Tuesday, 17 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

पिछले 6 सालों में रेलगाड़ी कहाँ कब-कब टकराई

जनता जनार्दन संवाददाता , Jul 07, 2011, 17:20 pm IST
Keywords: Data   आंकड़ा   Train accidents   बड़ी रेल दुर्घटनाएं   Train accidents in India   भारत में रेल दुर्घटनाएं   Past years     
फ़ॉन्ट साइज :
पिछले 6 सालों में रेलगाड़ी कहाँ कब-कब टकराई

नई दिल्ली: दुनिया के सबसे लम्बे रेल ट्रैक के रखरखाव के साथ ही करोड़ों लोगों को उनके गंतव्य तक पहुँचाने वाली भारतीय रेल की एक रेलगाड़ी जब उत्तर प्रदेश के कांशीराम नगर जिले में बुधवार देर रात एक मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर बस से टकराई तो  38 लोग मारे गए। जबकि एक महीने पहले ही भारत ने अंतर्राष्ट्रीय मंच पर यह आश्वासन दिया था कि ऐसे चौराहों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे।

चौराहों को पार करने के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के मद्देनजर नौ जून को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जागरुकता दिवस मनाया जाता है। भारतीय रेलवे ने कहा था कि लोगों को ऐसे चौराहे पार करने के लिए शिक्षित किया जाएगा। 

रेल मंत्रालय ने बताया था कि इस वक्त देश में 32,694 क्रॉसिंग हैं, जिनमें से 14,853 मानवरहित हैं। यहां दुर्घटनाओं को रोकने के लिए लोगों को समाचार पत्रों, टेलीविजन, रेडियो, पोस्टर और लघु फिल्मों के जरिये आगाह किया जाएगा। लेकिन मानवरहित क्रॉसिंग पर होने वाले हादसे रुकने का नाम नहीं ले रहे।

इस साल मई में भी बिहार के मधुबनी जिले में आनंद विहार-जयनगर गरीब रथ की एक जीप से टक्कर हो जाने के कारण 18 लोगों की मौत हो गई थी।

रेलवे बोर्ड के पूर्व सदस्य विजय कुमार दत्त के अनुसार, मानवरहित क्रॉसिंग पर कर्मचारियों की तैनाती में मुख्य बाधा आर्थिक है। देश में हजारों ऐसे क्रॉसिंग हैं, जहां कर्मचारियों की तैनाती पर बड़ा खर्च आएगा। इसे लेकर प्राथमिकता तय करने की जरूरत है।

पिछले छह वर्षो में देश में हुई बड़ी रेल दुर्घटनाएं इस प्रकार हैं..

4 फरवरी, 2005 : नागपुर में एक शादी समारोह से लौट रहे ट्रैक्टर के रेलगाड़ी से टकरा जाने से 52 लोगों की मौत हो गई। यह हादसा एक मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर हुआ था।

1 दिसम्बर, 2006 : बिहार में के भागलपुर जिले में 150 वर्ष पुराने एक पुल का हिस्सा गिरने से उसके ऊपर जा रही रेलगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस हादसे में 35 लोग मारे गए थे और 17 घायल हुए थे।

16 अप्रैल, 2006 : तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में थिरुमतपुर के पास मानव रहित क्रासिंग के पास हुए हादसे में कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई थी।

23 फरवरी, 2009 : उड़ीसा के धांगीरा इलाके में एक वैन और रेलगाड़ी की टक्कर होने से 14 लोगों की मौत हो गई। सभी एक शादी समारोह से लौट रहे थे।

14 नवम्बर, 2009 : जयपुर के निकट बस्सी कस्बे के पास दिल्ली जाने वाली मांडूरी एक्सप्रेस के पटरी से उतर जाने से सात लोगों की मौत हो गई।

21 अक्टूबर, 2009 : उत्तर प्रदेश के बंजाना में गोवा एक्सप्रेस और मेवाड़ एक्सप्रेस के बीच टक्कर हो जाने से उसमें सवार कम से कम 22 लोगों की मौत हो गई।

9 मार्च, 2010 : उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में उटारीपुरा के निकट एक मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर एक ट्रैक्टर-ट्रॉली और रेलगाड़ी के बीच टक्कर हो जाने से कम से कम नौ लोगों की मौत हो गई।

19 जुलाई, 2010 : पश्चिम बंगाल के सैथिया में वनांचल एक्सप्रेस और उत्तरबंग एक्सप्रेस के बीच टक्कर हो जाने से कम से कम 56 लोगों की मौत हो गई।

3 जून, 2010 : तमिलनाडु में एक मिनी बस और रेलगाड़ी के बीच टक्कर हो जाने से पांच लोगों की मौत हो गई।

20 सितम्बर, 2010 : एक रेलगाड़ी और एक मालगाड़ी के बीच टक्कर हो जाने से कम से कम 21 लोगों की मौत हो गई और 53 घायल हो गए। यह हादसा मध्य प्रदेश के भदरवाह रेलवे स्टेशन पर हुआ था।

22 मई, 2010 : बिहार के मधुबनी जिले में एक मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर हुए रेल हादसे में कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई।

29 जनवरी, 2011 : कानपुर के भोगनीपुर तहसील में एक मानवरहित रेलवे क्रासिंग के पास जनसाधारण एक्सप्रेस ने एक ट्रैक्टर-ट्रॉली को टक्कर मार दी जिससे दो लोगों की मौत हो गई।

वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack