Wednesday, 03 March 2021  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

आठवीं बार भारतीय अमेरिकी बच्चों ने जीती स्पेलिंग बी कॉम्पिटीशन

आठवीं बार भारतीय अमेरिकी बच्चों ने जीती स्पेलिंग बी कॉम्पिटीशन वाशिंगटन: भारतीय मूल के अमेरिकी बच्चों ने वार्षित‘स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी’ प्रतियोगिता में अपना वर्चस्व बरकरार रखते हुए लगातार आठवें साल यह प्रतिष्ठित प्रतियोगिता जीत ली।

वन्या शिवशंकर और गोकुल वेंकटेचलम को सह-विजेता घोषित किया गया। यह लगातार दूसरी बार है, जब भारतीय-अमेरिकियों ने ऐसी साझा जीत हासिल की है।

वर्ष 2014 में श्रीराम हथवार और अंसुन सुजॉय को साझा विजेता घोषित किया गया था। ओकलाहोमा के भारतीय अमेरिकी कोल शेफर-रे को तीसरा स्थान मिला।

यह लगातार आठवां साल है, जब भारतीय मूल के अमेरिकियों ने इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता को जीता है। पिछले 16 वर्ष में यह भारतीय अमेरिकियों को मिली 13वीं जीत है।

वन्या ने यह पुरस्कार अपनी दिवंगत दादी को समर्पित करते हुए कहा, ऐसा लगता है मानो एक सपना सच हो गया हो। मैं लंबे समय से इसे चाहती थी। स्पेलिंग बी में पांचवीं और आखिरी बार भाग लेने वाली 13 वर्षीय वन्या कंसास से हैं और आठवीं की छात्रा हैं।

इस साल अंतिम चरण के 49 प्रतिभागियों में से 25 भारतीय मूल के अमेरिकी थे। अंतिम 10 प्रतिभागियों में सात भारतीय-अमेरिकी थे।

वन्या की बड़ी बहन काव्या ने वर्ष 2009 में यह प्रतियोगिता जीती थी। वन्या इससे पहले वर्ष 2010, 2012 (10वां स्थान), 2013 (पांचवां स्थान) और 2014 (13वां स्थान) में स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में हिस्सा ले चुकी हैं।

गोकुल इससे पहले वर्ष 2012 (10वां स्थान) और 2013 (19वां स्थान) में इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले चुके हैं।

वन्या को अभिनय के अलावा टुबा और पियानो बजाने का शौक है और उसने हाल ही में मिड अमेरिका म्यूजिक एसोसिएशन की ओर से दिया जाने वाला उत्कृष्ट पियानोवादक एवं जैज़ पियानोवादक का पुरस्कार जीता है।

सेंट लुइस मिसोरी में आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले 14 वर्षीय गोकुल ने कहा कि वह इस प्रतियोगिता के लिए पिछले कई वर्ष से कड़ी मेहनत कर रहा है।

उसका और स्पेलिंग का रिश्ता ठीक वैसा ही है, जैसा उसके आदर्श लीब्रोन जेम्स का बास्केटबॉल से है।

बास्केटबॉल खेलने के अलावा गोकुल को संगीत पसंद है। जब वह संगीत नहीं सुन रहा होता तब उसे किताबें पढ़ना और अपनी पसंदीदा फिल्म ‘एक्स मेन : डेज़ ऑफ फ्यूचर पास्ट’ देखना पसंद है। स्कूल में उसे गणित और अर्थशास्त्र विशेष तौर पर पसंद हैं।

पिछले कुछ वर्षों से भारतीय मूल के अमेरिकियों ने अपने प्रतिद्वंद्वियों के समक्ष इस प्रतियोगिता में कड़ी चुनौती पेश की है और अमेरिका में अयोजित होने वाली अधिकतर स्पेलिंग प्रतियोगिताओं में जीत हासिल की है।
अन्य शिक्षा लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack