Tuesday, 22 October 2019  |   जनता जनार्दन को बुकमार्क बनाएं
आपका स्वागत [लॉग इन ] / [पंजीकरण]   
 

'गर्भावस्था के समय उच्च रक्तचाप मां, बच्चे के लिए नुकसानदायक'

'गर्भावस्था के समय उच्च रक्तचाप मां, बच्चे के लिए नुकसानदायक' नई दिल्ली: लंबे समय से उच्च रक्तचाप की समस्या से पीड़ित महिलाएं दिल से जुड़ी विकृतियां वाले बच्चों को जन्म देने के बढ़ते खतरे का सामना कर रही हैं। विशेषज्ञों ने विश्व उच्च रक्तचाप दिवस से एक दिन पहले यह जानकारी दी और इस स्थिति के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए ठोस प्रयासों का आह्वान किया।

उच्च रक्तचाप गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में होनी वाली आम चिकित्सीय समस्या है और गर्भधारण के हर 100 में से तीन मामलों में इससे जनित जटिलताओं आती हैं। गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप के विकारों से मां एवं भ्रूण का स्वास्थ्य एवं मृत्युदर प्रभावित हो सकता है।

पटपड़गंज में स्थित मैक्स हॉस्पिटल के कार्डिएक कैथ लैब के सहायक निर्देशक एवं प्रमुख डॉ मनोज कुमार के अनुसार, ‘‘जब गर्भावस्था या 20 हफ्तों के गर्भ से पहले किसी महिला का रक्त चाप 140.90 मिलीमीटर ऑफ मरकरी से ज्यादा हो जाता है तो इसका मतलब है कि महिला लंबे समय से उच्च रक्तचाप से पीड़ित है।

उच्च रक्तचाप से पीड़ित महिलाओं की कोख से जन्मे बच्चों में जन्मजात विकृतियों का 50 प्रतिशत अधिक खतरा होता है।’’ विशेषज्ञों ने कहा कि विश्व उच्च रक्तचाप दिवस उच्च रक्तचाप के कम ज्ञात प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने का एक अच्छा मंच है ताकि सही एवं समय रहते बचाव संभव हो सके।
अन्य स्वास्थ्य लेख
वोट दें

क्या विजातीय प्रेम विवाहों को लेकर टीवी पर तमाशा बनाना उचित है?

हां
नहीं
बताना मुश्किल
 
stack