Friday, 20 September 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

दीप स्तंभों को अब आनलाइन भुगतान किया जाएगा: नितिन गडकरी

दीप स्तंभों को अब आनलाइन भुगतान किया जाएगा: नितिन गडकरी नयी दिल्ली: देशभर में 198 दीप स्तंभों (लाइट हाउस) को ऑनलाइन भुगतान किया जाएगा। ये दीप स्तंभ समुद्री जहाजों को दिशा उपलब्ध कराने में मदद करते हैं। पोत परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज यह जानकारी दी।

मंत्री ने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल इंडिया अभियान के अनुरूप है। उन्होंने कहा कि करीब 1,300 द्वीपों एवं सभी दीप स्तंभों को पर्यटन स्थलों में तब्दील करने के भी प्रयास किए जा रहे हैं जिससे इनकी क्षमताओं का पूर्ण दोहन किया जा सके।

गडकरी ने कहा, अभी तक, पोतों को 1927 के पुराने कानून के मुताबिक दीप स्तंभों द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली दिशासूचक मदद के लिए नकद भुगतान करना पड़ता था जिससे पोतों को दो-तीन दिनों तक खड़ा रखना पड़ता था।

अब ऑनलाइन प्रणाली से न केवल विदेशी जहाजों के सामने आने वाली दिक्कतें दूर होंगी, बल्कि कारोबार भी आसान होगा। पोत परिवहन मंत्रालय ने धन का ऑनलाइन संग्रह करने के लिए सिंडिकेट बैंक के साथ गठबंधन किया है। भारतीय नौवहन निगम (एससीआई) ने इस तरह का पहला आनलाइन भुगतान किया।

गडकरी ने कहा कि पर्यटन के लिहाज से विकसित किए जाने वाले द्वीपों में जल क्रीड़ा, रिजार्ट्स, लाइट एंड साउंड शो जैसी सुविधाएं होंगी जिनसे पर्यटक आकर्षित होंगे। उन्होंने कहा कि महाबलीपुरम, चेन्नई, कन्याकुमारी, रामेश्वरम, कोणार्क और कनहोजी आंगरे सहित 15 दीप स्तंभों की पहचान की गई है और आईएलएंडएफएस ने संभाव्य अध्ययन पूरा कर लिया है।
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack