उरी हमलाः अभी भी असमंजस में प्रधानमंत्री मोदी, पर पाकिस्तान को कड़ा जवाब मिले की मांग बढ़ी

उरी हमलाः अभी भी असमंजस में प्रधानमंत्री मोदी, पर पाकिस्तान को कड़ा जवाब मिले की मांग बढ़ी नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उरी में हुए घातक आतंकवादी हमले पर शीर्ष मंत्रियों और अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की. गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, वित्त मंत्री अरूण जेटली, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सैन्य प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग के अलावा कई वरिष्ठ अधिकारियों ने इस बैठक में हिस्सा लिया। उरी में ब्रिगेड मुख्यालय पर हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को कश्मीर घाटी में मौजूदा जमीनी हालात की जानकारी दी।

सूत्रों के मुताबिक बैठक में पाकिस्तान को अंतर्रराष्ट्रीय मंच पर राजनयिक रूप से अलग-थलग करने की कोशिश की जाएगी। अगर जरूरत पड़ी तो अंतर्राष्ट्रीय जगत के सामने सबूत भी पेश किए जाएंगे.

सूत्रों के मुताबिक उरी हमले में पाकिस्तान का हाथ होने के सबूत सामने आए हैं. आतंकियों के कब्जे से जीपीएस ट्रैकर मिला है जिसका स्टार्टिंग प्वाइंस पाकिस्तान है। इसके अलावा इनके पास से पश्तो साहित्य और पाकिस्तानी सेना के चिह्न लगे हथियार बरामद हुए हैं।

वहीं उरी में हुए आतंकी हमले के मद्देनजर  जम्मू-कश्मीर , खासकर उसके सीमावर्ती इलाकों की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और देश के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने आज बैठक की। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित दोभाल, सैन्य प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग, गृह मंत्रालय एवं रक्षा मंत्रालय और अर्धसैन्य बलों के शीर्ष अधिकारियों और खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों ने कश्मीर घाटी और नियंत्रण रेखा की हालिया स्थिति पर आयोजित इस बैठक में हालात की जानकारी दी।

पर्रिकर और जनरल सुहाग ने उरी के आतंकी हमले की पृष्ठभूमि में कल कश्मीर का दौरा किया था। इस हमले में 18 जवान (एक घायल जवान आज शहीद) शहीद हुए हैं। सूत्रों ने कहा कि सेना के ब्रिगेड मुख्यालय पर हुए आतंकी हमले से उपजी नई चुनौतियों से निपटने की संभावित रणनीतियों पर भी बैठक में चर्चा हुई। यह मुख्यालय नियंत्रण रेखा के पास स्थित है। अपनी श्रीनगर यात्रा को स्थगित करने वाले केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने भी इस बैठक में शिरकत की।

बैठक के बाद  इसमें हुई बातचीत और कश्मीर के हालात की जानकारी पीएम नरेंद्र मोदी को देने के लिए राजनाथ पीएम आवास रवाना हो गए। उनके साथ पर्रिकर भी थे। इनके पीएम आवास 7आरसीआर में पहुंचते ही यहां पीएम की अगुवाई में बैठक का एक और दौर शुरू हो गया। बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली और सेनाध्यक्ष दलबीर सुहाग भी मौजूद थे।

इससे पहले आज रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और उन्हें हालात की जानकारी देते हुए एक रिपोर्ट सौंपी। बताया जा रहा है कि तमाम रिपोर्ट के बाद सरकार पाकिस्तान से निपटने के लिए आगे की रणनीति तय करेगी।

वहीं आज ही गृहसचिव राजीव महर्षि कश्मीर दौरे पर गए हैं। वह यहां सुरक्षा स्थिति का जायजा लेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इस दौरान उनके साथ राज्य सरकार के शीर्ष पुलिस अधिकारी भी रहेंगे। जम्मू-कश्मीर के उरी में आतंकवादी हमले और गृह मंत्री राजनाथ सिंह के निर्देशों के बाद महर्षि श्रीनगर जा रहे हैं।

उरी अटैक के बाद कार्रवाई की अटकलें तेज, क्या आतंकी शिविर बनेंगे निशाना?

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने इस हमले के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि पाकिस्तान को अलग-थलग किया जाना चाहिए। गृह सचिव राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और राज्यपाल एन एन वोहरा से भी मुलाकात करेंगे। महर्षि राज्य सरकार के अधिकारियों, सेना, पुलिस और अर्धसैनिक बलों के अधिकारियों के साथ सिलसिलेवार बैठकें करेंगे।

मोदी ने दिया भरोसा, उरी हमले के पीछे जो भी हैं बच नहीं पाएंगे

रविवार को रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर श्रीनगर पहुंचे थे। उन्होंने हमले में जख्मी जवानों से की मुलाकात और सेना को हमले के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग और सेना के अन्य शीर्ष अधिकारियों ने उन्हें आतंकवादी हमले का ब्योरा दिया। रक्षा सूत्रों का कहना है कि चारों आतंकी विदेशी थे और वे जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े थे।
अन्य सुरक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack