस मुहिम को आगे बढाते हुए कई मीटिंग आयोजित की गई. मंच की कोर कमेटी के सदस्यों ने उन्हें फूलों के गुलदस्ते भेंट कर स्वागत किया.

नवरत्न ने इस अवसर पर कहा कि लघु और मझोले अखबार लोकतंत्र का अहम हिस्सा हैं. सरकार द्वारा बनाई गई डीएवीपी विज्ञापन नीति इनके हितों पर कुठाराघात कर रही है. डीएपीवी खुद कई मामलों में सरकार की बनाई गई नीति का पालन नहीं कर रही है और लघु और मझोले अखबारों को विज्ञापनों में उनका हक नहीं मिल रहा है.

उन्होंने कहा कि अखबार बचाओ मंच के विधिवत गठन से इस मुहिम को एक नई दिशा मिलेगी तथा अखबारों के हितों के प्रति हमारी जिम्मेदारी भी बढेगी. हम देश के 8 हजार से ज्यादा अखबारों से जुडे लाखों परिवारों के हितों व उनकी रोजी-रोटी की लडाई लड़ रहे हैं. सरकार निश्चय ही हमारी परेशानियों को समझेगी तथा नई विज्ञापन नीति में जल्द राहत देगी.

नवनियुक्त अध्यक्ष का मंच की ओर से प्रेस क्लब आफ इंडिया और में जोरदार स्वागत किया गया। उनका पवन सहयोगी, वसीउद्दीन सिद्दीकी, अर्जुन जैन, मनोज पाठक, विष्णु पुरोहित, संजय शर्मा, सीताराम तिवारी व आशीष सक्सैना आदि ने गुलदस्ते भेंटकर व माला पहनाकर उनका स्वागत किया. इसके बाद उन्होने कोर कमेटी व अन्य सदस्यों के साथ कई मीटिंग की. मंच का प्रतिनिधिमंडल डीएवीपी व सूचना प्रसारण मंत्रालय भी गया.

इंडियन डिजीटल न्यूज मीडिया एसोसिएशन ने भी अशोक नवरत्न को बधाई देते हुए उनकी मुहिम में साथ देने का भरोसा दिलाया है.
अन्य देश लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack