Friday, 20 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

सोशल मीडिया में दुनिया बदलने की क्षमता: पीएम मोदी

सोशल मीडिया में दुनिया बदलने की क्षमता: पीएम मोदी सिलिकॉन वैली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि डिजिटल इंडिया भारत में ऐसे स्तर का बदलाव लाने का एक उद्यम है जिसकी तुलना दुनिया में नहीं है। इसमें विकास को वास्तव में समावेशी बनाने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया का निर्माण डिजिटल विभाजन को दूर किए बिना नहीं हो सकता।

मोदी ने कहा, कारपोरेट से लेकर युवा पेशेवर तक प्रत्येक भारत की कहानी का हिस्सा बन सकते हैं। इस मौके पर एडॉब के सीईओ शांतनु नारायण, माइक्रोसाफ्ट के सीईओ सत्य नाडेला, गूगल के सीईओ सुंदर पिचई और क्वॉलकॉम के कार्यकारी चेयरमैन पॉल जैकब्स मौजूद थे।

प्रधानमंत्री ने यहां सिलिकॉन वैली के मुख्य कार्यकारियों (सीईओ) को संबोधित करते हुए अपनी महत्वाकांक्षी डिजिटल इंडिया पहल के बारे में कहा, यह भारत में ऐसे स्तर का बदलाव लाने का उद्यम है जिसकी संभवत: मानव इतिहास में तुलना नहीं हो सकती। तीन दशक से अधिक समय में सिलिकन वैली आने वाले मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार कागजी दस्तावेज रहित (पेपरलेस) लेनदेन चाहती है।

उन्होंने कहा, विभिन्न विभागों में दस्तावेजों को साझा करने के लिए हम प्रत्येक नागरिक को डिजिटल लॉकर उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने दर्शकों की तालियों के बीच कहा, माईगव.इन के बाद हमने नरेंद्र मोदी मोबाइल एप लॉन्च किया है। इससे मैं लोगों के अधिक करीब रह पा रहा हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा, मैं अपने सवा अरब नागरिकों को डिजिटल रूप से जोड़ना चाहता हूं। उन्होंने सरकार द्वारा ब्रॉडबैंड संपर्क के लिए उठाए कदमों की भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मैं प्रौद्यागिकी को लोगों को सशक्त करने के तरीके और उम्मीद तथा अवसर के बीच के अंतर को कम करने के माध्यम के रूप में देखता हूं।  

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, इस डिजिटल दुनिया में हमारे पास लोगों के जीवन में ऐसा बदलाव लाने का अवसर है जिसकी दो दशक पहले तक कल्पना भी नहीं की जा सकती थी। मोदी ने कहा कि आज जिस तेजी से लोग डिजिटल प्रौद्योगिकी को अपना रहे हैं उससे पीढ़ी, शिक्षा, भाषा और आय जैसे क्षेत्रों में परंपरागत रूढ़िवादिता समाप्त हो रही है। उन्होंने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना है कि प्रौद्योगिकी कम लागत में पहुंच में हो और मूल्यवर्धन करे। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार साइबर सुरक्षा और बौद्धिक संपदा को शीर्ष प्राथमिकता देती है।
अन्य अंतरराष्ट्रीय लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack