Monday, 25 January 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

प्रकाश जावडेकर का नया ज्ञान, नेहरू-पटेल-सुभाष चढ़े थे फांसी पर

जनता जनार्दन संवाददाता , Aug 23, 2016, 17:33 pm IST
Keywords: Prakash Javadekar   Tiranga Yatra   Jawaharlal Nehru   Sardar Vallabhbhai Patel   Netaji Subhas Chandra Bose   प्रकाश जावडेकर   पंडित नेहरू   सरदार पटेल   तिरंगा यात्रा  
फ़ॉन्ट साइज :
प्रकाश जावडेकर का नया ज्ञान, नेहरू-पटेल-सुभाष चढ़े थे फांसी पर छिंदवाड़ा: ऐसा लगता है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता और देश के शिक्षा मंत्री प्रकाश जावडेकर को इतिहास की जानकारी कम है. ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि एक वीडियों के सामने आने के बाद ऐसा कहा जाने लगा है.

मध्यप्रदेश के छिंदवाडा में तिरंगा यात्रा के लिए पहुंचे जावडेकर ने पंडित नेहरू और सरदार पटेल को शहीद बताकर लोगों को चौंका दिया. उन्होंने यह तक कह दिया कि पंडित नेहरू और सरदार पटेल आजादी के लिए फांसी पर झूल गए थे, हालांकि जावडेकर ने अपने भाषण में भगत सिंह, राजगुरू जैसे कुछ ऐसे शहीदों के भी नाम लिए जिन्हें आजादी की लड़ाई में फांसी हुई थी.

कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता सेनानियों ने कई वर्षों तक लड़ाई लड़ी तब जाकर हमें आजादी मिली. इसके लिए कई लोगों शहादत देनी पड़ी. इसी भाषण में जावडेकर ने सुभाष चंद्र बोस को भी शहीदों में शामिल कर दिया जबकि सरकार अभी तक नेताजी की मौत पर खामोश बनाए हुए है. सरकार की ओर से पुष्टि नहीं हुई है कि नेताजी जीवित हैं या नहीं.

आपको बता दें कि सोमवार को जावड़ेकर छिंदवाड़ा में तिरंगा यात्रा में शामिल होने पहुंचे थे और स्कूटी चलाते हुए वे यात्रा में निकले. वे हेलमेट पहने थे लेकिन उस यात्रा में बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता भी थे जिन्होंने बिना हेलमेट के ही तिरंगा यात्रा में शिरकत की.इस कार्यक्रम में गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी जावड़ेकर के साथ पहुंचे थे.

- बता दें कि देश के पहले पीएम पंडित जवाहर लाल नेहरू का निधन 1964 में हुआ था, तब वे 74 साल के थे।
- जबकि पहले होम मिनिस्टर सरदार पटेल का निधन 1950 में 75 साल के उम्र में हुआ था।
- दूसरी ओर, नेताजी के बारे में कहा जाता है कि 1945 में ताईवान में हुए प्लेन क्रैश के बाद वे अचानक गायब हो गए थे।
- जावड़ेकर के बयान में शामिल सिर्फ भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव को 1931 में अंग्रेज सरकार ने फांसी पर लटकाया था।
अन्य राष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack