Wednesday, 11 December 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

भाजपा को एकमात्र विकल्प मान रहे असम वासी: सोनोवाल

भाजपा को एकमात्र विकल्प मान रहे असम वासी: सोनोवाल नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की असम इकाई के नवनियुक्त अध्यक्ष सर्बानंद सोनोवाल का मानना है कि असम के लोगों को लगता है कि केवल भाजपा ही राज्य का तेजी से विकास कर सकती है। लोग कांग्रेस सहित सभी पार्टियों को आजमा चुके हैं। सोनोवाल (53) ने डिब्रूगढ़ से विशेष बातचीत में कहा, असम के लोगों का भाजपा में पूर्ण विश्वास है।

वे जानते हैं कि केवल भाजपा में ही राज्य को तेजी से विकास के रास्ते पर ले जाने की क्षमता है। असम के लोग कांग्रेस और असम गण परिषद सहित सभी पार्टियों को आजमा चुके हैं और उन्हें लगता है कि उनके साथ धोखा हुआ है। केंद्रीय खेल मंत्री सोनोवाल को शनिवार को असम भाजपा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया।

सोनोवाल ने कहा कि राज्य की गोगोई सरकार लोगों को बेवकूफ बना रही है और कोष का दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने कहा, कांग्रेस और असम गण परिषद की सरकारें असम के लोगों की जिंदगी में कोई नजर आने वाला बदलाव नहीं कर सकी हैं। उन्होंने कहा कि असम के हर तबके से राय लेने के बाद भाजपा राज्य में कांग्रेस सरकार को सत्ता से बेदखल करने के बारे में अपनी रणनीति बनाएगी।

सोनोवाल की नियुक्ति को भाजपा के लिए बिहार हार से ली गई सीख के रूप में देखा जा रहा है। बिहार में भाजपा ने किसी को मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं घोषित किया था और एक राय यह भी है कि इससे पार्टी को चुनाव में नुकसान हुआ। सोनोवाल 2014 में लोकसभा चुनाव के समय असम भाजपा के अध्यक्ष थे। तब राज्य की 14 संसदीय सीटों में से सात पर भाजपा जीती थी।

सोनोवाल को अब राज्य विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रबंधन प्रभारी भी बनाया गया है। असम की मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल अगले साल जून में समाप्त हो रहा है। भाजपा ने असम के लिए मिशन-84 का नारा दिया है। राज्य में विधानसभा की 126 सीटें हैं। पार्टी का मिशन इनमें से कम से कम 84 सीटें जीतने का है। सोनोवाल ने कहा, असम के लोगों का पक्का विश्वास है कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में केवल भाजपा ही बदलाव ला सकती है।

भाजपा के नेताओं ने बताया कि 27 नवंबर को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की रैली के साथ भाजपा राज्य में अपने अभियान की शुरुआत करेगी। उल्फा महासचिव अनूप चेतिया के भारत प्र्त्यपण से होने वाले चुनावी फायदे पर सीधे कुछ न कहते हुए सोनोवाल ने कहा कि चेतिया शांति प्रक्रिया में बड़ी भूमिका निभा सकता है।
अन्य राजनीतिक दल लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
सप्ताह की सबसे चर्चित खबर / लेख
  • खबरें
  • लेख
 
stack