Wednesday, 01 April 2020  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

भारत नेपाल सांझी विरासत का हिस्साः राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का काठमांडू में शानदार सम्मान

भारत नेपाल सांझी विरासत का हिस्साः राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का काठमांडू में शानदार सम्मान काठमांडूः राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी दो दिवसीय दौरे पर जब पड़ोसी देश नेपाल पहुंचे तो उनका जगह -जगह सम्मान हुआ. अपने सम्मान से अभिभूत डॉक्टर मुखर्जी ने नेपाल और भारत की सांझी विरासत को याद किया. 

मुखर्जी के सम्मान में काठमांडू म्यूनिसिपल सिटी की ओर से उनका नागरिक अभिनंदन किया गया।

इस अवसर राष्ट्रपति ने कहा कि काठमांडू केवल नेपाल की राजनीतिक राजधानी ही नहीं बल्कि हमारे क्षेत्र के लोगों के लिए आध्यात्मिक केंद्र भी है। मेरी नेपाल यात्रा एक प्रकार की तीर्थ यात्रा है। भारत और नेपाल के बीच समझदारी और सहयोग को प्रोत्साहित करना एक मिशन है। विश्व में भारत और नेपाल की तरह कोई दो ऐसे देश नहीं जिनकी संस्कति साझा रही और सीमाएं खुली हैं। भारत की सरकार तथा भारत की जनता इस संबंध को प्रगाढ़ बनाने के लिए संकल्पबद्ध है।

राष्ट्रपति ने कहा कि भारत अपने स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान नेपाल के नेताओं और नेपाल की जनता से प्राप्त समर्थन को हृदय से याद करता है। भारत नेपाल के संविधान को लागू करने के महत्वपूर्ण कार्य में नेपाल की जनता और नेपाल की सरकार की सफलता की कामना करता है।

राष्ट्रपति ने कहा कि दो विकासशील अर्थव्यवस्था के रूप में भारत तथा नेपाल अपने देशों तथा क्षेत्र की आर्थिक समृद्धि और सतत विकास का विजन साझा करते हैं। भारत मानता है कि हमारी जनता की आकांक्षाओं और उन्हें गुणवत्ता संपन्न जीवन देने के लिए आर्थिक प्रगति , शांति और स्थिरता को प्रोत्साहित करने पर फोकस करना चाहिए। ”

भारत पशुपतिनाथ मंदिर के निकट के घाटों के कायाकल्प और उन्नयन में सहायता देगा

राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी 03 नवंबर, 2016 को पशुपतिनाथ मंदिर का दर्शन करने गए। पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन के बाद राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने मंदिर की आगंतुक पुस्तिका में लिखा, “ उत्कृष्ट, सांस्कृतिक, धार्मिक तथा एतिहासिक महत्व के पवित्र पशुपतिनाथ मंदिर में एक बार फिर आकर मुझे अपार हर्ष हुआ।

मैं विशेष पूजा में भाग लेकर आनंदित हुआ और मेरी यात्रा के लिए किए गए प्रबंधों के लिए मंदिर के ट्रस्ट को धन्यवाद।

भारत सरकार नेपाल-भारत मैत्री पशुपतिनाथ धर्मशाला परियोजना की स्थापना में सहायता देगी। यह परियोजना लागू की जा रही है। मुझे अपनी राजकीय यात्रा के दौरान यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि भारत सरकार मंदिर क्षेत्र के आसपास के घाटों के कायाकल्प और उन्नति में सहायता देगी।

मैं भारत और नेपाल के श्रृद्धालुओं के पूजनीय पशुपतिनाथ मंदिर के संरक्षण में किए जा रहे प्रयासों के लिए पशुपतिनाथ क्षेत्र विकास न्यास को शुभकामना देता हूं ”

काठमांडू विश्वविद्यालय ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को डॉक्टरेट की मानद उपाधि दी

काठमांडू विश्वविद्यालय ने आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को डॉक्टरेट की मानद उपाधि दी। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कुलपति डॉ रामाकंठ मकाजू श्रेष्ठ, सीनेट के सदस्यों और काठमांडू विश्वविद्यालय की फैकल्टी को धन्यवाद दिया। राष्ट्रपति ने कहा कि मैं मित्रता के इस भाव प्रदर्शन को मूल्यवान समझते हुए इसे भारत की जनता की ओर से स्वीकार करते करता हूं।

राष्ट्रपति ने काठमांडू विश्वविद्यालय की रजत जयंति की बधाई देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय ने 25 वर्षों की कम अवधि में नेपाल में उच्च शिक्षा के केंद्र के रूप में अपने आप को स्थापित कर लिया है और कला-विज्ञान, इंजीनियरिंग, चिकित्सा, प्रबंधन तथा कानून में पाठ्यक्रम चला रहा है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय का इतिहास शानदार रहा है और यहां नेपाल और पडोस के विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करने आते हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि गुणवत्ता संपन्न शिक्षा तथा कौशल उद्देश्य के साथ काठमांडू विश्वविद्यालय में क्षेत्र का श्रेष्ठ अकादमिक केंद्र बनने की क्षमता है।

राष्ट्रपति ने कहा कि आज विश्व स्तरीय विश्वविद्यालय बनाने की आवश्यकता है। एक समय था जब इस क्षेत्र में तक्षशिला और नालंदा जैसे शिक्षा केंद्र थे जिसमें पूरी दुनिया से लोग पढ़ने आते थे। इस क्षेत्र के विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों और शिक्षकों की प्रतीभा काफी है लेकिन विश्व रेकिंग में काफी पीछे हैं। अनुसंधान और नवाचार के जरिये यह स्थिति बदली जा सकती है। राष्ट्रपति ने इस दिशा में काठमांडू विश्वविद्यालय द्वारा उठाए जा रहे आवश्यक कदमों पर प्रशंसता व्यक्त की।
अन्य पास-पड़ोस लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack